ताज़ा ख़बर

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पेश किया छह माह का रिपोर्ट कार्ड

ये भी पढ़ेंः योगी के 6 माह के कार्यकाल पर ये बोले पिता आनंद सिंह?
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी सरकार के 6 महीने पूरे होने पर लखनऊ के लोकभवन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने 6 महीने के कार्यकाल का लेखा-जोखा पेश किया। सीएम ने किसान कर्जमाफी और कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों को लेकर पिछली अखिलेश सरकार पर भी निशाना साधा। योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'जनता को जवाब देना सरकार की जिम्मेदारी है। मार्च 2017 से पहले फ्रेंडली माहौल नहीं था। आम जन के अंदर असुरक्षा का भाव था। आज आम जनमानस इस बात को लेकर विश्वास कर सकती है कि वह सुरक्षित है। प्रशासन का जो मनोबल टूटा हुआ था, बो बदला है। प्रदेश के अंदर भय का जो वातावरण था उसको दूर करने में काफी हद तक सफलता मिली।' कानून व्यवस्था में सुधार का दावा करते हुए सीएम ने कहा, 'प्रदेश के अंदर 6 महीने में 430 एनकउंटर के दौरान 17 दुर्दांत अपराधी मार गिराए गए। 868 इनामी बदमाश गिरफ्तार हुए। कुल 1106 अपराधी गिरफ्तार किए गए। अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो रही है। पुलिस के जवान भी बदमाशों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए। पुलिस की कार्यप्रणाली के अंदर न केवल प्रदेश के आम जन के अंदर विश्वास जागृत हुआ है, बल्कि निवेश को लेकर भी अच्छा वातावरण तैयार हुआ है।' सीएम ने इस दौरान कहा कि जातिवाद ने प्रदेश के सामाजिक ताने-बाने के साथ ही विकास को भी अवरुद्ध किया था। बीजेपी सरकार में परिवारवाद और जातिवाद का स्थान नहीं है। एंटी भूमाफिया टास्क फोर्स के गठन के साथ ही भूमाफियाओं की 35 करोड़ की संपत्ति जब्त हुई है। 8038.38 हेक्टेयर भूमि को अतिक्रमण और भूमाफिया से मुक्त कराया। हम एक बड़ा अभियान चला रहे हैं, जिसके जरिए वर्षों से भूमाफियाओं के कब्जे वाली 1000 हेक्टेयर जमीन को दोबारा नियंत्रण में लिया जाएगा। योगी ने कहा, 'किसानों का कर्ज सरकार ने माफ किया है। 86 लाख किसानों के फसली कर्ज को माफ किया। बीजेपी सरकार ने किसानों के हित में काम किए हैं। किसानों को ट्यूबवेल और 10 हजार सोलर पंप उपलब्ध कराए हैं। गेहूं खरीद में पारदर्शिता बरती गई। 35 लाख मीट्रिक टन गेहूं किसानों से सीधे खरीदा गया। धान खरीद में भी पारदर्शिता बरती जाएगी। हम लोगों ने गेहूं और धान क्रय की उचित व्यवस्था प्रारंभ की है। धान के समर्थन मूल्य के अतिरिक्त 15 रुपये प्रति कुंतल किसानों को देंगे। आलू के लिए पहली बार प्रदेश में समर्थन मूल्य घोषित हुआ। गन्ना किसानों को 23,500 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान कराया। 85 फीसदी से ज्यादा गन्ना किसानों के पैसे का भुगतान हो चुका है। नया सत्र शुरू होने से पहले शत प्रतिशत भुगतान कर दिया जाएगा।' यूपी के सीएम ने अपनी सरकार की उपलब्धियों के बारे में कहा, 'प्रदेश के अंदर 10 लाख युवाओं को रोजगार देना है। पिछली सरकारों की भर्तियों में गड़बड़ियां थीं। अगले 3 वर्षों में उत्तर प्रदेश पुलिस में 1.5 लाख खाली पदों को नई भर्ती के जरिए भरा जाएगा। भ्रष्टाचार और जातिवाद पर लगाम कसने के लिए समूह ग व घ की भर्ती प्रक्रिया में इंटरव्यू को समाप्त किया। दिव्यांगों की पेंशन 300 से बढ़ाकर 500 रुपये की गई है।' योगी ने कहा, 'करीब 35 लाख राशन कार्ड सत्यापन में फर्जी मिले थे। पिछली सरकारों में राशन कार्डों को बनाने में गड़बड़ियां हुईं। हमने 30 लाख से ज्यादा फर्जी राशन कार्डों को रद्द किया। प्रदेश की सड़कों को गड्ढामुक्त किया। नई औद्योगिक नीति को हम ला रहे हैं।' स्वास्थ्य सुविधा के बारे में सीएम ने कहा कि 150 अडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस सेवा शुरू की गई है। डॉक्टरों की रिटायरमेंट आयु 60 से बढ़ाकर 62 वर्ष की गई है। 40 जिप्रदेश के अंदर दवा खरीद की एक केंद्रीय व्यवस्था कायम की गई है। प्रदेश का 800 करोड़ का दवा खरीद के जरिए पहले के मुकाबले दोगुना लोगों को लाभान्वित करेंगे। योगी ने कहा, 'अब तक 5298 जरूरतमंद लोगों को मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से 69 करोड़ 41 लाख 17 हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जा चुकी है।' सीएम ने कहा, 'प्रदेश के ढांचागत विकास का रोडमैप तैयार किया है। खासकर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे को लेकर। बुंदेलखंड के विकास के लिए और वहां के नौजवानों के पलायन को रोकने के लिए विकास की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं। अयोध्या, वाराणसी और मथुरा में रामायण, बौद्ध और कृष्ण सर्किट का भव्य निर्माण होगा।' योगी ने कहा, 'स्वदेश दर्शन योजना के तहत 1240 करोड़ रुपये के निर्माण कार्य होंगे। अयोध्या और वाराणसी को जोड़ने का काम शुरू हुआ है। मथुरा-वृंदावन क्षेत्र के पर्यटन विकास के लिए ब्रज पर्यटन विकास परिषद की स्थापना की गई है। जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। कई एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का काम तेजी से चल रहा है। कानपुर और आगरा में मेट्रो का काम प्रारंभ होने जा रहा है। गाजियाबाद और नोएडा में मेट्रो के काम की कार्रवाई को और विस्तार देने की तैयारी है।' सीएम ने इस दौरान कहा कि प्रदेश में पर्यटन की व्यापक संभावनाएं हैं। अयोध्या में रामलीला को पिछली सरकारों ने बंद करा दिया था। हमने उसे शुरू कराया। अयोध्या, मथुरा और काशी के विकास को आगे बढ़ाने के लिए कार्रवाई प्रांरभ की है। सीएम ने कहा कि प्रयागराज में 2019 में अर्धकुंभ का आयोजन बहुत भव्यता के साथ संपन्न करके आने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधा का पूरा इंतजाम करेंगे। सीएम आदित्यनाथ ने कहा कि किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ट्वीट करके उनकी खिल्ली उड़ा रहे हैं, जबकि एसपी की सरकार ने किसानों की भलाई के लिए कुछ नहीं किया। इससे पहले सोमवार को योगी सरकार ने पिछली सरकारों पर श्वेतपत्र पेश किया था। इस दौरान डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और डॉक्टर दिनेश शर्मा के अलावा सरकार के कई मंत्री मौजूद रहे। 24 पन्नों के इस श्वेतपत्र में पिछली अखिलेश यादव सरकार के साथ ही मायावती के कार्यकाल में घोटालों का आरोप लगाया गया था। श्वेतपत्र में कहा गया था कि पिछली सरकारों ने महज 3 फीसदी ही विकास कार्यों पर खर्च किया। साथ ही आरोप लगाया गया कि वर्तमान सरकार को विरासत में अराजकता, गुंडागर्दी, अपराध और भ्रष्टाचार मय वातावरण मिला। श्वेतपत्र के मुताबिक ध्वस्त कानून-व्यवस्था के कारण निवेशक और व्यापारी भी प्रदेश में अपना कारोबार संचालित नहीं कर पा रहे थे। 19 मार्च 2017 को योगी आदित्यनाथ ने प्रचंड बहुमत वाली बीजेपी सरकार की कमान संभाली थी। साभार एनबीटी
योगी के 6 महीने के कार्यकाल पर क्या बोले पिता आनंद सिंह? 
उत्तरप्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के छह माह पूरे हो गए। इस पर अमर उजाला ने उनके पिता आनंद सिंह बिष्ट से बातचीत करके उनकी राय जानी। फोन पर हुई वार्ता में उन्होंने कहा योगी सरकार के छह महीने का कार्यकाल मेरी नजर बेहद सफल रहा। बातचीत में उन्होंने कहा कि हालांकि योगी आदित्यनाथ काफी पहले ही संन्यास ले चुके हैं, इस कारण परिवार से उनका मेलमिलाप पहले ही कम हो गया था, और अब तो उत्तरप्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके पास परिवार के लिए समय और भी कम हो गया है। वे इस वक्त देश की सेवा कर रहे हैं। कहते हैं कि मैं खुश हैं, योगी अपने काम को बेहद अच्छे ढंग से निभा रहा है। योगी के पिता आनंद सिंह से जब पूछा गया कि वे अपने बेटे को बतौर मुख्यमंत्री कितने अंक देना चाहेंगे तो जवाब में वे कहते हैं कि योगी पूरे नंबर के हकदार हैं। हालांकि उन्होंने आगे यह भी कहा कि कुछ तथाकथित लोग टीवी चैनल के जरिए उनके खिलाफ भ्रामक प्रचार कर रहे हैं, लेकिन इससे उनकी लोकप्रियता और काबलियत पर कोई असर नहीं पड़ने वाला। बातचीत के दौरान आनंद सिंह बिष्टै ने कहा कि वे योगी आदित्यनाथ से बात करना चाहते हैं, मिलना भी चाहते हैं, लेकिन बेटे के पास अभी उनके लिए समय कम है। लेकिन जल्द ही वे उनसे मुलाकात करने जाएंगे। आनंद सिंह बिष्ट ने बताया कि दशहरे के मौके पर वे परिवार समेत योगी आदित्यनाथ से मिलने जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि उनकी बेटे से आखिरी मुलाकात जून 2017 में हुई थी। उस वक्त वे उन्हें मुख्यमंत्री बनने पर बधाई देने पहुंचे थे। हालांकि इससे पहले ही उन्होंने फोन पर उनकी ताजपोशी के वक्त बधाई दे दी थी। एक सवाल यूपी के सीएम योगी आदित्नाथ का उत्तराखंड अपने आवास (यमकेश्वर, जिला पौड़ी गढ़वाल) आने का कब विचार है? जवाब में पिता आनंद सिंह ने बताया कि अभी वे जो काम कर रहे हैं, उसमें व्यस्त हैं। हम लोग ही उनसे मुलाकात करने जाएंगे। साभार अमर उजाला
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पेश किया छह माह का रिपोर्ट कार्ड Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल