ताज़ा ख़बर

गांधीनगर में राहुल का पीएम पर तंज, मोदी जी को क्यों है कांग्रेस से इतना लगाव!

गांधीनगर। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए गांधीनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने पीएम मोदी के उस दावे पर तंज किया जिसमें वे कहते हैं कि कांग्रेस पार्टी का देश से सफाया कर दिया गया है। कांग्रेस उपाधय्क्ष ने कहा, "एक तरफ मोदी जी कहते हैं कि भारत से कांग्रेस को साफ कर दिया गया है। अगर ऐसा है तो वह अपनी चुनावी रैलियों में आधे से ज्यादा वक्त कांग्रेस के बारे में ही क्यों बोलते हैं।" राहुल ने यहां एक बार फिर दोहराते हुए कहा, "यह चुनाव मेरे या मोदी जी के लिए नहीं है, बल्कि गुजरात और गुजरातियों के भविष्य के लिए है।" उन्होंने कहा कि पीएम मोदी उनके खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करते रहे हैं, लेकिन वह कभी भी ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री मेरे खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं, लेकिन मैं ऐसा कभी नहीं करूंगा, क्योंकि राहुल गांधी प्रधानमंत्री कार्यालय का सम्मान करता है। मैं प्रधानमंत्री के खिलाफ एक भी गलत शब्द का प्रयोग नहीं करूंगा। यह हमारी पार्टी, महात्मा गांधी और सरदार पटेल ने हमें सिखाया है।" राहुल ने कहा कि बीजेपी ने विधानसभा चुनाव में अपनी बात की शुरुआत 'नर्मदा के पानी' के साथ की थी, लेकिन जब कुछ दिन बाद ही आम जनता ने कहा कि उन्हें नर्मदा बांध से कोई पानी नहीं मिला और सारा पानी टाटा के नैनो कार संयंत्र को दे दिया गया, तो उन्हें इस मुद्दे पर यूटर्न लेना पड़ा। इससे पहले आज सुबह अपना चुनावी दौरा खेड़ा के रणछोड़जी मंदिर में दर्शन से शुरू किया। उसके बाद उन्होंने दाकोर में एक चुनावी सभा की। इसके बाद उन्होंने अरावली जिले में शामला जी मंदिर में दर्शन किया और फिर वहा एक जनसभा को संबोधित किया। इसके बाद देओदार होते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष गांधीनगर के कलोल पहुंचे, जहां उन्होंने लोगों से मुलाकात की और उसके बाद एक चुनावी सभा को संबोधित किया।  
गुजरात चुनाव में पहुंचा पाक, पालनपुर में पीएम ने लांघी सीमाएं 
आसिफ एस खान
गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के बाद दूसरे चरण के प्रचार ने जोर पकड़ लिया है। लेकिन राज्य में 22 सालों से सत्तारूढ़ बीजेपी बौखलाई नजर आ रही है। दूसरे चरण के चुनाव प्रचार में पार्टी नेताओं ने सारी नैतिकता और मर्यादा को ताक पर रख दिया है। और खुद प्रधानमंत्री मोदी इसकी अगुवाई करते नजर आ रहे हैं। मतदाताओं को अपने पक्ष में गोलबंद करने के लिए बीजेपी मानो किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार नजर आ रही है। 10 दिसंबर को बनासकांठा के पालनपुर में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने गुजरात चुनाव में पाकिस्तान के हस्तक्षेप का नया शिगूफा छोड़ा है। इतना ही नहीं मोदी ने चुनावी सभा में आरोप लगाया कि गुजरात चुनाव के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीमापार से मदद ले रहे हैं। रैली में कांग्रेस पर हमला करते हुए मोदी ने कहा, “पाकिस्तानी सेना के पूर्व डायरेक्टर जनरल सरदार अरशद रफीकी कांग्रेस नेता अहमद पटेल को गुजरात का मुख्यमंत्री बनते देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा, ''एक तरफ पाकिस्तानी सेना के पूर्व डीजी गुजरात के चुनाव में दखल दे रहे हैं, वहीं पाकिस्तान के लोग मणिशंकर अय्यर के घर बैठक भी कर रहे हैं। मीडिया की खबर है कि मणिशंकर अय्यर के घर एक गुप्त बैठक हुई जिसमें पाकिस्तान के उच्चायुक्त समेत, वहां के पूर्व विदेश मंत्री, भारत के पूर्व उप राष्ट्रपति और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शामिल हुए थे।'' इस बैठक के तुरंत बाद कांग्रेस के लोग गुजरात के आम लोगों, वहां के पिछड़ों, गरीबों की और मोदी की बेइज्जती करते हैं।” उन्होंने लोगों से पूछा, “क्या आपको नहीं लगता इन पर संदेह किया जाना चाहिए।'' पीएम मोदी द्वारा लगाए गए आरोपों पर कड़ा ऐतराज जताते हुए कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि इस तरह के अनर्गल आरोप लगाने से पहले बीजेपी नेतृत्व को अपने पाकिस्तान प्रेम का जवाब देना चाहिए। सुरजेवाला ने मोदी के बयान को वोट बटोरने के लिए ‘शब्दों का हमला’ करार देते हुए कहा कि बीजेपी के अनेक नेताओं का, प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप से ‘पाकिस्तान प्रेम’ जगजाहिर है। कांग्रेस प्रवक्ता ने सवाल उठाया, “भारत के खिलाफ षडयंत्र करने वाले उग्रवादियों व अलगाववादियों पर बीजेपी सरकार का रवैया ढुलमुल क्यों है?, आईएसआई जैसी एजेंसी पर नरेंद्र मोदी और अमित शाह को इतना विश्वास क्यों है कि उन्हें भारत सरकार देश का मेहमान बना कर बुलाती है?, कुख्यात अंतरराष्ट्रीय आतंकी दाउद इब्राहिम की पत्नी किन हालात में साल 2016 में पाकिस्तान से मुंबई आई और वापस चली गई, लेकिन केंद्र औऱ राज्य की सरकार ने कुछ नहीं किया ?” उन्होंने पूर्व महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष औऱ फड़णवीस सरकार में मंत्री रहे एकनाथ खड़से के दाउद इब्राहिम से कथित बातचीत मामले का मुद्दा भी उठाया, जिसके बाद खड़से को इस्तीफा देना पड़ा था। सुरजेवाला ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर भी हमला करते हुए कहा, “एक तरफ तो वह पाकिस्तान में पटाखे फूटने का जुमला गढ़ते हैं। लेकिन क्या यह सही नहीं है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवल के बेटे शौर्य डोवल का बिजनेस पार्टनर सईद अली अब्बास पाकिस्तानी है और दूसरे अन्य पार्टनर भी सऊदी अरब से हैं? क्या इस पर अमित शाह को कोई एतराज है या नहीं?” सुरजेवाला ने कहा कि झूठे जुमले गढ़ने वाले छद्म राष्ट्रवादियों को असली सवालों का जवाब देने की आवश्यकता है। दरअसल कुछ दिन पहले कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने एक बयान में मोदी के लिए 'नीच' शब्द का इस्तेमाल कर दिया था। हालांकि, अय्यर के बयान की कड़ी निंदा करते हुए राहुल गांधी ने उन्हें माफी मांगने के लिए कहा था। जिसके बाद अय्यर ने माफी मांग ली थी। उसके बाद इसे गंभीरता से लेते हुए कांग्रेस पार्टी ने अय्यर को पार्टी की प्राथमिक सदस्य़ता से निलंबित कर दिया था। लेकिन इसके बावजूद मोदी उसी दिन से इसे चुनावी मुद्दा बना कर माहौल अपने पक्ष में करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। लेकिन यहां सवाल ये उठता है कि अगर ऐसी कोई बैठक हुई थी तो देश की खुफिया एजेंसियों ने केंद्र की मोदी सरकार को कोई रिपोर्ट क्यों नहीं दी? और अगर सरकार के पास इस संबंध में कोई आधिकारिक रिपोर्ट है तो प्रधानमंत्री के तौर पर मोदी ने कोई कार्रवाई क्यों नहीं की? मोदी देश के पीएम हैं, केंद्र और राज्य में भी उनकी ही पार्टी की सरकारें हैं, ऐसे में पाकिस्तान अगर कोई दखल कर रहा है या कोई पार्टी पाकिस्तान से मदद ले रही है तो उसपर कार्रवाई की जानी चाहिए ना कि चुनावी सभाओं में जुमलेबाजी। ऐसे में क्या समझा जाए! पीएम मोदी के भाषणों से साफ दिख रहा है कि राज्य में बीजेपी की हालत बहुत खराब है। ऐसे में वह और उनकी पार्टी अहमद पटेल के बहाने ध्रुवीकरण करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। अब इन अनर्गल प्रयासों से बीजेपी को कितना फायदा होता है ये तो 18 दिसंबर को ही पता चलेगा, लेकिन इतना तय है कि 14 दिसंबर से पहले तक बीजेपी और पीएम मोदी की भाषा और जहरीली होती जाएगी। साभार नवजीवन 
मोदी जी, हम आपको प्यार से हराने जा रहे हैं
अहमदाबाद में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को गुजरात के कलाल में एक चुनावी रैली को संबोधित किया। पार्टी के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर के पीएम मोदी पर दिये बयान के बाद कांग्रेस की हुई आलोचना पर राहुल ने एक बार फिर कहा कि मैं पीएम के पद का सम्मान करता हूं। कलोल की चुनावी सभा के दौरान राहुल ने कहा 'पीएम अपने हर भाषण में मेरे खिलाफ गलत शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, और आज भी उन्होंने ऐसा ही किया।' राहुल ने कहा 'मैं पीएम के पद का सम्मान करता हूं और मोदी जी भले ही मेरे लिए कुछ भी कहें लेकिन मैं उनके खिलाफ एक भी गलत शब्द नहीं कहूंगा'। पीएम पर कटाक्ष करते हुए राहुल ने कहा 'मोदी जी, हम गुजरात में आपको प्यार से बिना गुस्से के हराने जा रहे हैं।' गुजरात में पिछले तीन महीनों से जारी चुनाव अभियान का जिक्र करते हुए राहुल ने आम लोगों से कहा 'मैं जब तक जिंदा हूं तब तक आपके उस प्यार को भूलने वाला नहीं हूं जो आपने पिछले तीन महीनों में दिखाया है।' राहुल ने लोगों से कहा 'आपको मेरी जरूरत जब भी हो, सिर्फ मुझे बुलाओ, आदेश दो और मैं करके दिखाऊंगा।' राहुल ने कहा 'आपने मेरे साथ रिश्ता बना लिया है, ये जिंदगी का रिश्ता है, कभी नहीं टूटेगा।' वहीं अपनी रैली के दौरान राहुल ने कई बार बीजेपी और राज्य सरकार के विकास मॉडल पर भी निशाना साधा। गौरतलब है कि राहुल पिछले कई दिनों से गुजरात के प्रवास पर हैं और लगातार तमाम विधानसभा क्षेत्रों में जनता के बीच जाकर चुनाव में खड़े अपने प्रत्याशियों का प्रचार कर रहे हैं। साभार एनबीटी 
राजीव रंजन तिवारी (संपर्कः 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: गांधीनगर में राहुल का पीएम पर तंज, मोदी जी को क्यों है कांग्रेस से इतना लगाव! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल