ताज़ा ख़बर

सेंसर बोर्ड से हुई पहलाज निहलानी की छुट्टी, गीतकार प्रसून जोशी को मिली कमान

नई दिल्ली।पहलाज निहलानी को शुक्रवार को सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। अब उनकी जगह मशहूर लेखक, गीतकार प्रसून जोशी को सेंसर बोर्ड की जिम्मेदारी दी गई है। पहलाज निहलानी को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने 19 जनवरी 2015 को सेंसर बोर्ड की कमान सौंपी थी। तत्कालीन सीबीएफसी अध्यक्ष लीला सैमसन ने सरकार पर काम में दखलअंदाजी का आरोप लगाते हुए पद से इस्तीफा दिया था जिसके बाद उनके स्थान पर निहलानी को नियुक्त किया गया। निहलानी का कार्यकाल तीन वर्षों का था लेकिन बीच में ही उन्हें पद से हटा दिया गया। खुद को बीजेपी का प्रेरित समर्थक बताने वाले निहलानी पहली बार इंडस्ट्री और सोशल मीडिया के निशाने पर तब आए जब उन्होंने जेम्स बॉन्ड सीरीज की फिल्म 'स्पेक्ट्रा' से किसिंग सीन हटाने के आदेश देते हुए कहा था कि वे जरूरत से ज्यादा लंबे थे। हाल ही में फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' को महिला आधारित बताने, फिल्म 'हैरी मेट सेजल' से 'इंटरकोर्स' शब्द हटाने और अमर्त्य सेन की डॉक्यूमेंट्री पर बैन लगाने को लेकर वह इंडस्ट्री के निशाने पर आ गए थे। फिल्म 'उड़ता पंजाब' में 89 कट्स लगाने के कारण भी निहलानी की काफी आलोचना हुई थी। आमिर खान समेत कई फिल्मी हस्तियों ने उनके कामकाज के तरीके पर सवाल उठाते हुए कहा कि सेंसर बोर्ड का काम फिल्मों को सर्टिफिकेट देना है, सेंसर करना नहीं। पिछले कुछ दिनों से खबरें मिल रही थी मंत्रालय निहलानी को पद से हटाने पर विचार कर रहा है। बोर्ड के नए अध्यक्ष पद की रेस में फिल्ममेकर प्रकाश झा, चंद्रप्रकाश द्विवेदी और मधुर भंडारकर के नाम भी सामने आ रहे थे। मशहूर अभिनेत्री को सेंसर बोर्ड का सदस्य नियुक्त किया गया है। वह भारत सरकार की 'स्वच्छ भारत अभियान' की भी ब्रांड एंबैस्डर हैं।
विवादित रहा निहलानी का कार्यकाल 
कई टीवी चैनलों और समाचार वेबसाइटों पर इस ख़बर की चर्चा है। सीबीएफसी चीफ़ के तौर पर पहलाज निहालानी का कार्यकाल काफी विवादित रहा है। निहालानी ने हालिया फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' को यह कहकर सर्टिफिकेट देने से इनकार कर दिया था कि फिल्म की कहानी औरतों की ज़िंदगी के इर्द-गिर्द घूमती है। इससे पहले फ़िल्म 'उड़ता पंजाब' में सैकड़ों कट लगाने को लेकर भी वह काफी चर्चा में रहे थे। इतना ही नहीं उन्होंने 'स्पेक्टर' में जेम्स बॉन्ड के किसिंग सीन की लंबाई भी कम कर दी थी, जिससे बॉन्ड फैंस खासे नाराज़ हुए थे। बच्चों की फ़िल्म 'द जंगल बुक' को उन्होंने U/A सर्टिफिकेट दिया था, इसकी भी काफी आलोचना हुई थी। 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' और 'उड़ता पंजाब' दोनों के मामले में फिल्मकारों को अदालत में जाना पड़ा था, जहां उनकी जीत हुई थी। इस बदलाव की चर्चा सोशल मीडिया पर भी कामी गर्म है। विजय ने लिखा, ''बॉलीवुड के अच्छे दिन आ गए हैं।'' एक पैरोडी अकाउंट से निहालानी और प्रसून जोशी की दो तस्वीरें पोस्ट की गईं और कहा गया को जोशी रियलिटी के ज्यादा करीब होंगे। अजीत प्रताप ने अनुराग कश्यप की एक फोटो पोस्ट की जिसमें वह हंसते नज़र आ रहे हैं। उन्होंने कैप्शन लिखा, ''आज ये शख्स सबसे ज्यादा खुश होगा।'' एक ट्विटर यूज़र ने लिखा, ''और इस तरह प्रसून जोशी ने पहलाज निहालानी की फिल्म 'सेंसर बोर्ड' पर कैंची चला दी।''
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: सेंसर बोर्ड से हुई पहलाज निहलानी की छुट्टी, गीतकार प्रसून जोशी को मिली कमान Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल