ताज़ा ख़बर

गुजरात में बोले राहुल गांधी, रोहित वेमुला ने आत्महत्या नहीं की, उसे सरकार ने मारा

अहमदाबाद। गुजरात के रण में पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या का मुद्दा उठाया। अहमदाबाद में राहुल गांधी ने केन्द्र पर सीधे सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि दलित छात्र की रोहित वेमुला की हत्या हिन्दुस्तान की वर्तमान सरकार ने की है। दलित स्वाभिमान सभा में राहुल गांधी ने कहा, ‘चिट्ठी आती है मंत्री के यहां से और उसको कुचल देते हैं, रोहित वेमुला ने आत्महत्या नहीं की थी, उसकी हत्या हिन्दुस्तान की सरकार ने की थी।’ बता दें कि रोहित वेमुला की आत्महत्या का मामला राजनीतिक रूप से काफी संवेदनशील है। रोहित वेमुला हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में पीएचडी का छात्र था। उसने 17 जनवरी 2016 को फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। इस मुद्दे पर काफी राजनीतिक हंगामा हुआ था। विपक्ष का आरोप है कि रोहित वेमुला ने विश्वविद्यालय प्रशासन की ज्यादतियों से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी। इस मुद्दे पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी बयान दिया था। लखनऊ में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के संबोधन में वेमुला का जिक्र कर पीएम भावुक हो उठे थे। पीएम ने तब कहा था कि इस मुद्दे पर राजनीति एक तरफ है, एक मां ने एक लाल खोया। इसकी पीड़ा मैं भलीभांति महसूस करता हूं। इससे पहले राहुल गांधी ने शुक्रवार (24 नवंबर) को राज्य के मछुआरा समुदाय के लोगों से मुलाकात की और वादा किया कि अगर उनकी पार्टी केन्द्र में सत्ता में आती है तो अलग से मत्स्य मंत्रालय बनाया जाएगा। राहुल ने मछुआरों को नौका के लिए डीजल की खरीद पर मिलने वाली सब्सिडी को समाप्त करने के लिए भाजपा सरकार की आलोचना की। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात के मछुआरों को प्रदूषण के कारण अब मछली पकड़ने के लिए गहरे समुद्र में जाना पड़ता है। ये प्रदूषण 10-15 उद्योगपतियों ने फैलाया है जो कि ‘मोदी जी’ के दोस्त हैं।चुनाव प्रचार के लिए दो दिन की गुजरात यात्रा पर आए राहुल ने दौरे के पहले दिन मछुआरा समुदाय को संबोधित करते हुए विश्वास जताया कि कांग्रेस राज्य में जीत हासिल करेगी, जहां वह पिछले 22 वर्ष से सत्ता से बाहर है। राहुल ने कहा, ‘‘ मछुआरों का काम किसानों की ही भांति होता है। कुछ समय पहले आप लोगों ने मांग की थी कि कृषि क्षेत्र के लिए मंत्रालय है तो मछुआरों के लिए क्यों नहीं? मैं आपसे सहमत हूं, और मैं आपसे वादा करता हूं कि केन्द्र में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस इसका गठन करेगी। ’’ उन्होंने दावा किया कि नरेन्द्र मोदी के मुख्यमंत्री रहते भाजपा नीत राज्य सरकार ने नैनो कार परियोजना के लिए टाटा मोटर्स को 33,000 करोड़ रुपए दिए थे। गुजरात में 9 और 14 दिसंबर में दो चरणों में मतदान होना है। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। साभार जनसत्ता 
पटेलों के बाद मछुआरों पर कांग्रेस की नजर 
गुजरात चुनाव में कांग्रेस अपनी खोई हुई राजनीतिक छवि को दोबारा हासिल करने की हर संभव कोशिश कर रही है. राहुल गांधी लगातार गुजरात का दौरा कर रहे हैं. पटेलों को अपने साथ लाने के लिए कांग्रेस ने जहां एक तरफ आरक्षण का वादा किया तो अब गुजरात में मछुआरों के बीच पहुंचे राहुल गांधी ने मछली मंत्रालय का दांव चला है. शुक्रवार को राहुल गांधी ने मछुआरा समुदाय के लोगों से मुलाकात की और कहा कि अगर केंद्र में उनकी सरकार बनती है तो अलग से मत्स्य मंत्रालय बनाया जाएगा. इसके साथ ही कांग्रेस उपाध्यक्ष ने मछुआरों को नौका के लिए डीजल की खरीद पर मिलने वाली सब्सिडी को समाप्त करने के लिए बीजेपी सरकार की आलोचना की. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात के मछुआरों को प्रदूषण के कारण अब मछली पकड़ने के लिए गहरे समुद्र में जाना पड़ता है. ये प्रदूषण 10-15 उद्योगपतियों ने फैलाया है जो कि ‘मोदी जी’ के दोस्त हैं. चुनाव प्रचार के लिए दो दिन की गुजरात यात्रा पर आए राहुल गांधी ने दौरे के पहले दिन मछुआरा समुदाय को संबोधित करते हुए विश्वास जताया कि कांग्रेस राज्य में जीत हासिल करेगी, जहां वह पिछले 22 सालों से सत्ता से बाहर है. राहुल गांधी ने कहा, ‘‘ मछुआरों का काम किसानों की ही भांति होता है. कुछ समय पहले आप लोगों ने मांग की थी कि कृषि क्षेत्र के लिए मंत्रालय है तो मछुआरों के लिए क्यों नहीं? मैं आपसे सहमत हूं, और मैं आपसे वादा करता हूं कि केन्द्र में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस इसका गठन करेगी. ’’ उन्होंने दावा किया कि नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहते बीजेपी नीत राज्य सरकार ने नैनो कार परियोजना के लिए टाटा मोटर्स को 33,000 करोड़ रुपए दिए थे. कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘जब कांग्रेस सत्ता में थी मछुआरों को डीजल खरीद में 25 प्रतिशत सब्सिडी मिलती थी. वह सब्सिडी जो महज 300 करोड़ रुपए सालाना थी, को यहां बीजेपी सरकार ने समाप्त कर दिया. ये किस तरह का जादू है? वे 33,000 करोड़ रुपए नैनो फैक्ट्री के लिए दे सकते हैं लेकिन आपको 300 करोड़ रुपए नहीं दे सकते? उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘मुझे पता चला है कि आपको मछलियां पकड़ने के लिए गहरे समुद्र में उतरना पड़ता है. क्यों? प्रदूषण के कारण. लेकिन ये फैलाया किसने? यकीनन मछुआरो ने नहीं. इसे 10-15 उद्योगपतियों ने फैलाया है जो कि मोदी जी के दोस्त हैं.....उन्होंने आपके सारे पैसे ले कर उन 10-15 लोगों को दे दिए हैं.’’ राहुल गांधी ने कहा कि मछुआरों के लिए कुछ भी ठोस करने की बजाए मोदी ने सारे बंदरगाह 'अपने कुछ उद्योगपति दोस्तों' को दे दिए हैं. उन्होंने पीएम मोदी के रोडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ का भी मखौल उड़ाया और कहा कि गुजरात में सत्ता में आने के बाद कांग्रेस सरकार के दरवाजे खोल दिए जाएंगे. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि कांग्रेस ये चुनाव जीतेगी और उसके बाद मुख्यमंत्री कार्यालय और विधानसभा के दरवाजे आपके लिए खोल दिए जाएंगे ताकि आप हमें अपने ‘मन की बात’ बता सकें. अभी तक वो दरवाजे केवल अमीरों के लिए खुले थे और केवल उन्हीं की बात सुनी जाती थी. आपकी आवाज कभी सरकार तक नहीं पहुंची.’’ गुजरात में नौ और 14 दिसंबर में दो चरणों में मतदान होना है. साभार एबीपी 
राजीव रंजन तिवारी (संपर्कः 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: गुजरात में बोले राहुल गांधी, रोहित वेमुला ने आत्महत्या नहीं की, उसे सरकार ने मारा Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल