ताज़ा ख़बर

क्या पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या संघ ने कराई थी?

मर्डर में आरएसएस का नाम जोड़ने पर बीजेपी ने रामचंद्र गुहा को भेजा नोटिस 
बेंगलुरु। महिला पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के मामले में संघ परिवार का नाम जोड़ने पर बीजेपी ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को कानूनी नोटिस भेजा है। गुहा ने कहा था कि गौरी लंकेश के हत्यारे संघ परिवार से जुड़े हो सकते हैं। बीजेपी की ओर से रामचंद्र गुहा को नोटिस भेजकर तीन के भीतर बिना शर्त माफी मांगने को कहा गया है। यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ सिविल और क्रिमिनल ऐक्शन लिया जाएगा। बीजेपी ने पिछले सप्ताह एक वेबसाइट में प्रकाशित गुहा के बयान के आधार पर उन्हें नोटिस भेजा है। इसमें उन्होंने कहा था, 'इसकी बहुत संभावना है कि गौरी लंकेश के हत्यारे भी उसी संघ परिवार से जुड़े हों, जिससे जुड़े लोगों ने ही दाभोलकर, पानसारे और कलबुर्गी की हत्या की थी।' इस बीच रामचंद्र गुहा ने ट्वीट कर वर्तमान मोदी सरकार पर अप्रत्यक्ष तौर पर निशाना साधते हुए लिखा, 'अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि किसी पुस्तक या लेख का जवाब दूसरी पुस्तक या लेख ही हो सकते हैं। लेकिन हम अब वाजपेयी के भारत में नहीं रह रहे।' एक और ट्वीट में गुहा ने लिखा, 'आज के भारत में स्वतंत्र लेखकों और पत्रकारों का उत्पीड़न किया जा रहा है। सताया जा रहा है और यहां तक कि हत्याएं कर दी जा रही हैं। लेकिन, हमें चुप नहीं होना है।' बीजेपी की ओर से भेजे गए लीगल नोटिस में कहा गया है कि अब तक इन हत्याओं के केस सुलझे नहीं हैं। कर्नाटक के एक बीजेपी नेता ने कहा कि आरएसएस दुनिया का सबसे बड़ा स्वयंसेवी सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन है। वहीं, बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी है। नोटिस में कहा गया है, 'आपकी ओर से जानबूझकर गलत बयान दिए जाने से हमारे मातृ संगठन से जुड़े हजारों लोगों और समर्थकों में गहरी नाराजगी है।' साभार एनबीटी  
अब हम वाजपेयी के भारत में नहीं रहते 
बीबीसी हिंदी के लिए इमरान कुरैशी ने लिखा है कि पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या में कथित तौर पर संघ परिवार की मिलीभगत होने की आशंका जताने पर इतिहासकार और कमेंटेटर रामचंद्र गुहा के ख़िलाफ़ क़ानूनी नोटिस जारी किया गया है. इसमें उनसे तीन दिन के भीतर बिना शर्त माफ़ी मांगने को कहा गया है. यह नोटिस कर्नाटक बीजेपी युवा मोर्चा के सचिव करुणाकर खसाले की ओर से भेजा गया है. नोटिस में कहा गया है कि आधारहीन, झूठे और छवि खराब करने वाले आरोप लगाने पर गुहा के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज कराया जाएगा. खसाले की मुख्य दलील ये है कि दाभोलकर, पानसरे, कलबुर्गी और गौरी लंकेश की हत्या के मामले में अभी न्यायिक जांच जारी है. इसके जवाब में गुहा ने ट्वीट करके तंज कसा है. गुहा ने सोमवार को एक ट्वीट किया, ''अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि किसी किताब या लेख का जवाब दूसरी किताब या लेख हो सकता है. लेकिन अब हम वाजपेयी के भारत में नहीं रहते.'' उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ''आज भारत में स्वतंत्र लेखकों और पत्रकारों को प्रताड़ित किया जा रहा है, सताया जा रहा है, यहां तक कि हत्या कर दी जा रही है. लेकिन हम चुप नहीं होंगे.'' बीजेपी की तरफ़ से गुहा को भेजे नोटिस में कहा गया है, ''किसी भी व्यक्ति के ख़िलाफ़ न तो किसी तरह का मुक़दमा चला है और न ही किसी को दोषी ठहराया गया है. ऐसी स्थिति में बिना किसी सबूत के आप ग़लत और भ्रामक बयान देकर सीधे तौर पर संगठन और इसके सदस्यों की छवि ख़राब कर रहे हैं.'' क़ानूनी नोटिस में कहा गया है गुहा ने एक न्यूज़ वेबसाइट को दिए गए इंटरव्यू में कहा, ''ऐसा बिल्कुल हो सकता है कि गौरी लंकेश के हत्यारे भी उसी संघ परिवार से हों जहां से दाभोलकर, पानसरे और कलबुर्गी के हत्यारे आए थे.'' नोटिस में यह भी कहा गया है कि 'गुहा ने पहले एक अख़बार को भी ऐसा बयान दिया है. सिर्फ़ एक बयान ही नहीं, गुहा पूरे इंटरव्यू में संगठन और इसके सदस्यों की छवि पर दाग लगा रहे हैं.' गुहा ने पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के ठीक बाद ये इंटरव्यू दिया था. गौरी लंकेश की हत्या 5 सितंबर को तब हुई थी जब वह दफ़्तर से घर लौटी थीं. खसाले ने कहा कि उनका संगठन बेहद सम्मानित है और दुनियाभर के राष्ट्रवादी लोग इसके सदस्य हैं और यह देश के संवैधानिक मूल्यों का सम्मान करता है. नोटिस में कहा गया कि 'जानबूझकर बीजेपी के ख़िलाफ़ झूठा बयान देकर गुहा ने संगठन के हज़ारों सदस्यों और उसके समर्थकों को दुख पहुंचाया है.' क़ानूनी नोटिस में एक उद्योगपति, एक इंटरप्रेन्योर, बिज़नेसमैन और एक प्रोफ़ेसर का भी नाम है जिन्होंने खसाले से गुहा के आरोपों को लेकर निजी तौर पर उनसे जानकारी ली थी. खसाले ने क़ानूनी नोटिस में कहा कि आधारहीन आरोप लगाकर चारों मामलों की जांच को प्रभावित करने की कोशिश की गई है. उन्होंने कहा ''न्याय प्रक्रिया में गैरक़ानूनी दखल दिया जा रहा है और यह ग़लत है.'' गौरी लंकेश की हत्या के बाद से ही यह तुलना लगातार की जा रही है कि ठीक इसी तरह दो साल पहले डॉ. एमएम कलबुर्गी की हत्या की गई थी. कलबुर्गी की तरह गौरी लंकेश भी हिंदूवादी ताकतों के ख़िलाफ़ बोलती और लिखती थीं. गौरी ने अपने अख़बार 'लंकेश पत्रिका' में भी दक्षिणपंथी विचारधारा के ख़िलाफ़ खूब लिखा था. उन्होंने आंदोलन की शुरुआत नक्सल प्रभावित इलाकों से की और कुछ नक्सलियों को मुख्यधारा में लाने में कामयाब भी रहीं. लेकिन जब उनकी हत्या हुई तो कुछ बीजेपी समर्थकों और सदस्यों ने उन्हें नक्सल समर्थक बताया. इस वजह से गौरी लंकेश की हत्या का राजनीतिकरण शुरू हो गया. कुछ लोगों ने गौरी पर नक्सल समर्थक होने का आरोप लगाया तो कुछ ने हत्या का आरोप बीजेपी और आरएसएस पर मढ़ा. फ़िलहाल मामले की जांच जारी है. कर्नाटक सरकार गौरी के हत्यारों को पकड़ने के लिए एसआईटी का गठन किया था जिसमें अब कुछ और सदस्य बढ़ा दिए गए हैं. साभार बीबीसी
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: क्या पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या संघ ने कराई थी? Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल