ताज़ा ख़बर

ईवीएम का बटन कोई सा भी दबाओ, वोट जाएगा भाजपा को ही!

नई दिल्ली। भाजपा शासित मध्यभप्रदेश में ईवीएम को लेकर एक गड़बड़ी सामने आई है। चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश के भिंड में जिला निवार्चन अधिकारियों से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। मीडिया के अनुसार मध्यपप्रदेश में एक अभ्यास कार्यक्रम के दौरान वीवीपीएटी से केवल भाजपा के निशान वाली पर्चियां ही निकल रही थीं। गौर हो कि भिंड में अगले सप्ताह उपचुनाव होना है और यहां ईवीएम और मतदान पूर्व अभ्यास किया जा रहा था। तब इस गड़बड़ी का खुलासा हुआ। चुनाव आयोग ने कहा कि विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है। जल्दह ही इस संबंध में हम जवाब देंगे। उल्ले खनीय है कि वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपीएटी) एक ऐसी मशीन होती है जिससे निकली पर्ची यह दिखाती है कि मतदाता ने किस पार्टी को वोट दिया है। मतदाता कुछ देर तक ही इस पर्ची को देख सकता है इसके बाद यह एक डिब्बे में गिर जाती है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अभ्यास के दौरान चाहे जो भी बटन दबाया गया उससे निकली सारी पर्चियां यह दिखा रही थीं कि वोट भाजपा को गया है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि मध्य प्रदेश की मुख्य चुनाव अधिकारी सलीना सिंह ने मीडिया को समाचार पत्रों में यह खबर नहीं देने के लिए धमकाया। सिंह ने कहा कि आप खबर प्रकाशित किए तो उन्हें पुलिस थाने में हिरासत में रखा जाएगा। मशीन में कथित गड़बड़ी वाले इस खबर पर कांग्रेस सक्रिय हो गई है। कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल इस मामले पर चुनाव आयोग से मुलाकात करेगा।
नप गए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक
ईवीएम से केवल भाजपा की पर्ची निकलने के बाद कांग्रेस और अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग और इन मशीनों पर निशाना साधा है। मध्यप्रदेश के भिंड के एसपी और डीएम को पदों से हटा दिया गया। यह कार्रवाई चुनाव आयोग के निर्देश पर की गई है। ईवीएम मशीन से केवल भाजपा की पर्ची निकलने के बाद चुनाव आयोग ने 19 अधिकारियों को हटाने के निर्देश दिए हैं। बता दें, 31 मार्च को एक अभ्यास कार्यक्रम में ईवीएम मशीन से केवल भाजपा के चुनाव निशान कमल के फूल की पर्चियां ही निकल रही थीं। भिंड में अगले सप्ताह उपचुनाव होना है और यह अभ्यास उसी के लिए किया जा रहा था। इस अभ्यास कार्यक्रम की वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने ईवीएम पर निशाना साधा। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संजोयक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शनिवार को चुनाव आयोग भी गए। चुनाव आयोग से बाहर आने के बाद उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह देश के साथ धोखा हो रहा है। ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ संभव है। केजरीवाल ने कहा था, ‘सवाल यह उठ रहा है कि क्या देश में चुनाव निष्पक्ष हो रहे हैं। लोग वोट डाल रहे हैं या फिर मशीनें डाल रही हैं। यह कोई अकेली घटना नहीं है, इससे पहले असम में चुनाव हुई थे, तब भी वहां एक मशीन ऐसी निकली थी, जिससे सारे वोट भाजपा को जा रहे थे। दिल्ली कैंट में चुनाव के वक्त भी एक ऐसी मशीन सामने आई थी। अगर ये मशीनें खराब हो गई थीं, तो कांग्रेस या समाजवादी पार्टी को वोट क्यों नहीं जाता। सभी खराब मशीनों का वोट भाजपा को ही क्यों जाता है? इसका मतलब मशीनें खराब नहीं हो रही हैं, बल्कि उनके साथ छेड़छाड़ की जा रही है। मैं भी तकनीकी आदमी हूं और आईआईटी से इंजीनियर हूं। थोड़ी बहुत तकनीक मैं भी समझता हूं। अगर मशीन से भाजपा की स्लिप निकल रही है तो इसका मतलब है कि मशीन का सॉफ्टवेयर बदला गया है।’ साथ ही केजरीवाल ने मांग की है कि अब देश में चुनाव बैलेट पेपर से करवाए जाएं। बाद में चुनाव आयोग के एक प्रवक्ता ने कहा,‘हमने जिला निर्वाचन अधिकारियों से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है और शाम तक हम इस संबंध में कोई जवाब देंगे।’ वीवीपीएटी एक ऐसी मशीन होती है जिससे निकली पर्ची यह दिखाती है कि मतदाता ने किस पार्टी को वोट दिया है। मतदाता केवल सात सेकेंड़ तक इस पर्ची को देख सकता है इसके बाद यह एक डिब्बे में गिर जाती है और मतदाता इसे अपने साथ नहीं ले जा सकता। (साभार)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: ईवीएम का बटन कोई सा भी दबाओ, वोट जाएगा भाजपा को ही! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल