ताज़ा ख़बर

न कोई ऐलान, न कोई वादा, सिर्फ जुमलों की बारिश करके ही गुजरात से लौट गए मोदी

यह भी पढ़ेंः बोले शिवानंद, कांग्रेस फोबिया से ग्रसित दिखे मोदी, पीएम का कांग्रेस पर वार, बताया जमानती व भ्रष्टाचार पोषक पार्टी  
गांधीनगर। जैसी उम्मीद थी वैसा गांधीनगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में कुछ भी नया देखने-सुनने को नहीं मिला। रैली में न तो कोई बड़ी घोषणा की गई और न ही भविष्य के लिए कोई रास्ता दिखाया गया।लेकिन प्रधानमंत्री के आज के भाषण से एक बात जो जाहिर हुई है, वह यह है कि दिवाली के बाद कुछ बड़ी घोषणाओं का ऐलान करने के लिए प्रधानमंत्री एक बार फिर गुजरात के दौरे पर जाएंगे। पीएम मोदी ने आखिर में कहा कि वह दिवाली के बाद एक बार फिर गुजरात आएंगे। उनके इस बयान से साफ जाहिर है कि गुजरात विधानसभा के लिए चुनाव की तारीखों का ऐलान जल्दी नहीं होने वाला है। मोदी ने अपने जाने-पहचाने अंदाज में कांग्रेस पर हमला बोलते हुए चुनावों को लोकतंत्र का ‘यज्ञ’ करार दिया और कहा कि जिन्हें यज्ञ का फल नहीं मिलने वाला है, वे उसमें रुकावट डालने की कोशिश करते हैं और यज्ञ में रुकावट डालने वाले हमेशा मौजूद रहते हैं। मोदी ने अपने पुराने जुमलों को नए अंदाज में पेश करते हुए कहा, “हम ने पूंजीवाद और ताकत के बल पर चलने वाली पार्टियां देखी हैं। परिवार के नाम पर चलने वाली पार्टियां देखी हैं, लेकिन बीजेपी लोकतंत्र पर चलने वाली पार्टी है।” मोदी और अमित शाह, जो अपनी बदजुबानी के लिए मशहूर हैं, ने कांग्रेस के बारे में कहा कि जिस पार्टी ने इतने साल इस देश में सरकार चलाई, उनकी जबान इतनी गिर सकती है वह सोच भी नहीं सकते। पटेल समुदाय की नाराजगी को ध्यान में रखते हुए मोदी ने एक बार फिर पटेलों के मुद्दे को भुनाने की कोशिश करते हुए कहा,‘ कांग्रेस ने हमेशा गुजरात के नेताओं का अपमान किया है। सरदार वल्लभ भाई पटेल के साथ इस पार्टी का कैसा व्यवहार किया वह दोहराने की जरूरत नहीं है। पटेल की बेटी के साथ कैसा व्यवहार किया गया ये इतिहास जानता है। मोरारजी देसाई के साथ उन्होंने क्या किया वह भी दुनिया को पता है। देसाई भाई को बर्बाद करने में ये पूरा परिवार लग गया।’ पीएम मोदी, जिनके नेतृत्व वाली सरकार को जुमलों और झूठे वादों की सरकार के आरोप झेलने पड़ रहे हैं, उन्होंने अपनी सफाई देने के बजाय उल्टा कांग्रेस के बारे में कहा,‘पाखंड और झूठ की बुनियाद पर चुनाव जीतने की सोच और तरकीब कभी कामयाब नहीं हुई है। उन्होंने कहा, जब जब गुजरात में चुनाव आते हैं तो उन्हें बुखार कुछ ज्यादा ही आता है।’ सालों से गुजरात में सत्ता में बनी बीजेपी के नेता और देश के प्रधानमंत्री को आज ये कहना पड़ा कि अगर हमारे किसानों को पानी मिल जाए तो वह मिट्टी से सोना पैदा कर सकते हैं। 50 हजार करोड़ रुपये की वजह से 90 बांधों का काम रुका हुआ था। ये पार्टी काम अधूरा छोड़ना जानती है लेकिन उनकी सरकार खोज खोज कर बांध का काम शुरू कर रही है। उन्होंने कहा कि मैं गतिरोध की शिकार परियोजनाओं को ढूंढ-ढूंढ कर निकालता हूं और उन्हें पूरा करने की कोशिश करता हूं। लेकिन लोग ये जरूर पूछेंगे कि 22 साल से लगातार सरकार में रहने वाली पार्टी और उशके प्रधानमंत्री को क्या ये सब पूछने का हक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस पर तो खुल कर हमले किये लेकिन बहुत खूबसूरती से बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह को धनशोधन के आरोपों में क्लीन चिट देने की कोशिश करते हुए कहा, नोटबंदी में दो लाख दस हजार शेल कंपनियों का खुलासा हुआ और इस दिशा में कार्रवाई हुई तो कोई पुतला नहीं फूंका गया, लेकिन एक कंपनी को बंद करने पर ये लोग सड़कों पर आ गए। मोदी से पहले सभा में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि नर्मदा योजना को पूरा कराने का क्रेडिट नरेंद्र मोदी को जाता है। अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी को अमेठी में विकास पर बोलने का कोई हक नहीं है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी अमेठी में कलेक्टर का एक दफ्तर तक बनवा नहीं पाए और गुजरात के विकास पर सवाल खड़े कर रहे हैं। शाह ने कहा कि उनकी पार्टी ने गुजरात से कांग्रेस को पूरी तरह उखाड़ फेंका है। इस अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने ऐलान किया कि किसानों को शून्य ब्याज पर 3 लाख रुपये का लोन मिलेगा। रूपानी ने आगे कहा कि किसानों के कर्ज पर 7 फीसदी सूद का बोझ केंद्र और राज्य सरकार उठाएगी। साभार नवजीवन  
बोले शिवानंद तिवारी, कांग्रेस फोबिया से ग्रसित दिखे मोदी 
पटना में आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भारी पड़ते दिख रहे हैं. आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि गांधीनगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को अपने भाषण में कांग्रेस फोबिया से ग्रसित दिखे. उससे तो यही लगता है कि उनके सर पर कांग्रेस सवार हो गई है. तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री के पूरे भाषण के केंद्र में कांग्रेस ही रही. उनके मुताबिक पीएम मोदी के भाषण से उनके भीतर की आशंका साफ व्यक्त हो रही थी और प्रधानमंत्री ने खुद कबूल कर लिया कि कांग्रेस उनके लिए चुनौती है. शिवानंद तिवारी ने कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहां तो देश को कांग्रेस से मुक्त करने का संकल्प लिया था, लेकिन हालत तो उलट गई दिखाई दे रही है. प्रधानमंत्री का पूरा भाषण ही कांग्रेस से भयभीत नहीं, तो सशंकित नेता का भाषण जरूर प्रतीत हो रहा था. बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गांधीनगर में 'गुजरात गौरव महासम्मेलन' को संबोधित किया. जनसभा में उमड़े अपार जनसमूह को संबोधित करते हुए PM मोदी ने मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. मोदी ने अपने भाषण में कांग्रेस पर एक से बढ़कर एक आरोप लगाए. पीएम मोदी ने कांग्रेस को विकास विरोधी बताते हुए कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी भ्रष्टाचार की पोषक है. कांग्रेस को वंशवाद की पार्टी बताते हुए पीएम ने कहा कि यह चुनाव विकासवाद की जंग है और उनके लिए (कांग्रेस) वंशवाद की जंग है. साभार आजतक  
पीएम का कांग्रेस पर वार, बताया जमानती व भ्रष्टाचार पोषक पार्टी 
गुजरात विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस पर करारा हमला बोला। मोदी ने कांग्रेस को विकास विरोधी बताते हुए कहा कि देश की यह सबसे पुरानी पार्टी भ्रष्टाचार की पोषक है। कांग्रेस को वंशवाद की पार्टी बताते हुए पीएम ने बीजेपी को आदर्शों और सच्चे लोकतंत्र वाली पार्टी बताया। मोदी ने कहा कि यह चुनाव विकासवाद की जंग है और उनके लिए (कांग्रेस) वंशवाद की जंग है। उन्होंने दावा किया कि इस चुनाव में विकासवाद जीतने वाला है, वंशवाद हारने वाला है। पीएम ने कांग्रेस को जमानती पार्टी तक बता डाला। पीएम मोदी ने गुजरात गौरव यात्रा के समापन पर गांधीनगर के भाट गाम में कार्यकर्ताओं की एक बड़ी रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर चौतरफा हमला बोला। उन्होंने कहा कि जब राज्य में कांग्रेस की सरकार थी तो राजनीतिक आंदोलन करने वाले बीजेपी कार्यकर्ताओं पर केस कर दिए जाते थे। उन्हें 21 दिन और एक महीने तक की सजा दे दी जाती थी। ऐसे जुल्म और अत्याचार सहकर बिना डरे, बिना झुके बीजेपी के कार्यकर्ता सीना तानकर खड़ा रहे। उन्होंने कहा, 'आज पूरे देश में बीजेपी का ध्वज फहरा रहा है।' कांग्रेस पर काफी आक्रामक नजर आ रहे पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि कांग्रेस यह चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ेगी, लेकिन वह विकास को ही गाली दे रही है। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस विकास के मुद्दे पर हमेशा भागती रही है। वह विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ने की हिम्मत ही नहीं कर सकती है। कांग्रेस सांप्रदायिक तनाव, लोगों को भड़काना, जातिवादी जहर, लोगों को बांटना, लोगों को भ्रमित करके चुनाव निकाल देती है। विकास जैसे मजबूत मुद्दे पर कांग्रेस को चुनाव लड़ने की हिम्मत ही नहीं है। कांग्रेस कभी गुजरात का भला नहीं कर सकती है।' पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस कभी भी गुजरात और गुजरातियों को पसंद नहीं करती है। सरदार बल्लभ भाई पटेल का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि सभी को पता है कि कांग्रेस ने पटेल के साथ क्या किया। उन्होंने कहा, 'पटेल की बेटी मनीबेन पटेल के साथ भी कांग्रेस का व्यवहार कैसा रहा यह सबको पता है। पूर्व पीएम मोरारजी देसाई के खिलाफ कांग्रेस की टोली ने काम किया। मोरारजी को हर प्रकार से नेस्तनाबूद करने के लिए यह परिवार पूरी ताकत से जुट गया था। बाबूभाई जसभाई की सरकार जब गुजरात में बनी थी, उसी दिन कांग्रेस के भ्रष्टाचार का घड़ा फूट गया था। कांग्रेस ने जसभाई को भी हटा दिया। माधव सिंह सोलंकी को भी परिवार को बचाने के लिए इस्तीफा देना पड़ा था। कांग्रेस गुजरात के नेताओं को खत्म करने का कोई मौका नहीं छोड़ती है। कांग्रेस को गुजरात के प्रति द्वेष, गुजरातियों के प्रति द्वेष है। सरदार सरोवर बांध की योजना पटेल ने बनाई थी, इसलिए कांग्रेस ने इसे 50 सालों तक पूरा ही नहीं होने दिया था। पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने उन्हें भी जेल में डालने की कोशिश की थी। उन्होंने कहा, 'मुझे जेल में डालने के लिए अमित शाह को जेल में जबतक नहीं डालेंगे, मोदी तक नहीं पहुंच पाएंगे। आज सच सामने है। हम कहां हैं, आप कहां हैं। पीएम ने कहा कि कांग्रेस किसी काम को पूरा करने में रुचि नहीं रहती है। जब कुछ नहीं चला तो कांग्रेस ने विकास को ही गाली देनी शुरू कर दी। कांग्रेस पार्टी के जेहन में विकास से नफरत है। पीएम ने पूछा कि आखिर किसे विकास की जरूरत नहीं है। बिना विकास के देश आगे कैसे बढ़ेगा। दरअसल, कांग्रेस को एक ही चीज की आदत लगी है और वह है भ्रष्टाचार की। उनकी सरकारें, नेता और उनका परिवार सब भ्रष्टाचार में डूबे हैं। जेल से सजा काटकर आए लोगों के साथ कांग्रेस कंधे से कंधा मिलाकर चलती है। कांग्रेस जमानती पार्टी है। पीएम ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि गुजरात की जनता बीजेपी को जीत दिलाएगी। कांग्रेस के खिलाफ तल्ख नजर आ रहे पीएम ने कहा कि कांग्रेस ने बीजेपी पर कई अनर्गल आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस ने हमें शहरी पार्टी कहा, हमें गांधी की हत्यारी पार्टी कहा, गाली दी, हमें दलित विरोधी और आदिवासी विरोधी कहा, लेकिन कांग्रेस का कोई भी आरोप हमपर नहीं टिक सका। संसद में सबसे ज्यादा दलित सांसद बीजेपी के हैं। सबसे ज्यादा आदिवासी सांसद भी बीजेपी के हैं। सबसे ज्यादा किसान सांसद बीजेपी के हैं। कांग्रेस की सारी बातों को जनता ने ठोककर जवाब दिया है।' साभार एनबीटी 
राजीव रंजन तिवारी (संपर्कः 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: न कोई ऐलान, न कोई वादा, सिर्फ जुमलों की बारिश करके ही गुजरात से लौट गए मोदी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल