ताज़ा ख़बर

राम रहीम बलात्कारी करार, भड़के अनुयायी, हिंसा, आगजनी, उत्पात से थमा जनजीवन

नई दिल्ली। डेरा सच्चा सौदा समिति के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने बलात्कारी क्या ठहराया उनके समर्थक रूपी गुंडे पंजाब और हरियाणा में कहर बरपाने लगे। पंचकूला में ही अब तक 28 लोगों की मौत हो चुकी है। यह आंकड़ा और बढ़ सकता है। दो दिन पहले से पंचकूला में डेरा जमाए डेरा समर्थकों ने जैसे ही सुना कि अदालत ने उसके गुरू को बलात्कार का दोषी ठहराया है, वे उग्र हो गए। जगह-जगह तोड़फोड़ और आगजनी करने लगे। मीडिया वालों को भी नहीं बख्शा। तीन चैनलों के ओबी वैन तोड़े गए और फिर उनमें आग लगा दी गई। ऐसा नहीं है कि यह सब अप्रत्याशित ढंग से हुआ। बता दें कि इसकी आशंका पहले से ही थी लेकिन सिरसा, पंचकूला से लेकर चंडीगढ़ और दिल्ली तक बैठे हुक्मरानों के कान पर जूं नहीं रेंग रही थी। वो हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे और शायद बाबा के उन्मादी समर्थकों से हिंसा की जगह मौन शांति जुलूस की उम्मीद करने लगे। बहरहाल, पंजाब-हरियाणा से निकली यह आग अब दिल्ली और उत्तर प्रदेश तक फैल चुकी है। अगर वहां भी देर हुई तो इसका खामियाजा पूरे देश को भुगतना पड़ सकता है। दरअसल, इन स्तरों पर भारी चूक हुई है, जिन्हें राम रहीम से कम गुनहगार नहीं ठहराया जा सकता है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर आखिरी समय में जागे। ऐसा हो नहीं सकता कि राज्य इंटेलिजेंस ने उनके मातहत विभागों को इस तरह के उपद्रव की आशंका से संबंधित रिपोर्ट नहीं सौंपी हो। बावजूद इसके खट्टर सरकार ने पंचकूला में लाखों लोगों को एकत्रित होने दिया। ऊपर से उनकी सरकार के मंत्री रामबिलास शर्मा यह कहते दिखे कि समर्थकों का जमा होना चिंता की बात नहीं है क्योंकि उनलोगों ने एक पत्ते भी नहीं तोड़े। शायद मंत्री को यह आभास ही नहीं कि उन्मादी और अंधभक्तों की भीड़ कब आक्रामक होती है। इनके अलावा सरकार के प्रवक्ता भी टीवी चैनलों पर धारा 144 की नई परिभाषा समझाते दिखे। ऐसा लग रहा था जैसे मनोहर लाल खट्टर सरकार जान बूझकर डेरा समर्थकों के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाना चाह रही। ऐसा हो भी सकता है क्योंकि हरियाणा विधानसभा चुनाव के दौरान बाबा राम रहीम के एक इशारे पर करोड़ों समर्थकों ने भाजपा को वोट दिया था। हरियाणा के पड़ोसी राज्य पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी डेरा समर्थक गुंडों द्वारा की गई हिंसा और आगजनी के लिए कमोबेश उतने ही जिम्मेदार हैं, जितने मनोहर लाल खट्टर। सेना में रह चुके कैप्टन को भी यह भांपने और फिर उस पर ऐक्शन लेने में लंबा वक्त लग गया। पंजाब सरकार को भी इंटेलिजेंस इनपुट के आधार पर संगरूर, मुक्तसर, मानसा, बठिंडा, फिरोजपुर जैसे इलाकों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने चाहिए थे। सरकार के पास इस बात की पूरी रिपोर्ट रही होगी कि राज्य के किन हिस्सों में बाबा राम रहीम का प्रभाव ज्यादा है और किन इलाकों में वो उपद्रव कर सकते हैं लेकिन अफसोस ऐसा करने में सरकार ने बहुत देर कर दी। नतीजतन ना सिर्फ जान-माल का नुकसान हुआ बल्कि अभी भी हजारों-लाखों जिदगियां सांसत में जीने को मजबूर हैं। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह अक्सर ऐसे आशंकित उन्माद को लेकर सचेत रहे हैं लेकिन उन्होंने इस बार शिथिलता दिखाई है। पंचकूला समेत कई इलाकों में हिंसा फैलने के बाद उन्होंने आपात बैठक की और हालात से निपटने की योजना पर चर्चा की। बेहतर होता कि इंटेलिजेंस की सूचना पर केंद्रीय गृह मंत्रालय पहले ही हरकत में आता तो शायद ना तो इतने बड़े पैमाने पर पंचकूला में उपद्रवी जमा होते और ना ही इतने लोगों की जान जाती या फिर निजी-सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचता। ऊपर से सेना को भी इसमें नहीं कूदना पड़ता। हरियाणा के डीजीपी बी एस संधू ने त्वरित और कारगर कदम उठाने के साथ-साथ उपद्रवियों से निपटने की कारगर रणनीति अपनाई होती तो पहली बात कि पंचकूला में इतने अनुयायी इकट्ठा नहीं होते। ऊपर से उनके हाथों में हथियार नहीं होते। इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक डेरा समर्थकों को इस बात का एहसास पहले से ही था कि कोर्ट उनके गुरू को जेल भेज सकती है, शायद इसी वजह से उनके समर्थक वहां पूरी तैयारी से पहुंचे थे। उन लोगों ने पेट्रोल बम, पत्थर लाठी-डंडे और हॉकी स्टिक जमा कर रखे थे। पंचकूला के अलावा पंजाब-हरियाणा के अन्य हिस्सों की पहचान करने में देर हुई, जहां हिंसा की लपटें फैली हैं।  
ऐसा है बाबा गुरमीत राम रहीम का परिवार 
पंचकूला की सीबीआई विशेष अदालत ने शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को साध्वी से रेप के मामले में दोषी करार दिया है। विशेष अदालत अब 28 अगस्त को राम रहीम की सजा पर फैसला करेगी। वे अभी भी कोर्ट परिसर में मौजूद हैं। इस दौरान राम रहीम समर्थकों ने हंगामा करते हुए पंचकूला में 100 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है। इस हिंसा में ढाई दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई है। इसको देखते हुए दिल्ली और उत्तराखंड में हाई अलर्ट कर दिया है। इस फैसले के बाद सोशल मीडिया से लेकर आपम लोगों में गुरमीत राम रहीम की लाइफ स्टाइल, उनकी फ़िल्में और परिवार को लेकर खूब चर्चा हो रही हैं। गुरमीत की तीन बेटियां और एक बेटा है। उनकी छोटी बेटी फिल्म एक्ट्रेस है। गुरमीत की दो बेटियों की शादी हो चुकी है। उनकी बड़ी बेटी चरणप्रीत अौर दूसरी बेटी का नाम अमनप्रीत इंसा है। गुरमीत की तीसरी बेटी हनीप्रीम उनके साथ फिल्मों में काम कर चुकी है। हनीप्रीत इंसा को गुरमीत ने गोद लिया था। उसने गुरमीत की फिल्म में एक्टिंग के साथ-साथ उसका डायरेक्शन भी किया था। गुरमीत का बेटा जसप्रीत इंसा डेरा सच्चा सौदा का मैनेजमेंट देखता है। गुरमीत की गैर मौजूदगी में डेरे के सभी अहम फैसले वो ही लेता है। डेरा के सभी सेवादार उसे डे टू डे एक्टिविटीज की रिपोर्टिंग करते हैं। गुरमीत की पत्नी हुस्नमीत इंसा बठिंडा के पूर्व विधायक हरमिंदर सिंह की बेटी हैं। आप को बता दें कि इस पूरे मामले की शुरुआत एक गुमनाम खत से हुई थी। ये खत 13 मई 2002 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को लिखा था। इस खत में एक लड़की ने सिरसा डेरा सच्चा सौदा में गुरु राम रहीम के हाथों अपने यौन शोषण का वाकया बताया था। अपने खत में पीड़िता ने लिखा- "मैं पंजाब की रहने वाली हूं और अब 5 साल से डेरा सच्चा सौदा सिरसा (हरियाणा, धन धन सतगुरु तेरा ही आसरा) में साधु लड़की के रूप में कार्य कर रही हूं। सैकड़ों लड़कियां भी डेरे में 16 से 18 घंटे सेवा करती हैं। हमारा यहां शारीरिक शोषण किया जा रहा है। साथ ही डेरा के महाराज गुरमीत सिंह द्वारा यौन शोषण (बलात्कार) किया जा रहा है। मैं बीए पास लड़की हूं। मेरे परिवार के सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं, जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साधु बनी थी। साधु बनने के दो साल बाद एक दिन महाराज गुरमीत की प्रमाशया साधु गुरजोत ने रात के 10 बजे मुझे बताया कि महाराज ने गुफा (महाराज के रहने के स्थान) में बुलाया है। मैं क्योंकि पहली बार वहां जा रही थी, मैं बहुत खुश थी। यह जानकर कि आज खुद परमात्मा ने मुझे बुलाया है। गुफा में ऊपर जाकर जब मैंने देखा महाराज बेड पर बैठे हैं। हाथ में रिमोट है, सामने टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है। बेड पर सिरहाने की ओर रिवॉल्वर रखा हुआ है। मैं ये सब देख कर हैरान रह गई, मेरे पांव के नीचे की ज़मीन खिसक गई। यह क्या हो रहा है। महाराज ऐसे होंगे, मैंने सपने में भी नहीं सोचा था। महाराज ने टीवी बंद किया व मुझे साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है। मैं ये सब देख कर हैरान रह गई, मेरे पांव के नीचे की ज़मीन खिसक गई। यह क्या हो रहा है। महाराज ऐसे होंगे, मैंने सपने में भी नहीं सोचा था। महाराज ने टीवी बंद किया व मुझे साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है। मेरा ये पहला दिन था। महाराज ने मेरे को बांहों में लेते हुए कहा कि हम तुझे दिल से चाहते हैं। तुम्हारे साथ प्यार करना चाहते हैं क्योंकि तुमने हमारे साथ साधु बनते वक्त तन मन धन सतगुरु को अर्पण करने को कहा था। सो अब ये तन मन हमारा है। मेरे विरोध करने पर उन्होंने कहा कि कोई शक नहीं, हम ही खुदा हैं। जब मैंने पूछा कि क्या यह खुदा का काम है, तो उन्होंने कहाः श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं। जिनसे वह हर रोज़ प्रेम लीला करते थे। फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं। यह कोई नई बात नहीं है। यह कि हम चाहें तो इस रिवॉल्वर से तुम्हारे प्राण पखेरू उड़ाकर दाह संस्कार कर सकते हैं। तु्म्हारे घर वाले हर प्रकार से हमारे पर विश्वास करते हैं व हमारे गुलाम हैं। वह हमारे से बाहर जा नहीं सकते, यह बात आपको अच्छी तरह पता है। यह कि हमारी सरकार में बहुत चलती है। हरियाणा व पंजाब के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री हमारे चरण छूते हैं। नेता हमसे समर्थन लेते हैं, पैसा लेते हैं और हमारे खिलाफ कभी नहीं जाएंगे। हम तुम्हारे परिवार से नौकरी लगे सदस्यों को बर्खास्त करवा देंगे। सभी सदस्यों को मरवा देंगे और सबूत भी नहीं छोड़ेंगे, ये तुझे अच्छी तरह पता है कि हमने पहले भी डेरे के प्रबंधक को खत्म करवा दिया था, जिनका आज तक अता-पता ना है। ना ही कोई सबूत बकाया है। जो कि पैसे के बल पर हम राजनीतिक व पुलिस और न्याय को खरीद लेंगे। इस तरह मेरे साथ मुंह काला किया और पिछले तीन माह में 20-30 दिन बाद किया जा रहा है। हमें सफेद कपड़े पहनना, सिर पर चुन्नी रखना, किसी आदमी की तरफ आंख ना उठाकर देखना, आदमी से पांच-दस फुट की दूरी पर रहना महाराज का आदेश है। हम दिखाने में देवी हैं, मगर हमारी हालत वेश्या जैसी है। मैंने एक बार अपने परिवार वालों को बताया कि यहां डेरे में सब कुछ ठीक नहीं है तो मेरे घर वाले गुस्से में कहने लगे कि अगर भगवान के पास रहते हुए ठीक नहीं है, तो ठीक कहां है। तेरे मन में बुरे विचार आने लग गए हैं। सतगुरु का सिमरन किया कर। मैं मजबूर हूं। यहां सतगुरु का आदेश मानना पड़ता है। यहां कोई भी दो लड़कियां आपस में बात नहीं कर सकती, घर वालों को टेलीफोन मिलाकर बात नहीं कर सकती। पिछले दिनों जब बठिण्डा की लड़की साधु ने जब महाराज की काली करतूतों का सभी लड़कियोंj के सामने खुलासा किया तो कई साधु लड़कियों ने मिलकर उसे पीटा। एक कुरुक्षेत्र जिले की एक साधु लड़की जो घर आ गई है, उसने घर वालों को सब कुछ सच बता दिया है। उसका भाई बड़ा सेवादार था। जो कि सेवा छोड़कर डेरे से नाता तोड़ चुका है। संगरूर जिले की एक लड़की जिसने घर आ कर पड़ोसियों को डेरे की काली करतूतों के बारे में बताया तो डेरे के सेवादार गुंडे बंदूकों से लैस लड़की के घर आ गए। घर के अंदर कुण्डी लगाकर धमकी दी। अतः आप से अनुरोध है कि इन सब लड़कियों के साथ-साथ मुझे भी मेरे परिवार के साथ मार दिया जाएगा, अगर मैं इसमें अपना नाम लिखूंगी। हमारा डॉक्टरी मुआयना किया जाए ताकि हमारे अभिभावकों को व आपको पता चल जाएगा कि हम कुमारी देवी साधू हैं या नहीं। अगर नहीं तो किसके द्वारा बर्बाद हुई हैं।"  
अनेक मौतों के बाद पंचकूला पहुंचे खट्टर, कैसे टूटी धारा 144? 
साध्वी रेप केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सीबीआई कोर्ट की ओर से दोषी करार दिए जाने के बाद समर्थकों ने उपद्रव शुरू कर दिया है। पंजाब हरियाणा में समर्थक बेकाबू हो गए हैं। कोर्ट परिसर के बाहर राम रहीम के समर्थकों की पत्थरबाजी में एबीपी न्यूज़ के कैमरा मैन भी घायल हुए हैं। राम रहीम पर फैसले के बाद हरियाणा और पंजाब में हुई हिंसक घटनाओं के बीच दिल्ली प्रशासन ने एतियातन पूरी दिल्ली में धारा 144 लगा है. दिल्ली पुलिस ने लोगों से सहयोग और शांति की अपील की है. राम रहीम पर फैसले के बाद हरियाणा की आग दिल्ली-एनसीआर तक पहुंच गयी. जानकैारी के मुताबिक दिल्ली में 11 जगहों पर हिंसक घटनाएं हुई हैं. दिल्ली पुलिस लगातार सावधानी बरत रही है. दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर एक्स्ट्रा फोर्स लगाई गई है. इसके साथ ही दिल्ली पुलिस के आलाधिकारी लगातार गश्त पर है. हरियाणा की हिंसा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है. प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, “आज हिंसा की घटनाओं से गहरा दुख, में गहरा दुख होता है, मैं हिंसा की निंदा करता हूं और हर किसी को शांति बनाए रखने का आग्रह करता हूं. कानून-व्यवस्था की स्थिति पर बारीकी से नजर रखी जा रही है. मैंने एनएसएए और गृह सचिव के साथ स्थिति की समीक्षा की. अधिकारियों से स्थिति को जल्द से जल्द सामान्य करने के लिए कहा गया है.” पंचकूला में हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ गयी है. राम रहीम समर्थकों की गुंडागर्दी अभी भी जारी है. भिवानी में कार में सवार होकर आए डेरा सच्चा सौदा प्रमियों ने सिंघानी पावर हाउस को आग के हवाले कर दिया. यहां बिजलीघर का कंट्रोल रूम जलकर खाक हो गया. रेप केस में पंचकूला की सीबीआई अदालत से दोषी करार दिए को 28 अगस्त को सजा सुनाई जानी है. राम रहीम 28 तारीख को कोर्ट में पेश नहीं होगा. उसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सजा सुनाई जाएगी. राम रहीम फिलहाल रोहतक की विशेष जेल में बंद है. यहां उसे थ्री लेयर सिक्योरिटी में रखा गया है. सुरक्षा के मद्देनजर रोहतक शहर की सभी सीमाओं को बंद कर दिया गया है. ABP NEWS के सवालों पर हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा ‘अब तक 22 लोगों के शवों को बरामद किया गया है और गोली चलाने वाले उपद्रवियों की पहचान कर ली गई है. उपद्रवियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी. धारा 144 कैसे टूटी? सीएम खट्टर ने इसका जवाब नहीं दिया. इतना ही हिंसा पर एबीपी न्यूज़ के सवाल पर सीएम खट्टर भड़क गए. दिल्ली के मंडावली से भी एक बस में आग लगाने की खबरें आई हैं. वहीं दिल्ली से सटे गाजियाबाद में कल स्कूलों में छुट्टी का ऐलान कर दिया गया है. डेरा समर्थकों के गुस्से के चलते स्थिति में तनाव है और इसी के मद्देनजर स्कूलों को बंद रखने का फैसला लिया गया है. वहीं BEA ने डेरा समर्थकों द्वारा मीडिया पर किए हमले की निंदा की है. राम रहीम के समर्थकों की ओर से हरियाणा में जारी हिंसा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. प्रधानमंत्री मोदी पल पल की अपडेट ले रहे हैं. प्रधानमंत्री ने गृहमंत्रालय से हिंसा पर रिपोर्ट भी मांगी है. हिंसा के बाद मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. ताजा जानकारी के मुताबिक हिंसा में अबतक कुल 28 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं करीब 250 लोग घायल हुए हैं. हरियाणा में हुई हिंसा की राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भी निंदा की है. राष्ट्रपति ने कहा है कि लोग शांति बनाए रखें. पंचकूला में हिंसा के बाद हरियाणा के सीएम मनोहर लाल पंचकूला जा रहे हैं. सीएम दफ्तर के मुताबिक सीएम पंचकूला के लिए रवाना हो चुके हैं. एबीपी न्यूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक सीएम खट्टर को केंद्र सरकार के निर्देश मिला कि तुरंत पंचकूला पहुंचे और हालात का जायजा लें. माना जा रहा है कि सीएम पंचकूला पहुंच कर तमाम इंतजाम के बावजूद हिंसा को लेकर कुछ लोगों पर कार्रवाई के आदेश भी दे सकते हैं. हरियाणा में जारी हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस ने भी एतियातन कई कदम उठाए हैं. दिल्ली पुलिस के मुताबिक उपद्रव मचाने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है. दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर एक्स्ट्रा फोर्स लगाई गई है. इसके साथ ही दिल्ली पुलिस के आलाधिकारी लगातार गश्त पर है. जहांगीर पुरी, ज्योति नगर इलाके में बस में आग की खबर थी, वहां काबू पा लिया गया है. आनंद विहार इलाके में भी स्थिति नियंत्रण में है. रेप केस में दोषी करार दिए जाने के बाद विशेष विमान से रोहतक ले जाए गए रामरहीम सिंह को पुलिस ट्रेनिंग सेंटर सुनरियां के गेस्ट हाउस में रखा जाएगा. कल देर रात ही रोहतक में विशेष तैयारियां कर ली गयीं थीं. सुरक्षा के मद्देनजर पूरे रोहतक शहर को चारो ओर से सील कर दिया गया है. यहां बाबा को सोमवार तक रखा जाएगा. अस्थायी जेल के आस पास थ्री लेयर सुरक्षा व्यवस्था की गयी है. हिंसा के बाद हरियाणा सरकार की ओर से पहला बयान आया है. हरियाणा के गृह सचिव राम निवास ने कहा, “हिंसा पर काबू पाने के लिए प्रशासन पूरी कोशिश रहा है. जानकारी के मुताबिक हिंसा में मीडिया की गाड़ियां जलायीं गयीं हैं. हरियाणा सरकार मीडिया के नुकसान की भरपाई करेगी. इसके साथ ही जिन प्राइवेट वाहनों को नुकसान हुआ है उसका नुकसान भी सरकार देगी. हम डेरा सच्चा सौदा के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं.” पंजाब, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर में हिंसा के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने एतिहातन शामली जिले में धारा 144 लगा दी है. इसके साथ उत्तर प्रदेश के हरियाणा से लगने वाले सभी बॉर्डर को भी सील किया गया है. मौके पर पुलिस बल मौजूद है. राम रहीम पर सीबीआई कोर्ट के फैसले के बाद डेरा सच्चा सौदा की ओर से पहला बयान आया है. डेरा की ओर से कहा गया, ”हमारे साथ अन्याय हुआ है. हम इसकी आगे अपील करेंगे. हमारे साथ वही हुआ जो इतिहास में गुरुओं के साथ हुआ. डेरा सच्चा सौदा मानवता भलाई के लिए है, सभी शांति बनाये रखें.” हरियाणा के सिरसा में जहां डेरा सच्चा सौदा का हेडक्वार्ट्र है वहां पर थोड़ी देर पहले सेना की एक बड़ी टुकड़ी ने फ्लैग मार्च किया है. जानकारी के मुताबिक डेरा सच्चा सौदा के हेडक्वार्टर के अंदर भी बहुत बड़ी तादात में समर्थक मौजूद हैं. सेना इन्हें बाहर निकालने का काम कर सकती है. सिरसा में भी हिंसा हुई है, कई गाड़ियों को फूंका गया है. राम रहीम पर फैसले के बाद समर्थकों की हिंसा पर पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट का बड़ा फैसला आया है. कोर्ट ने राम रहीम की सारी संपत्ति जब्त करने के आदेश दिए हैं. कोर्ट के आदेश के मुताबिक राम रहीम की संपत्ति बेचकर नुकसान की भरपायी की जाएगी. पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट ने हरियाणा सरकार से राम रहीम की संपत्तियों की डीटेल मांगी है. अभी अटैच करने के लिए नहीं कहा है, कल फिर सुनवाई होगी. राम रहीम पर फैसले के बाद पंचकूला में फैली हिंसा पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बयान जारी किया है. गृहमंत्री ने कहा, ”मैंने पंजाब और हरियाणा के सीएम से बात की है. दोनों सीएम ने बताया कि स्थिति काबू में है. जो भी फोर्स चाहिए वो दी जा चुकी है. मैं विदेश में था तब हिंसा की जानकारी मिली. जानमान की भरपायी संभव नहीं है. दोनों सीएम ने भरोसा दिलाया है कि हालात को काबू कर लिया जाएगा. फोर्स को लगातार अलर्ट पर रखा गया है.” हरियाणा हिंसा की आग दिल्ली पहुंची गयी है. गाजियाबाद के लोनी इलाके में राम रहीम समर्थकों ने डीटीसी की बस में आग लगा दी है. कई अन्य इलाकों से भी हिंसा की खबरें सामने आ रही हैं. दिल्ली के आनंदविहार इलाके में भी हिंसा की खबर आयी है. जानकारी के मुताबिक डेरा सच्चा सौदा समर्थकों ने आनंदविहार में एक बस को आग के हवाले कर दिया है. पंचकूला में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के लाख प्रयास के बावजूद हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. राम रहीम के समर्थक उपद्रव करने से बाज नहीं आ रहे हैं. साल 2002 में गुरमीत राम रहीम पर साध्वियों के यौन शोषण के आरोप लगे थे. इसके बाद इसकी जांच हाईकोर्ट ने सीबीआई को सौंप दी थी. एक साध्वी ने राम रहीम पर यौन शौषण का आरोप लगाते हुए एक पत्र मीडिया, पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश, पीएम के नाम जारी किया था. इसके बाद हाई कोर्ट ने 24 सितंबर 2002 को सीबीआई को इस मामले की जांच का जिम्मा सौंपा था.
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: राम रहीम बलात्कारी करार, भड़के अनुयायी, हिंसा, आगजनी, उत्पात से थमा जनजीवन Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल