ताज़ा ख़बर

मानवीय संवेदनाओं के साथ मानव सेवा के कार्यों की अलख जगा रहे हैं अतुल मलिकराम

पर पीड़ा से छलक उठे मन, यह छलकन ही गंगा जल हैं 
दुःख हरने को पुलक उठे मन, यह पुलकन ही तुलसीदल हैं 
उत्तरी भारत की सबसे प्रमुख पीआर कम्पनी पीआर 24x7 के साथ ही अन्य क्षेत्रो में कम्पनीयो का सफलता से संचालन करने वाले अतुल मलिकराम का मन सबसे पहले लोगो की दुख तकलीफ व अभावों से आंदोलित होता है। दुःख के अंधेरो में प्रकाश की किरण बनकर अभावों में भाव भारने के लिए जरुरतमंदो तक सीधे सहायता पहुंचाना अतुल का पसंदीदा काम है। निःस्वार्थ सेवा के ऐसे कितने ही काम करने वाले अतुल के मन में वरिष्टजनो की तकलीफो के लिए भी पीड़ा है। र्बीइंग रिसपान्सिबल नामक संस्था के द्वारा वरिष्टजनों के प्रति समाज के उत्तरदायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। वरिष्ट नागरिकों के अकेलेपन, उम्र की समस्याओं व सामाजिक तथा पारिवारिकतकलीफो ने अतुल के मन को झकझोर दिया। बीईंग रिसपान्सिबल के द्वारा एक डे केयर सेन्टर आरंभ किया जहां उम्र की ढलान पर चल रहें लोग इकट्ठा होते है अपने हम उम्र लोगों के साथ समय बिताते हुए गपशप करते है इनडोर व हल्के फुल्के आउटडोर गेम्स का आंनद लेते हैं कम्प्युटर व मोबाइल चलाना सीखते है और इनके बारे में और अधिक जानकारी लेते रहते हैं। रोचकता बनाए रखने के लिए प्रतिदिन छोटे-छोटे विविध कार्यक्रम करते है साथ में जन्मदिन मनाकर खुशियों को आपस में बाट लेते है यहां कोई अपने दुःख का रोना-रोने का प्रयास नहीं करते हैं। सभी साधन सम्पन्न लोग है उन्हें सिर्फ जीवन की एकरसता व बोरियत दूर करने के लिए हम उम्र व्यक्तियों का साथ व समय चाहिए। स्टाफ का एक व्यक्ति इस सेन्टर पर जाकर व्यवस्थाए देखने व कम्प्युटर वगेरा सीखाने का काम करता है। बहुत से वृदजन ऐसे भी है जिनको परिस्थिती वंश घर परिवार का साथ नसीब नहीं है और उनके पास जीवन यापन के लिए सुविधाएं भी नहीं है उनके लिए अतुल ने ओल्ड एज होम बनाया है। यहां पर ऐसे वृद्धजन रहते हैं जिनके पास साधन नहीं हैं और परिजन भी नहीं रखते हैं। इस ओल्ड एज होम में उनके लिए सुविधा युक्त आवास के साथ खान-पान व दवाई की पूरी व्यवस्था है और हम उम्र लोगों का साथ है। सेवा के इस सफर में एक कदम आगे बढ़ाते हुए अतुल ने एक नया प्रोजेक्ट आरंभ किया है जिस पर काम चल रहा है। एक सुविधा युक्त सशुल्क वृद्ध निवास बना रहे हैं। जिनके बच्चे नहीं है या विदेशो में डालर के आर्कषण में डूबें है उन माता-पिता के लिए ऐसे घर बन रहे हैं। जहां भोजन चिकित्सा, कार ड्राइवर, नर्स व अन्य कार्या के लिए व्यक्तिगत सहायक जैसी सुविधाएं सशुल्क उपलब्ध रहेंगी। सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम होंगे। इंदौर में यह आवास योजना शीघ्र ही प्रारम्भ हो जाएगी। अतुल के मन की संवेदनाओं का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि हाल ही में कैफे भड़ास के शुभारंभ के अवसर पर आगन्तुको से निमंत्रण के साथ ही अनुरोध किया था कि वे बुके या उपहार बिल्कुल ना लाए हो सके तो कापी पेन-पेन्सिल लेकर आए। स्नेहीजनो ने उनकी भावनाओं का सम्मान करते हुए यह सामग्री भेट की जो जरुरतमंद विद्यार्थियों को प्रदान की गई। ऐसा भी नहीं है कि अतुल एक रीटायर्ड व्यक्ति है अथवा पारिवारिक जिम्मेदारियों से मुक्त है इसलिए सेवा के इतने काम करते हैं। हिन्दीभाषी क्षेत्र की सबसे बड़ी पीआर कम्पनी पीआर 24x7 चलाने वाले व अन्य क्षेत्रों मे भी सफलता से कार्य करते हुए अंतर्मन की पुकार पर सेवा के लिए समय निकाल लेते हैं। जो व्यक्ति इनकी सेवाओं से लाभान्वित हो रहे है वो लोग कहते हैं- रुके तो चांद, चले तो हवाओं जैसा हमको तो ये शख्स तेज धुप में लगे छांव जैसा
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: मानवीय संवेदनाओं के साथ मानव सेवा के कार्यों की अलख जगा रहे हैं अतुल मलिकराम Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल