ताज़ा ख़बर

केजरीवाल कर रहे संघ के लिए ‘काम’, ताकि भाजपा को मिले ‘मुकाम’ और कांग्रेस हो ‘नाकाम’!

सैय्यद खुर्रम रज़ा 
नई दिल्ली। अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी गुजरात की 182 में से 150 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। ये घोषणा करते हुए पार्टी नेता और आम आदमी पार्टी के गुजरात प्रभारी गोपाल राय ने यह नहीं बताया कि गुजरात में उनकी पार्टी का चेहरा कौन होगा। वैसे कुछ दिन पहले, गोपाल राय ने बयान दिया था कि उनकी पार्टी गुजरात में सिर्फ उन सीटों पर ही चुनाव लड़ेगी, जहां वो मजबूत है। बाकी सीटों पर आप उन पार्टी का समर्थन करेगी जो बीजेपी को हरा सकता है। गोपाल राय के इस बयान के बाद बीजेपी विरोधी दलों को ताकत मिली थी, लेकिन जब गोपाल राय ने यह घोषणा की कि आप 150 सीटों पर चुनाव मैदान में उतरेगी तो, बीजेपी विरोधी खेमे से आवाजें आने लगी हैं कि आम आदमी पार्टी, बीजेपी की मदद और विपक्ष को हराने के लिए गुजरात में चुनाव लड़ रही है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन का कहना है कि, “ओवैसी की एआईएमआईएम की तरह आम आदमी पार्टी भी उन राज्यों में चुनाव लड़ती है, जहां उसके लड़ने से बीजेपी को फायदा मिलता है।” माकन ने कहा कि 2013 के बाद से, आम आदमी पार्टी ने सिर्फ उन राज्यों में चुनाव लड़ने का फैसला किया है, जहां बीजेपी सत्ता में है, ताकि विपक्ष के वोट विभाजित हो और बीजेपी को फायदा मिल सके। माकन ने कहा, “इस साल आप ने पंजाब और गोवा में चुनाव लड़ा, जहां बीजेपी या उसके सहयोगी दलों की सरकार थी। उन्होंने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और मणिपुर में चुनाव नहीं लड़ा और न ही 2014 में केजरीवाल ने हरियाणा से चुनाव नहीं लड़ा, जबकि वह उनका गृह राज्य है और वहां आम आदमी पार्टी के समर्थक भी ज्यादा थे। इससे साबित होता है कि वे उन राज्यों में चुनावों में हिस्सा लेते हैं जहां वे बीजेपी के पक्ष में वोटों को बांट सकें।" माकन ने आरोप लगाया कि, “आम आदमी पार्टी ने गोवा में एक ईसाई को और पंजाब में एक दलित को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया, क्योंकि वे जानते हैं कि ईसाई और दलित परंपरागत तौर पर कांग्रेस को वोट देते हैं।" गोवा विधानसभा चुनाव के नतीजों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि गोवा विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 32.5 प्रतिशत, कांग्रेस को 28.4 प्रतिशत और आम आदमी पार्टी को 6.3 प्रतिशत वोट मिले, जो अपने आप में इस बात का सबूत है कि आम आदमी पार्टी किसकी मदद कर रही थी।? उन्होंने कहा कि थोड़े ही समय की बात है, जब सभी को इस बात का एहसास हो जाएगा कि कैसे नीतीश कुमार, ओवैसी, अन्ना हजारे, बाबा रामदेव, किरण बेदी आदि के साथ केजरीवाल भी आरएसएस के लिए काम कर रहे हैं। अजय माकन के इस बयान पर वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी टिप्पणी की है। बहरहाल गोपाल राय का यह बयान कांग्रेस और बीजेपी विरोधी दलों के लिए भले ही चिंता का कारण हो, लेकिन बीजेपी के लिए तो यह शायद राहत की खबर है, क्योंकि गुजरात में उसकी जमीन खिसक रही है। साभार नवजीवन 
राजीव रंजन तिवारी (संपर्कः 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: केजरीवाल कर रहे संघ के लिए ‘काम’, ताकि भाजपा को मिले ‘मुकाम’ और कांग्रेस हो ‘नाकाम’! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल