ताज़ा ख़बर

कांग्रेस की काया को कलह से बचाने की कवायद, सोनिया-राहुल जल्द करेंगे गंभीर मसलों पर चर्चा

नई दिल्ली। स्वास्थ्य जांच के सिलसिले में विदेश गयीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी गुरुवार देर रात अपने पुत्र राहुल गांधी के साथ स्वदेश लौट आयीं। दोनों नेता पार्टी से जुड़े तथा अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करेंगे। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने शुक्रवार संसद परिसर में बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष स्वदेश लौट आयी हैं। उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी स्वदेश आ गये हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या सोनिया और राहुल पार्टी से जुड़े तथा अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में चर्चा करेंगे, सिंघवी ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष इन मुद्दों पर अवश्य निर्णय करेंगे। किन्तु यह काम तुरंत नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि हाल के पांच राज्यों विशेषकर उत्तर प्रदेश के चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को लेकर कांग्रेस में संगठन स्तर पर चर्चा की जानी है। इसके अलावा संगठन से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर भी निर्णय किये जाने हैं। पार्टी सूत्रों के अनुसार 70 वर्षीय सोनिया गांधी का स्वास्थ्य बेहतर है। सोनिया इस माह की शुरूआत में नियमित मेडिकल चेक-अप के सिलसिले में किसी अघोषित स्थान पर गयी थीं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के शीघ्र बाद 16 मार्च को उनके पास चले गए। कांग्रेस अध्यक्ष ने कई वर्षों में पहली बार हाल के विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के लिए प्रचार नहीं किया। दोनों नेता उत्तर प्रदेश में अहम चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के पश्चात पार्टी संगठन में बदलाव की हो रही मांगों के बीच स्वदेश लौटे हैं। सोनिया की तबीयत पिछले कुछ समय से ठीक नहीं रही है और उन्होंने इधर कुछ महीनों में पार्टी के सारे काम राहुल गांधी को सौंप दिए हैं। पार्टी सू़त्रों ने बताया कि सोनिया नियमित मेडिकल चेकअप के लिए विदेश गयीं। पिछले साल दो अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में रोड शो के दौरान बीमार पड़ जाने के बाद सोनिया पार्टी कामकाज से दूर ही रही हैं। उस घटना के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कहा जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष के बीमार होने से पार्टी के संगठन की गतिविधियां भी ठीक से नहीं चल पा रही हैं। माना जा रहा है कि अब पार्टी संगठन में बदलाव होगा। क्योंकि लंबे समय में संगठन में बदलाव की मांग चल रही है। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में हारने के बाद से पार्टी की अंदरूनी कलह तेज हो गई है। इस कलह को रोकने की कवायद भी आरंभ हो गई है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: कांग्रेस की काया को कलह से बचाने की कवायद, सोनिया-राहुल जल्द करेंगे गंभीर मसलों पर चर्चा Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल