ताज़ा ख़बर

वीआईपी कल्चर के खिलाफ हैं पीएम मोदी, फिर भी कई साधु-संतों समेत 475 लोगों को दी है स्पेशल सिक्यूरिटी

पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह सरकार में  350 लोगों को स्पेशल सिक्यूरिटी मिल रही थी जो बढ़कर मोदी की सरकार में 475 हो गई है 
नई दिल्ली। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार वीआईपी लोगों को स्पेशल सिक्योरिटी देने में यूपीए सरकार से आगे निकल गई है। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार वीआईपी लोगों को स्पेशल सिक्योरिटी देने में यूपीए सरकार से आगे निकल गई है। पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह सरकार में कुल 350 लोगों को स्पेशल सिक्योरिटी (जेड प्लस, जेड, वाई और एक्स कैटगरी) मिल रही थी जो बढ़कर नरेंद्र मोदी की सरकार में 475 हो गई है। भाजपा के शासनकाल में सरकार ने कई साधु-संतों को भी विशेष सुरक्षा मुहैया कराई है। इनमें योगगुरू बाबा रामदेव, माता अमृतानंदमयी, रामजन्म भूमि श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, विवादित सांसद साक्षी महाराज भी शामिल हैं। इनके अलावा गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह जो पहली बार यूपी के विधायक बने हैं, उन्हें भी विशेष सुरक्षा दी गई है। एनडीटीवी के मुताबिक करीब 15 राजनेताओं के बच्चों को सरकार एनएसजी सुरक्षा घेरा मुहैया करा रही है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद देश से वीआईपी कल्चर खत्म करने की बात कही थी और गाड़ियों से लाल-नीली-पीली बत्तियों को हटाने के लिए कानून बनवाया था। मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में भी इसका उल्लेख किया था लेकिन केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंकड़ों से जाहिर होता है कि सरकार खुद उस कल्चर को बढ़ावा दे रही है। हालांकि, मंत्रालय के अधिकारी कहते हैं कि सरकार जल्द ही इस लिस्ट की समीक्षा करेगी और वीआईपी सुरक्षा पा रहे लोगों की संख्या में कमी करेगी। इनमें से कुछ नेताओं को एनएसजी कमांडो और पारामिलिट्री फोर्सेज की सुरक्षा मिली हुई है। मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक ऐसे नेताओं की सुरक्षा समीक्षा के बाद एनएसजी कमांडो की सेवा इनकी सुरक्षा से वापस ली जा सकती है। मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक पूर्व रेल मंत्री और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को एनएसजी और पारामिलिट्री, दोनों के जवान सुरक्षा घेरा मुहैया कराते हैं। वो आमतौर पर बिहार में ही रहते हैं और कभी कभार ही राज्य से बाहर निकलते हैं। इसलिए माना जा रहा है कि केंद्र सरकार उनके सुरक्षा घेरा को कम कर सकती है। इनके अलावा तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री 93 वर्षीय एम करुणानिधि जो अक्सर बीमार रहते हैं उनकी भी सुरक्षा स्थिति की समीक्षा कर जवानों को हटाया जा सकता है। इनके अलावा यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमण सिंह की भी सुरक्षा घटाई जा सकती है। गौरतलब है कि सरकार फिलहाल करीब 50 राजनेताओं को जेड प्लस की सुरक्षा दे रही है। इन्हें 24 घंटे 35 से 40 सुरक्षाकर्मी घेरे रहते हैं। पिछली सरकार में ऐसी वीआईपी लोगों की संख्या 26 थी। जेड कैटगरी में 30 गार्ड, वाई सुरक्षा में 11 गार्ड की सुरक्षा दी जाती है। बाबा रामदेव की सुरक्षा में 30 सुरक्षाकर्मी इनदिनों तैनात हैं। साभार जनसत्ता
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: वीआईपी कल्चर के खिलाफ हैं पीएम मोदी, फिर भी कई साधु-संतों समेत 475 लोगों को दी है स्पेशल सिक्यूरिटी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल