ताज़ा ख़बर

पीएम मोदी बोले- कुछ लोग निराशा फैलाते हैं, जरूरत पड़ने पर करेंगे सुधार

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली में इंस्टिट्यूट ऑफ कंपनीज सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) के गोल्डन जुबली समारोह के दौरान लोगों को संबोधित किया। यहां पीएम ने अर्थव्यवस्था को लेकर पिछले दिनों हुई आलोचना पर अपना पक्ष रखा। पीएम ने कहा कि नोटबंदी के बाद जीडीपी में कैश का अनुपात 9 प्रतिशत पर आ गया है। 8 दिसंबर 2016 से पहले यह 12 प्रतिशत था। पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकार में 6 वर्षों के दौरान 8 बार हुआ, जब जीडीपी 5.7 प्रतिशत या इससे कम थी। पहली बार नहीं हुआ है। पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोगों को निराशा फैलाए बिना नींद नहीं आती। कुछ लोगों की पहचान हमने कर ली है। कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि आने वाली तिमाहियों में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने 7.7 प्रतिशत की विकास दर का अनुमान लगाया है। उन्होंने कहा कि 3 वर्षों में हमने 7.5 प्रतिशत की औसत वृद्धि हासिल की है। हालांकि उन्होंने माना कि विकास दर अप्रैल से जून के बीच घटी है, लेकिन सरकार इसे दुरुस्त करने के लिए प्रतिबद्ध है। पीएम मोदी ने कहा कि पिछली सरकार में मुद्रास्फीति जीडीपी वृद्धि से अधिक थी, उस समय ऊंची महंगाई, राजकोषीय घाटा व चालू खाते का घाटा सुर्खियां बनते थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि दहाई अंक तक पहुंची मुद्रास्फीति घटकर तीन प्रतिशत से कम रह गई है, चालू खाते का घाटा कम होकर 2.5 प्रतिशत रह गया और राजकोषीय घाटा कम होकर 3.5 प्रतिशत पर आ गया। पीएम ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है, वित्तीय स्थिरता को ध्यान में रखते हुए सुधार प्रक्रिया जारी रहेगी। नए जीएसटी सिस्टम पर प्रधानमंत्री ने कहा कि जीएसटी परिषद से बाधाओं, तकनीकी दिक्कतों की समीक्षा करने को कहा गया है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार जीएसटी में किसी भी तरह की अड़चन को दूर करने के लिए बदलावों को तैयार है। पीएम ने यहा भी कहा कि चुनावी फायदे के लिए ‘‘रेवड़ियां’’ बांटने की बजाए उन्होंने सुधार एवं आम लोगों के सशक्तिकरण का कठिन रास्ता चुना है और वह ‘‘अपने वर्तमान के लिए देश का भविष्य दांव पर नहीं लगा सकते।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को मजबूत बनाने का उन्होंने कठिन रास्ता चुना है जो सुधार और आम लोगों के सशक्तिकरण पर बल देने वाला है। इस मार्ग पर चलना कठिन है और मेरी आलोचना भी हो रही है। साभार जनसत्ता
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: पीएम मोदी बोले- कुछ लोग निराशा फैलाते हैं, जरूरत पड़ने पर करेंगे सुधार Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल