ताज़ा ख़बर

अमरनाथ हमला में ड्राइवर सलीम ने दिलेरी दिखाकर बचा ली दर्जनों यात्रियों की जान

वलसाड (गुजरात)। अमरनाथ यात्रियों से भरी जिस बस पर सोमवार को आतंकियों ने हमला किया, उसके ड्राइवर सलीम की बहादुरी के चर्चे अब हर जगह हैं। हमले के बाद सलीम ने दिलेरी और जांबाजी दिखाते हुए तब तक बस को चलाना जारी रखा, जब तक बस आतंकियों की पहुंच से दूर नहीं हो गई। सलीम की इस दिलेरी को यात्रियों के साथ गुजरात के सीएम विजय रूपानी ने भी सलाम किया। सूरत एयरपोर्ट पर हमले में मारे गए गुजरात के 5 यात्रियों को श्रद्धांजलि देने के बाद रूपानी ने कहा कि ड्राइवर ने जिस तरह दो किलोमीटर तक बिना रुके बस चलाकर आतंकियों की पहुंच से दूर निकाला, इसके लिए वह उन्हें धन्यवाद देते हैं। उन्होंने सलीम को वीरता पुरस्कार देने की मांग भी की। बता दें कि इस आतंकी हमले में कुल 7 यात्रियों की मौत हो गई थी, जबकि 30 से ज्यादा घायल हो गए थे। सलीम ने मंगलवार सुबह मीडिया के सामने हमले के उन खौफनाक लम्हों को याद किया। उन्होंने कहा, 'आठ बजे के आसपास बस पर सामने से फायरिंग हुई। फायरिंग हद से ज्यादा हो रही थी। मैं गाड़ी चलाता रहा। तभी मैं झुका और एक गोली बगल में बैठे मेरे साथी को लगी।' उन्होंने कहा,'लगातार फायरिंग हुई। मैं इसलिए रुका नहीं और बस को चलाता रहा।' सलीम ने कहा कि उस वक्त खुदा ने मुझे आगे बढ़ते रहने की हिम्मत दी और मैं रुका नहीं। हादसे में बचे कुछ यात्रियों ने बताया कि बस ड्राइवर ने सूझ-बूझ दिखाते हुए मौके से बस को किसी तरह भगाकर सुरक्षाबल के कैंप तक पहुंचाया। उनके मुताबिक अगर आतंकी बस में सवार होने में कामयाब हो जाते तो जानमाल का बड़ा नुकसान हो सकता था। सलीम के रिश्तेदार जावेद ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, 'उन्होंने रात साढ़े 9 बजे मुझे फोन करके गाड़ी पर हुई फायरिंग की जानकारी दी। वह सात लोगों की जान नहीं बचा सके, लेकिन 50 से ज्यादा लोगों को सेफ जगह पहुंचाने में कामयाब रहे। मुझे उनपर गर्व है।' बता दें कि गुजरात के रजिस्ट्रेशन नंबर GJ09Z 9976 वाली बस अमरनाथ श्राइन बोर्ड में रजिस्टर नहीं थी। एक टॉप सुरक्षा अधिकारी ने नाम न छापे जाने की शर्त पर न्यूज एजेंसी पीटीआई से बताया कि इसमें सवार लोगों ने अपनी यात्रा दो दिन पहले ही पूरी कर ली थी और इसके बाद से वे श्रीनगर में ही थे। 
बर्खास्त हो जम्मू-कश्मीर सरकार, लगे राष्ट्रपति शासनः स्वामी 
बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले की कड़ी निंदा की है। मंगलवार को स्वामी ने कहा कि राज्य सरकार को भंग या उसे इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में आर्म्स फोर्सेज स्पेशल पावर एक्ट (AFSPA) लागू करना चाहिए और राष्ट्रपति के नोटिफिकेशन के बाद राज्य में आर्टिकल 370 को हटा देना चाहिए। स्वामी ने कहा कि हमें सैन्य अॉपरेशन के लिए तैयार रहना चाहिए, क्योंकि अन्य सभी समाधान बेकार साबित हो चुके हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने आतंकवादी हमले में मारे गए सातों श्रद्धालुओं के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की सहायता राशि का ऐलान किया है। शवों के साथ विमान जब गुजरात पहुंचा, उस समय मुख्यमंत्री रुपानी हवाई अड्डे पर मौजूद थे। उन्होंने हमले में घायल हुए लोगों के लिए भी दो-दो लाख रुपये सहायता राशि का ऐलान किया और आतंकी हमले में बस में सवार अन्य यात्रियों को बचाकर बस को निकाल ले गए बस चालक सलीम शेख की बहादुरी की सराहना की। सलीम ने हमले के दौरान बस नहीं रोकी और लगातार दो किलोमीटर तक बस चलाते हुए सीधे सैन्य शिविर पहुंचा। मुख्यमंत्री ने कहा, “हम सलीम को वीरता पुरस्कार दिए जाने की सिफारिश करेंगे, जिसने लगातार दो-तीन किलोमीटर तक बस को भगाया और करीब 50 लोगों की जान बचाई।” 40 दिवसीय अमरनाथ यात्रा 29 जून को शुरू हुई थी जबकि यह सात अगस्त को पूरी होगी। अभी तक लगभग 1.40 लाख तीर्थयात्री बर्फानी बाबा के दर्शन कर चुके हैं।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: अमरनाथ हमला में ड्राइवर सलीम ने दिलेरी दिखाकर बचा ली दर्जनों यात्रियों की जान Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल