ताज़ा ख़बर

केन्द्रीय कैबिनेट फेरबदल में निर्मला सीतारमण को रक्षा, पीयूष गोयल को रेल मिला, पढ़ें पूरी लिस्ट्

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मंत्रिमंडल में प्रदर्शन के आधार पर फेरबदल व विस्तार किया। इसमें निर्मला सीतारमण को रक्षामंत्री बनाया गया है। मोदी ने तीन अन्य को भी कैबिनेट मंत्री के रूप में पदोन्नति दी और अपने कैबिनेट में नौ नए चेहरों को शामिल किया। मंत्रिमंडल में शामिल नौ नए चेहरों में से चार पूर्व नौकरशाह हैं। बिजली मंत्री पीयूष गोयल को राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) से पदोन्नति देकर रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। रेल मंत्रालय से सुरेश प्रभु को वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय भेज दिया गया है। प्रभु से पहले वाणिज्य मंत्रालय का प्रभार सीतारमण के पास था। प्रभु ने उत्तर प्रदेश में हुए एक बड़े रेल हादसे के बाद इस्तीफा देने का प्रस्ताव दिया था। इस रेल हादसे में बीते महीने 23 लोगों की मौत हो गई थी। प्रोन्नत मंत्रियों व नए चेहरों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में हुए 35 मिनट के समारोह में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस समारोह में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद व कुछ नए मंत्रियों के परिवार के सदस्य मौजूद थे। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के रक्षामंत्री रहने के बाद सीतारमण रक्षा मंत्रालय संभालने वाली दूसरी महिला हैं। इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाला था। अभी तक वित्तमंत्री अरुण जेटली के पास रक्षा मंत्रालय का प्रभार था। अपनी नियुक्ति पर सीतारमण ने कहा कि वह बहुत अभिभूत महसूस कर रही हैं और वह इस सम्मान को शब्दों में बयां नहीं कर सकतीं। उन्होंने कहा, “पार्टी और प्रधानमंत्री बहुत ही सहयोगी रहे हैं। दक्षिण (भारत) के एक सामान्य कार्यकर्ता से पार्टी द्वारा यह पहचान मिलने से मैं अभिभूत हूं।” मंत्रिमंडल में तीन साल में तीसरी बार हुए फेरबदल में नितिन गडकरी, जिनके पास सड़क परिवहन व राजमार्ग व जहाजरानी मंत्रालय था, उन्हें जल संसाधन, नदी विकास व गंगा पुनर्जीवन मंत्रालय की भी जिम्मेदारी दी गई। इस मंत्रालय को उमा भारती से ले लिया गया। उमा को अब पेयजल व स्वच्छता विभाग दिया गया है। इससे पहले अटकलें थीं कि उमा भारती को हटाया जा सकता है। मोदी मंत्रिमंडल के छह मंत्रियों ने फेरबदल से पहले इस्तीफा दे दिया था। इसमें कलराज मिश्रा (कैबिनेट मंत्री) राजीव प्रताप रूडी व बंडारू दत्तात्रेय (राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार), फग्गन सिंह कुलस्ते, संजीव बालियान व महेंद्र नाथ पांडेय शामिल हैं। जिन अन्य दो मंत्रियों को पदोन्नति दी गई है, उनमें पेट्रोलिय व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेद्र प्रधान को साथ में कौशल विकास व उद्यमिता का प्रभार दिया गया है। कौशल विकास व उद्यमिता विभाग राजीव प्रताप रूडी के पास था। मुख्तार अब्बास नकवी के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय को बरकरार रखते हुए उन्हें कैबिनेट में जगह दी गई है। कैबिनेट में शामिल किए गए चार नौकरशाहों में से तीन को राज्य मंत्री का स्वतंत्र प्रभार दिया गया है। इन तीन में पूर्व गृह सचिव आर.के. सिंह को बिजली एवं नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा का प्रभार दिया गया है। इसका प्रभार पूर्व में पीयूष गोयल के पास था। पूर्व राजनयिक हरदीप पुरी को आवास व शहरी मामलों का प्रभार दिया गया है। के.जे. अल्फोंस को पर्यटन व इलेक्ट्रॉनिक्स व आईटी मंत्रालय का राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है। पुरी व अल्फोंस सांसद नहीं हैं और उन्हें संसद में छह महीने में चुनकर आना होगा। अल्फोंस केरल भाजपा से आने वाले दूसरे व्यक्ति हैं, जिन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिली है। इससे पहले भाजपा के पूर्व नेता ओ. राजगोपाल को जगह मिली थी, राजगोपाल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय अपनी सेवाएं दी थीं। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त सत्यपाल सिंह को मानव संसाधन विकास, जल संसाधन, नदी विकास व गंगा पुनर्जीवन का राज्य मंत्री बनाया गया है। यह विभाग पूर्व में बालियान के पास था। बालियान व सत्यापाल सिंह दोनों पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हैं। मंत्रिमंडल में शामिल अन्य पांच नए राज्य मंत्रियों में -शिव प्रताप शुक्ला (वित्त), अश्विनी चौबे (स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण), वीरेंद्र कुमार (महिला एवं बाल विकास और अल्पसंख्यक मामले), अनंत कुमार हेगड़े (कौशल विकास व उद्यमिता), गजेंद्र सिंह शेखावत (कृषि व किसान कल्याण) शामिल हैं। शिव प्रताप शुक्ला उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री के तौर पर आठ सालों तक सेवाएं दी हैं और उन्हें उनके ग्रामीण विकास, शिक्षा व जेल सुधार के कार्यो के लिए जाना जाता है। वीरेंद्र कुमार छह बार से मध्य प्रदेश से लोकसभा सांसद हैं। हेगड़े उत्तर कन्नड़ से लोकसभा सांसद हैं, वह पांच बार चुनाव जीत चुके हैं। कर्नाटक में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। शेखावत राजस्थान के जोधपुर से पहली बार सांसद बने हैं। शेखावत एक तकनीकी सेवी प्रगतिशील किसान के रूप में ग्रामीण समुदाय में देखे जाते हैं। मोदी ने इस अवसर का इस्तेमाल कुछ मंत्रालयों में बदलाव के लिए भी किया है। राज्यवर्धन सिंह राठौर को पदोन्नति दी गई है। राठौर को युवा मामलों व खेल विभाग का स्वतंत्र प्रभार दिया गया है। इस मंत्रालय को विजय गोयल से लिया गया है। विजय गोयल को बिना स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्री बनाया गया है और उन्हें संसदीय मामलों व सांख्यिकी व कार्यक्रम क्रियान्वयन का प्रभार दिया गया है। एस.एस. अहलूवालिया को संसदीय मामलों से उमा भारती के पेयजल व स्वच्छता विभाग में स्थानांतरित किया गया है। गिरिराज सिंह जो सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यमिता मंत्रालय में राज्य मंत्री थे, उन्हें कलराज मिश्रा के इस्तीफे के बाद मंत्रालय का पूरा प्रभार दिया गया है। अन्य राज्य मंत्रियों में, जिन्हें स्वतंत्र प्रभार के रूप में पदोन्नति मिली है, संतोष गंगवार को वित्त से श्रम व रोजगार में स्थानांतरित किया गया है। दूसरे वित्त राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल को अब संसदीय कार्य व जल संसाधन का प्रभार दिया गया है। संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को पर्यटन व पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन के राज्य मंत्री के रूप में हर्ष वर्धन के अधीन रखा गया है। जहाजरानी राज्य मंत्री पी.राधाकृष्णन को वित्त विभाग का प्रभार दिया गया है। उन्हें राज्य परिवहन व राजमार्ग से हटा दिया गया है। मोदी मंत्रिमंडल के रविवार को हुए फेरबदल में उसके सहयोगी दल शिवसेना व जनता दल (युनाइटेड) व नए सहयोगी एआईएडीएमके को शामिल नहीं किया गया है। अब मोदी मंत्रिमंडल में प्रधानमंत्री सहित मंत्रियों की संख्या 76 हो गई है। इसमें 28 कैबिनेट, 11 स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्री व 37 राज्य मंत्री शामिल हैं। बिहार के आरा से लोकसभा सांसद आर.के. सिंह संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार में केंद्रीय गृह सचिव रह चुके हैं। उत्तर प्रदेश के बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह मुंबई पुलिस आयुक्त रह चुके हैं। उत्तर प्रदेश के राज्यसभा सांसद शिव प्रताप शुक्ला ग्रामीण विकास पर संसदीय स्थायी समिति के सदस्य हैं और उत्तर प्रदेश में चार बार विधायक रह चुके हैं। वीरेंद्र कुमार मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ से छह बार सांसद रहे हैं और श्रम मामलों में संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष हैं। कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ से लोकसभा सांसद हेगड़े एक अनुभवी सांसद हैं जो पांच बार चुनाव जीत चुके हैं। वह विदेश मामलों और मानव संसाधन विकास मामले की संसदीय स्थायी समिति के सदस्य हैं। राजस्थान के जोधपुर से पहली बार सांसद बने शेखावत तकनीकी जानकार और प्रगतिशील किसान रहे हैं। मोदी के मंत्रिमंडल का विस्तार होने के बाद प्रधानमंत्री (मोदी) सहित कुल 76 मंत्री हो गए हैं, जिनमें 28 कैबिनेट मंत्री हैं। यहां पढ़ें पूरी लिस्ट नरेंद्र मोदी : प्रधानमंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन प्रभारी, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग, सभी महत्वपूर्ण नीतिगत मुद्दे और किसी भी मंत्री को आवंटित नहीं किए विभाग कैबिनेट मंत्री : 1. राजनाथ सिह- गृह मंत्रालय 2. सुषमा स्वराज- विदेश मंत्रालय 3. अरुण जेटली- वित्त एवं कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय 4. नितिन गड़करी- सड़क यातायात और राजमार्ग, जहाजरानी एवं जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्जीवन विभाग मंत्रालय 5. सुरेश प्रभु-वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय 6. डी.वी. सदानंद गौड़ा-सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय 7. उमा भारती-पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय 8. रामविलास पासवान-उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं जनवितरण मंत्रालय 9. मेनका गांधी-महिला एवं बाल विकास मंत्रालय 10. अनंतकुमार-रासायनिक एवं उर्वरक, संसदीय कार्य मंत्रालय 11. रवि शंकर प्रसाद- कानून एवं न्याय, इलेक्ट्रोनिक एवं सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय 12. जगत प्रकाश नड्डा-परिवार एवं स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय 13. अशोक गणपति राजू-नागर विमानन मंत्रालय 14. अनंत गीते-भारी उद्योग एवं सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय 15. हरसिमत कौर बादल-खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय 16. नरेंद्र सिंह तोमर-ग्रामीण विकास, पंचायती राज और खनन मंत्रालय 17. चौधरी बिरेंद्र सिह-इस्पात मंत्रालय 18. जुआल ओरम-जनजातीय मामलों का मंत्रालय 19. राधामोहन सिंह-कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय 20. थावर चंद गहलोत-सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय 21. स्मृति जुबिन ईरानी- कपड़ा, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय 22. हर्षवर्धन- विज्ञान एवं प्रोद्यौगिकी, पृथ्वी विज्ञान, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय 23. प्रकाश जावड़ेकर-मानव संसाधन मंत्रालय 24. धर्मेद्र प्रधान-पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय 25. पीयूष गोयल-रेलवे एवं कोयला मंत्रालय 26. निर्मला सीतारमण- रक्षा मंत्रालय 27. मुख्तार अब्बास नकवी-अल्पसंख्यक मंत्रालय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) 1. राव इंद्रजीत सिह- योजना(स्वतंत्र प्रभार) और रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय 2. संतोष कुमार गंगवार-श्रम एवं रोजगार मंत्रालय 3. श्रीपद नायक-आर्युवेद, योग, प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्धा एवं होम्योपैथी(आयुष)मंत्रालय 4. जितेंद्र सिह- पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास, प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन प्रभारी मंत्रालय 5. महेश शर्मा-संस्कृति(स्वतंत्र प्रभार), पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय 6. गिरीराज सिंह- सूक्ष्म, लघु एवं मघ्यम उद्योग मंत्रालय 7. मनोज सिन्हा- संचार(स्वतंत्र प्रभार) और रेलवे मंत्रालय 8. राज्यवर्धन सिंह राठौर-युवा मामले एवं खेल(स्वतंत्र प्रभार), सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय 9. आर.के सिंह-बिजली और नया नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय 10. हरदीप सिंह पुरी-आवास एवं शहरी मामले मंत्रालय 11. अल्फोंस कन्नानथानम-पर्यटन, इलेक्ट्रोनिक एवं सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्रालय राज्य मंत्री 1. विजय गोयल-संसदीय कार्य, सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय 2. राधाकृष्णन पी- वित्त एवं जहाजरानी मंत्रालय 3. एस.एस अहलुवालिया-पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय 4. रमेश चंदप्पा जिगाजीनागी- पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय 5. रामदास अठावले-सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय 6. विष्णु देव साई-इस्पात मंत्रालय 7. रामकृपाल यादव- ग्रामीण विकास मंत्रालय 8. हंसराज गंगाराम अहिर-गृह मंत्रालय 9. हरिभाई पृथ्वीभाई चौधरी-खनन, कोयला मंत्रालय 10. रजन गोहेन-रेलवे मंत्रालय 11. वी.के सिंह-विदेश मंत्रालय 12. परषोत्तम रूपाला-कृषि एवं किसान कल्याण, पंचायती राज 13. कृष्ण पाल-सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय 14. जशवंतसिन्ह सुमानभाई भाभोर-जनजातीय मामलो का मंत्रालय 15. शिव प्रताप शुक्ला-वित्त 16. अश्विनी कुमार चौबे-स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण 17. सुदर्शन भगत-जनजातीय मामलों का मंत्रालयस 18. उपेंद्र कुशवाहा-मानव संसाधन मंत्रालय 19. किरेण रिजीजु-गृह मंत्रालय 20. विरेंद्र कुमार- महिला एवं बाल विकास, अल्पसंख्यक मंत्रालय 21. अनंतकुमार हेगड़े-कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय 22. एम.जे.अकबर-विदेश मंत्रालय 23. साध्वी निरंजन ज्योति-खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय 24. वाई एस चौधरी- विज्ञान एवं प्रोद्यौगिकी, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय 25. जयंत सिन्हा-नागर विमानन मंत्रालय 26. बाबुल सुप्रियो- भारी उद्योग एवं सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय 27. विजय संपला-सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय 28. अर्जुन राम मेघवाल-संसदीय कार्य, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्निमाण मंत्रालय 29. अजय टाम्टा-कपड़ा मंत्रालय 30. कृष्ण राज-कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय 31. मनसुख एल मंडावीय-सड़क परिवहन, राजमार्ग, जहाजरानी, रसायन एवं उवर्रक मंत्रालय 32. अनुप्रिया पटेल- स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय 33. सी आर चौधरी-उपभोक्ता मामला, खाद्य एवं जनवितरण, वाणिज्य एवं उद्योग 34. पी पी चौधरी- कानून एवं न्याय मंत्री, कॉरपोरेट मंत्रालय 35. सुभाष रामराव भामरे-रक्षा मंत्रालय 36. गजेंद्र सिंह सेखावत-कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय 37. सत्यपाल सिंह- मानव संसाधन, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुनर्जीवन
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: केन्द्रीय कैबिनेट फेरबदल में निर्मला सीतारमण को रक्षा, पीयूष गोयल को रेल मिला, पढ़ें पूरी लिस्ट् Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल