ताज़ा ख़बर

दलित संघर्ष को हिंसा के जरिये दबाने और बदनाम करने की कोशिश में जुटी हैं भगवा ताकतें

भाषा सिंह 
देश में दलितों के खिलाफ लगातार हिंसा बढ़ रही है। इसका ताजा उदाहरण महाराष्ट्र में देखने को मिला। गुजरात से भी खबर आई कि एक दलित को 15 पुलिसवालों ने अपना जूता चाटने पर मजबूर किया। इस तरह के कई मामले मध्य प्रदेश, राजस्थान तमिलनाडु आदि राज्यों से भी सामने आए हैं। दलित उत्पीड़न से जुड़े ज्यादातर मामलों में एक सामान्य बात यह है कि बीजेपी-आरएसएस से जुड़े लोग और समूह इनके पीछे हैं। इन मामलों को लेकर पूरे देश में दलितों का गुस्सा उबाल पर है। दलित प्रतिरोध की तेज हो रही यह आवाज 90 के दशक में हुए उस टकराव की याद दिला रही है, जब दलित-पिछड़ी जातियों के उभार और सामाजिक न्याय की शक्तियों को दबाने के लिए बीजेपी ने साम्प्रदायिक मुद्दे को बढ़ावा दिया था। बीजेपी और आरएसएस दलित अस्मिता की पूरी लड़ाई को जातिवादी, हिंसक और देश को तोड़ने वाले बताकर ध्रुवीकरण करने की कोशिश में जुट गई है। महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार ने भीमा-कोरेगांव में भगवाधारियों द्वारा दलितों पर की गई हिंसा के बाद गुजरात के विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवानी पर एफआईआर दर्ज करा दी। इसके अलावा दलितों के प्रदर्शन के पीछे नक्सलियों का हाथ बताकर पूरे दलित आक्रोश को आपराधिक घोषित करने की साजिश भी दिख रही है। इस पूरे मसले को लेकर दलित नेता जिगनेश मेवानी ने नवजीवन से कहा, “पूरे देश में बीजेपी-आरएसएस का दलित विरोधी चेहरा बेनकाब हो रहा है। हाल यह हो गया है कि अब वे हमें अपराधी बताने और हमारे ही खिलाफ मुकदमे दर्ज करने में लग गए हैं। इससे साफ है कि वे अब हमसे डर गए हैं।” यह सिर्फ जिग्नेश मेवानी का अनुभव नहीं है, पूरे दलित समाज और खासकर युवा दलितों के भीतर यह समझ बन रही है कि बीजेपी और आरएसएस उनके आरक्षण के अधिकार साथ-साथ उनके विकास की भी विरोधी है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में कोर्ट परिसर से अंबेडकर की मूर्ति को हटाने के बाद जिस तरह से राज्य के लगभग 20 जिलों में विरोध हुआ, उससे भी दलित नौजवानों के भीतर पनप रहे गुस्से का अंदाजा लगाया जा सकता है। उत्तर प्रदेश में ड्रैग संस्था से जुड़े रामकुमार ने नवजीवन को बताया, “बीजेपी में अब जिस तरह से खुलकर ऊंची जातियों का वर्चस्व कायम हो गया है, उससे दलितों और वंचित समुदाय में बहुत बेचैनी है। बीजेपी को भी इस बात से परेशानी है कि दलितों में उसके आधार को चुनौती मिल रही है।” दलित जीवन पर ‘जय भीम कॉमरेड’ जैसी मशहूर डॉक्यूमेंटरी फिल्म बनाने वाले आनंद पटवर्धन ने कहा, हिंदुत्व को असली चुनौती जमीनी और बुनियादी मुद्दों पर काम करने वाले दलित आंदोलन से मिल रही है। अभी भी उच्च जातियों के वर्चस्व वाले मध्य वर्ग में दलितों के इस उभार को लेकर गहरी चिढ़ और नफरत है। मुख्यधारा का मीडिया इसे बढ़ाने में लगा है।”  
बुरहानपुर में दलितों का प्रदर्शन, गाड़ियों में तोड़-फोड़ व पथराव
महाराष्ट्र में शुरू हुई दलित आंदोलन की चिंगारी मध्य प्रदेश पहुंच गई है। भीमा-कोरेगांव में हुई हिंसक घटना के खिलाफ बुरहानपुर में दलितों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान 10 से अधिक बसों में तोड़-फोड़ की गई। हंगामे और तोड़-फोड़ के बाद इलाके में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। पुलिस अधीक्षक राकेश सागर ने बताया कि अभी इलाके में हालात काबू में है। वहीं भीमा-कोरेगांव लड़ाई की सालगिरह पर हुई हिंसा के मामले में गुजरात के विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्र नेता उमर खालिद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद के खिलाफ 31 दिसंबर को पुणे में आयोजित दलित कार्यक्रम में भड़काऊ भाषण देने और हिंसा को भड़काने का आरोप लगा है। पुणे के विश्रामबाग पुलिस स्टेशन में दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 153 ए, 505 और 117 के तहत केस दर्ज किया गया है। साभार नवजीवन 
राजीव रंजन तिवारी (संपर्कः 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: दलित संघर्ष को हिंसा के जरिये दबाने और बदनाम करने की कोशिश में जुटी हैं भगवा ताकतें Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल