ताज़ा ख़बर

‘हर-हर मोदी’ नारे से खफा हुए शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती

नई दिल्ली। शिवनगरी काशी में ‘हर-हर मोदी’ नारेकी गूंज से विपक्षी पार्टियों के विरोध के बाद अब द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने भी इस पर आपत्ति जताई है। स्वरूपानंद सरस्वती ने हर हर मोदी नारे का विरोध करते हुए इसकी शिकायत बीजेपी के पैतृक संगठन आरएसएस के चीफ मोहन भागवत से की है। सूत्रों का कहना है कि मोहन भागवत ने भी स्वरूपानंद से बातचीत में माना कि ‘हर-हर मोदी’ ठीक नहीं है। स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा, ये नारे भगवान के लिए लगाए जाते हैं। ‘हर-हर मोदी’ से धर्म का अनादर होता है। व्यक्ति पूजा नहीं होनी चाहिए। शंकराचार्य का तर्क है कि हर हर गंगे गंगा की धारा को लेकर लगाया जाता है। इस नारे को किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं लगाया जा सकता। चुनावी फायदे के लिए ऐसे नारे लगाना धर्म का अनादर है। उधर, नरेन्द्र मोदी ने भी भाजपा कार्यकर्ताओं से ‘हर-हर मोदी’ नारा नहीं लगाने की अपील की है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: ‘हर-हर मोदी’ नारे से खफा हुए शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल