ताज़ा ख़बर

दरौंदा से जितेन्द्र, रघुनाथपुर से मनोज और जीरादेई से बिट्टू पर दांव लगा सकती है भाजपा!

सीवान। बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा होते ही टिकट के दावेदारों की दौड़ ने गति पकड़ ली है। वैसे तो संबंधित सीटों से टिकट की चाह रखने वाले नेता पहले से ही अपनी सेटिंग-गेटिंग में लगे हैं, पर अब चुनाव की तिथि घोषित होते ही वे अपने प्रयासों को फाइनल टच देने की कोशिश में हैं। इसी क्रम में यदि देश के पहले राष्ट्रपति डा.राजेन्द्र प्रसाद के गृह जिला सीवान की चर्चा करें तो पता चलेगा कि यहां भाजपा अपने कुछ प्रमुख दावेदारों का टिकट काट सकती है, यह सुनने में आ रहा है। हालांकि सच्चाई क्या है, यह तो टिकट फाइनल होने के बाद ही पता चलेगा। चर्चा के अनुरूप दरौंदा से कांग्रेस के पूर्व संसदीय क्षेत्र प्रत्याशी जितेन्द्र स्वामी, रघुनाथपुर से पूर्व एमएलसी मनोज सिंह और जीरादेई से युवा नेता राजीव कुमार बिट्टू सिंह को भाजपा टिकट दे सकती है। सूत्रों का कहना है कि जीरादेई विधानसभा क्षेत्र से भाजपा की विधायक आशा पाठक की कार्यशैली से पार्टी का आलाकमान बहुत खुश नहीं है। हालांकि आशा पाठक को टिकट दिलाने के लिए पार्टी का एक खेमा पूरी शिद्दत से लगा है, लेकिन इसकी कोई गारंटी नहीं है कि उन्हें टिकट मिल ही जाए। वहीं दूसरी तरफ यदि आशा का टिकट कटता है तो युवा नेता राजीव कुमार सिंह बिट्टू को टिकट मिल सकता है। बिट्टू के समर्थकों का कहना है कि उनकी पकड़ भाजपा में पटना से लेकर दिल्ली तक है। हालांकि आशा पाठक समर्थकों को उम्मीद है कि टिकट तो उन्हें ही मिलेगा। सूत्रों की बातों पर भरोसा करें तो पता चलेगा कि भाजपा का ही एक खेमा पार्टी हाईकमान तक आशा पाठक की शिकायत पहुंचा चुका है कि पूरे पांच वर्ष तक जनता से दूर रहने का खामियाजा उन्हें इस बार भुगतना पड़ सकता है। इसलिए यदि पार्टी चेहरा बदलती है तो कुछ उम्मीद की किरण नजर आने लगेगी। शिकायत करने वालों ने तो यहां तक कह दिया है कि क्षेत्र के मतदाताओं से मिलने के बाद लोगों के सामने ही स्थानीय विधायक व उनके परिजन डीटॉल से हाथ धोते हैं। हालांकि इन बातों की पुष्टि नहीं हो सकी है, पर चर्चा तो है ही। कमोबेश जीरादेई जैसे ही हालात रघुनाथपुर विधानसभा क्षेत्र में भी हैं। वहां से भाजपा के विधायक विक्रम कुंवर है। पार्टी में विक्रम कुंवर विरोधी खेमे के लोग कहते हैं कि जबतक वे विधायक रहे, उन्हें जनता से कोई वास्ता नहीं रहा। अब जब फिर से चुनाव आया है तो उन्हें जनता की याद आई है। सूत्रों का कहना है कि विक्रम कुंवर की कार्यशैली की पूरी जानकारी उनके विरोधी लोगों द्वारा भाजपा के आला नेताओं को दे दी गई है। यदि उन जानकारियों को आधार माने तो रघुनाथपुर से विक्रम कुंवर का टिकट कट सकता है। हालात प्रतिकूल होने पर यदि विक्रम कुंवर का टिकट कटता है तो वहां से भाजपा क वरिष्ठ नेता मनोज सिंह को टिकट मिल सकता है, यह पार्टी के विश्वस्त सूत्रों का मानना है। हालांकि विक्रम कुंवर समर्थकों ने अभी उम्मीद नहीं छोड़ी है। उन्हें भरोसा है कि पार्टी सीटिंग कैडिडेट होने के नाते विक्रम कुंवर को ही टिकट देगी। लेकिन भाजपा के लोग भी उनके खिलाफ कथित शिकायतों के अंबार को देखकर घबरा रहे हैं। पार्टी को भी डर है कि यदि पुनः कुंवर टिकट दिया गया तो कहीं एक सीट हाथ से न निकल जाए। अब चर्चा करते हैं दरौंदा सीट की। यहां भी भाजपा से टिकट पाने वालों की लम्बी फेहरिस्त है। एक से बढ़कर एक दावेदार, जो पटना से लेकर दिल्ली तक की पहुंच रखते हैं। कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर प्रत्याशी रहे बाहुबली नेता जितेन्द्र स्वामी पर भाजपा अपना दांव आजमा सकती है। जितेन्द्र स्वामी सीवान जिले के चर्चित व दबंग नेता स्व.उमाशंकर सिंह के पुत्र हैं। भाजपा के सूत्रों का कहना है कि जितेन्द्र स्वामी को दरौंदा विधानसभा सीट से भाजपा टिकट दे सकती है। हालांकि अभी कुछ कहा नहीं जा सकता कि किसे टिकट मिलेगा, पर इतना जरूर है कि जितेन्द्र स्वामी भी टिकट दौड़ में अव्वल दिख रहे हैं। बहरहाल, यह टिकट प्रपंच है। नामांकन भरने से पहले किसे टिकट मिलेगा और किसका कटेगा इसका आंकलन अभी नहीं किया जा सकता। टिकट फाइनल होने से पहले जो भी चर्चाएं होती हैं वह कानाफुसी व आभास के आधार पर होती है। इसलिए उसकी प्रमाणिकता भी कठघरे में होती है। फिलहाल जो चर्चाएं हैं उनमें तो यही है कि दरौंदा से जितेन्द्र स्वामी, रघुनाथपुर से मनोज सिंह और जीरादेई से राजीव कुमार सिंह बिट्टू को भाजपा का टिकट मिल सकता है, लेकिन जब तक इन्हें टिकट मिल न जाए इसे पक्का नहीं कहा जा सकता।
‘जुमलों से नहीं मिलेगी जीत, काम चाहिए’ 
राजद-जदयू-कांग्रेस के जीरादेई क्षेत्र के युवा कार्यकर्ता किषलय प्रताप शाही ने कहा कि जुमलाबाजी कर भले केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की सरकार बन गई, लेकिन बिहार में जुमला चलने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार अपने 15 माह में किए कार्यों की उपलब्धियों की जानकारी दे। बकौल किषलय, बिहार के लोग अब जुमलाबाजी में फंसने वाले नहीं है।
                                                                     -राजीव रंजन तिवारी (+918922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: दरौंदा से जितेन्द्र, रघुनाथपुर से मनोज और जीरादेई से बिट्टू पर दांव लगा सकती है भाजपा! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल