ताज़ा ख़बर

खुद अपना विहान और खुद अपना विधान बन अतुल मालिकराम ने अपनी राह बनाई

कहते हैं- ‘पहुँचना किसी मंजिल पर कुछ मुश्किल तो नहीं, बस इंसान में जरा चलने की आदत चाहिए’ 
चलने की आदत को अपना लक्ष्य बनाकर मध्यम परिवार में जन्म लेकर भी संघर्ष व मेंहनत का रास्ता अपनाया। अतुल की सोच है की मैं अपनी ज़िन्दगी में आने वाले हर व्यक्ति को महत्व देता हूँ, जो अच्छे हैं वे हमेशा साथ देंगे और जो बुरे हैं वो सबक देंगे। सफलता के ऊँचे मुकाम पर पहुंच कर भी यह उंचाई उनके लिए नई शुरुआत की प्रेरणा है। अतुल मालिकराम ने वर्ष 2001 में Pr24x7 की स्थापना कर सफर की अकेले शुरुआत की। लोग जुड़ते गए और कारवाँ बनता गया। वर्तमान में Pr24x7 के 18 राज्यों में 46 से अधिक शहरो में सेन्टर हैं जहा 125 से अधिक लोगों की प्रशिक्षित टीम काम कर रही है। सप्ताह के सातों दिन चौबीस घंटे सेवा में रहते हुए पाठकों को सुबह की चाय के साथ उनसे सम्बंधित खबरें पहुंचाने के साथ ही व्यापार में बृद्धि के लिए इमेज बिल्डिंग, ब्रांडिंग, डिजिटल कम्युनिकेशन व एनालिसिस के माध्यम से ग्राहकों को सम्पूर्ण सेवाएं प्रदान करते हैं। ग्राहकों को अपने काम से पूरी तरह संतुष्ट करना कंपनी का प्रमुख लक्ष्य है कंपनी की स्थापना से अब तक अतुल ने अपनी दूरदृष्टि मेहनत और जीवटता से 1500 प्रतिशत ग्रोथ रेट को हासिल किया है। कंपनी के विकास की इस गति में टर्न ओवर को 80 मिलियन पर पंहुचा दिया है मोदी जी के 2022 के भारत में इसे 222 मिलियन तक पहुंचने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सतत कार्यशील रह कर समय के साथ चलना अतुल का एक और सपना है। हिंदी भाषी क्षेत्रों की प्रमुख पीआर कंपनी Pr24x7 ने उत्तरी भारत की श्रेष्ठ पीआर कम्पनी के चाडक्य अवार्ड व क्वालिटी मार्क अवार्ड प्राप्त किया है। बात सिर्फ Pr24x7 तक ही सीमित नहीं रही। अतुल ने अपनी मेहनत व लगन से इसके साथ ही अन्य क्षेत्रो में भी सफलता से काम किया है जो उनके बहुआयामी व्यक्तित्व को दर्शाता है तथा समय के साथ चलते हुए समय के अनुरूप ग्राहकों को सेवा व सुविधा प्रदान करने के जज्बे को प्रतिबिंबित करता है ग्राहक किसी भी व्यव्साय और सेवा का सबसे अहम् हिस्सा होता है और अतुल ने हमेशा ग्राहकों की अपेक्षा उनकी संतुष्टि और उनके विकास को महत्व दिया इसीलिए तो लोग इनसे जुड़े और सेवाएं लेनी आरम्भ की वे हमेशा संतुष्ट रहे। ग्राहकों को संतुष्ट करने के लिए पहले काम करने वाले कर्मचारियों का खुश व संतुष्ट होना एक आवश्यक तत्व है अपने स्टाफ को परिवार मानने वाले अतुल स्टाफ वेल फेयर के माध्यम से तथा व्यक्तिगत स्तर पर एक गार्जियन के रूप में स्टाफ की हमेशा मदद व सहयोग करते हैं जो व्यक्ति जहा काम कर रहा है उसे आगे बढ़ाने में विशेष रूचि रखते हैं कंपनी में कार्य सफाई के लिए आने वाला लड़का आज कंप्यूटर सीख कर सहजता से कंप्यूटर पर कार्य कर रहा है संतुष्ट स्टाफ से संतुष्ट ग्राहक ही इनकी व्यवसायिक सफलता का एक पहलु है|
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: खुद अपना विहान और खुद अपना विधान बन अतुल मालिकराम ने अपनी राह बनाई Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल