ताज़ा ख़बर

भाजपा सांसद पर मोदी की नसीहतें बेअसर, शत्रुघ्न सिन्हा के सुर भी बगावती

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रियों और सांसदों को अपने स्टाफ में परिजन और रिश्तेदारों को न रखने के लिए कहा था, लेकिन उनका यह आदेश उन्हीं की सांसद ने नहीं माना और अपने पिता को ही आधिकारिक रूप से अपना प्रतिनिधि नियुक्त कर दिया। वहीं दूसरी ओर, बीजेपी के एक और सांसद अभिनेता शत्रुघ्नध सिन्हा ने भी बगावती सुर दिखाए हैं। उन्होंने उम्रदराज आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को किसी भी पद के लिए योग्य बताया है। मामला उत्तर प्रदेश के बाराबंकी से चुनी गईं बीजेपी सांसद प्रियंका सिंह रावत का है जिन्होंने अपने पिता को सभी शासकीय विभागों और क्षेत्र के तमाम विकास कार्यों के लिए अपना प्रतिनिधि नियुक्त किया है। रावत ने इसके पीछे तर्क दिया है कि वे अपने क्षेत्र के बीजेपी कार्यकर्ताओं से जुड़ी रहना चाहती थीं इसलिए उन्होंने ऐसा किया। 26 मई को जब नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली, उसी दिन रावत ने बाकायदा एक सर्कुलर जारी कर यह नियुक्ति की। रावत के पिता उत्तम राम जो सेवानिवृत्त अधिकारी रह चुके हैं, अब बतौर सांसद प्रतिनिधि सभी सरकारी बैठकों में भाग लेंगे और क्षेत्र में विकास कार्यों का जिम्मा संभालेंगे। रावत का यह सर्कुलर बाराबंकी के सभी सरकारी विभागों के प्रमुखों, कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को भी भेजा गया है। गौरतलब है कि प्रियंका के पति भी सरकारी अधिकारी हैं। प्रियंका ने बाराबंकी में कांग्रेस के पीएल पुनिया को हराया है। बता दें मोदी ने पदभार संभालते ही पहली कैबिनेट बैठक में मंत्रिमंडल सहयोगियों से कहा था कि वे भाई-भतीजावाद से दूर रहें और अपने स्टाफ में किसी परिजन या रिश्तेदार की नियुक्ति न करें। सांसद प्रतिनिधि के तौर पर रावत द्वारा अपने पिता की नियुक्ति का विरोध भी शुरू हो गया है। बाराबंकी के जिला बीजेपी अध्यक्ष शरद अवस्थी ने कहा कि 'प्रियंका ने इस संबंध में उनकी एक न सुनी और अपने पिता की नियुक्ति कर दी।' एक अन्य बीजेपी कार्यकर्ता ने कहा कि 'हम चुनाव में मेहनत करते हैं, ताकि हमारे प्रतिनिधि हमें भी आगे बढ़ाएं, लेकिन अगर ऐसा होगा, तो कार्यकर्ता आगे कैसे बढ़ पाएगा।' वहीं प्रियंका ने विरोध की खबरों को सिरे से नकारते हुए कहा कि 'सभी जानते हैं कि बाराबंकी में बीजेपी के दो गुट हैं। मैं अगर किसी एक गुट के व्यक्ति को नियुक्त करती तो दूसरा गुट नाराज हो जाता, इसलिए मैंने अपने पिता को प्रतिनिधि बनाया जो मेरे राजनीतिक गुरू भी हैं।' प्रियंका ने कहा कि 'मेरे पिता भाजपा के पुराने कार्यकर्ता रहे हैं, स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं से उनका समन्वय भी बहुत अच्छा है, इसीलिए मैंने उन्हें अपना प्रतिनिधि बनाया है ताकि मेरा क्षेत्र से जुड़ाव लगातार बना रहे।' भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा है कि लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी किसी भी पद के लिए सर्वाधिक योग्य हैं। उन्होंने 75 वर्ष से ज्यादा उम्र के नेताओं को मंत्रिमंडल से बाहर रखने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले पर भी सवाल उठाए हैं। पटना साहिब से सांसद सिन्हा पिछली एनडीए सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। लेकिन इस बार उन्हें कैबिनेट में जगह नहीं मिली है। उन्होंने कहा, 'आडवाणी और जोशी दोनों ही बहुत बुद्धिमान हैं। किसी भी पोस्ट के लिए सर्वाधिक योग्य हैं। आडवाणी को स्पीकर बनाया जाए या नहीं, यह फैसला उन पर ही छोड़ा जाना चाहिए। सिर्फ स्पीकर ही नहीं बल्कि कैबिनेट के सभी पदों के लिए भी यही बात लागू होती है।' उन्होंने कहा, 'मैं कैबिनेट में जगह के लिए 75 वर्ष की उम्र को कट-ऑफ बनाने से सहमत नहीं हूं। अनुभव और क्षमता साथ-साथ चल सकते हैं।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: भाजपा सांसद पर मोदी की नसीहतें बेअसर, शत्रुघ्न सिन्हा के सुर भी बगावती Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल