ताज़ा ख़बर

मुसलमानों का सीएम अखिलेश यादव के प्रति आस्था, मांगें पूरी होने पर जताया आभार

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज उलमा-ए-कराम के एक प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात कर मुसलमानों की शैक्षिक एवं सामाजिक उन्नति संबंधी ज्यादातर मांगो को पूरी किए जाने के लिए शुक्रिया अदा किया और आशा जताई कि उनकी अगुवाई में नई सरकार बनेगी। उन्होंने सेक्यूलर वोट के बंटवारे की साजिशों के प्रति मुस्लिम मतदाताओं को सावधान किया है। प्रतिनिधि मंडल में मौलाना डा.सइदुर्रहमान साहब, आजमी नदवी, प्रधानाचार्य दारूल उलूम नदवतुल उलमा, लखनऊ इमाम ईदगाह लखनऊ, मौलाना खालिद रशीद फंरगी महली, मौलाना शाह फख्रूद्दीन अशरफ कछौछवी, कछौछा शरीफ, मौलाना अब्दुल्लाह इब्नुल कमर देवबंद, शेख राशिद अली मीनाई सज्जादा नशीन दरगाह शाह मीना शाह, मौलाना इकबाल कादिरी, मौलाना इदरीस बस्तवी दारूल उलूम नदवतुल उलमा, मौलाना नईमुर्रहमान सिद्दीकी, प्रधानाचार्य दारूल उलूम फरंगी महल, शाह अनवर रहमान जिलानी सफवी सज्जादा नसीन आसीवन, शाह नजमुल हसन उर्फ शुएब मियां सज्जादा नशीन खैराबाद, मुफ्ती अबुल वातिन नोमानी इमाम ज्ञानवापी मस्जिद, वाराणसी, मौलाना हारून नदवी, मौलाना अब्दुल्लाह नदवी, शकील खान तथा मो0 यामीन शामिल थे। उलमा-ए-कराम ने कहा कि पिछले 5 वर्षों में मुख्यमंत्री जी ने मुसलमानों के हित में तमाम फैसले लिए हैं और उनकी रोजी-रोटी तथा सम्मान औैर सुरक्षा के विशेष कदम उठाए हैं। मुस्लिमों के हित में योजनाएं लागू की गई है। उलमा-ए-कराम ने कहा है कि लोकतंत्र में सभी को अपनी पसंद का वोट देने का हक है लेकिन कुछ लोग धर्म के आधार पर वोट की अपील करने लगते हैं। ये वही लोग है जो अपनी सुविधा के अनुसार विभिन्न पार्टियों के पक्ष में अपीलें जारी करते रहते हैं। उनकी ये अपीलें सेक्यूलर वोट बांटने का नाकाम प्रयास हैं। हमारा प्रयास होना चाहिए कि सेक्यूलर वोट का विभाजन न हो। इन उलमा-ए-कराम ने कहा कि पिछले 5 वर्षों में माननीय मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने निम्न कार्य और मुसलमानों के निर्माण एवं विकास के लिये किये जा रहे महत्वपूर्ण हैं। 150 मदरसों को वर्तमान में ग्रांट लिस्ट पर लिया गया। उर्दू को रोजी रोटी से जोड़ने का अपना वादा पूरा करते हुए 12 हजार उर्दू शिक्षकों को सरकारी नौकरियां दी। यूनानी डाक्टर्स को मार्डेन मेडिसिन प्रयोग करने का कानूनी अधिकार दिया, जिसमें कि 90 प्रतिशत मुस्लिम डाक्टर्स हैं। रामपुर में मशहूर स्वतंत्रता सेनानी मौलाना मुहम्मद अली जौहर के नाम से विशाल विश्वविद्यालय स्थापित किया और अल्पसंख्यक घोषित करके मुसलमानों के शैक्षिक भविष्य को रौशन करने की कामयाब कोशिश की। आजादी के बाद से पहली बार उ. प्र. में दो डीजीपी मुसलमान बनाये गए। चीफ सेक्रेट्री के उच्च पद पर मुसलमान अफसर को नियुक्त किया। पहली बार बड़ी संख्या में मुस्लिम अफसरों को डीएम, एएसपी, एसपी व इत्यादि की जिम्मेदारी दी गयी। दो मुस्लिम अधिवक्ता को प्रदेश का एडिशनल एडवोकेट जनरल बनाया गया। यूपी में पहली बार दो मुसलमानों की नियुक्ति इनफार्मेशन जैसे उच्च पद पर की गयी। समाजवादी सरकार ने अल्पसंख्यक विभाग के बजट में कई गुना वृद्धि की। मुस्लिम कब्रिस्तानों की सुरक्षा को सुनिश्चित करते हुए 18 हजार कब्रिस्तानों की बाउण्ड्री वाल 13 सौ करोड़ की लागत से बनवाया गया। हाजियों की सहूलियत के लिए पिछली सरकार में लखनऊ में और इस बार गाजियाबाद में खूबसूरत हज हाउस बनाया गया। 11 लाख 52 हजार मुस्लिम महिलाओं को समाजवादी पेंशन दी गई। शहरों में नए इलाकों के साथ-साथ गलियां भी बडे पैमाने पर बनवायी गयीं। ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती के उर्स के अवसर पर सरकारी छुट्टी की घोषणा की गयी। आजादी के बाद पहली बार बड़े पैमाने पर दंगा पीडितों को मुआवजा दिया गया। आजादी के बाद पहली बार इतनी बड़ी संख्या में मुसलमानों को मंत्री व प्रदेश मंत्री और विभिन्न विभागों का चेयरमैन बनाया गया। उलमा-ए-कराम ने मुस्लिमों के हित में समाजवादी सरकार द्वारा लिए गए उक्त निर्णयों के लिए मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की सराहना की और उम्मीद जताई है कि नई सरकार के गठन होने पर मुस्लिमों के हित में और प्रभावी कदम उठाए जाएंगे।
कई दलों के लोगों ने ग्रहण की सपा की सदस्यता 
समाजवादी पार्टी में अन्य दलों से आकर शामिल होने वालों का सिलसिला जारी है। आज बसपा छोड़कर जयेश प्रसाद पूर्व एमएलसी, शाहजहांपुर तथा जितेंद्र नाथ तिवारी, जोनल कोआर्डिनेटर बरेली, ब्राम्हण भाईचारा समाज ने मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से भेंट के उपरांत समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चैधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल तथा एसआरएस यादव, एमएलसी मौजूद थे। जयेश प्रसाद ने समाजवादी सरकार के जनहित में किए गए विकास कार्यों एवं अखिलेश यादव के सक्षम नेतृत्व पर आस्था व्यक्त की। बाद में समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल एवं मंत्री अहमद हसन की उपस्थिति में प्रदेश अध्यक्ष क्रांतिदल सहजराम एडवोकेट, जो बाराबंकी में पहले जनता दल (सेकुलर) और अपना दल के भी जिलाध्यक्ष रहे हैं बड़ी तादाद में अपने समर्थक ग्राम प्रधान, समाजसेवियों और एडवोकेट के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। जनपद जौनपुर के निवासी पूर्व मंत्री दीपचंद सोनकर बसपा छोड़कर, श्री राम जीवन यादव (दद्दा), जनपद महोबा के वरिष्ठ नेता, कांग्रेस छोड़कर, राजेश यादव और शिमला यादव जिला पंचायत सदस्य (आजमगढ़) भाजपा छोड़कर आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए है। इन सभी ने समाजवादी पार्टी की नीतियों पर आस्था जताई है और पार्टी की सरकार फिर बनाने का संकल्प लिया है। इस अवसर पर डा.कुलदीप सिंह जिलाध्यक्ष बाराबंकी, राम ललित चैधरी, पूर्व विधायक, यशवंत सिंह यादव, जिलाध्यक्ष पिछड़ावर्ग प्रकोष्ठ भी उपस्थित रहे। मुस्लिम वेलफेयर सोसायटी के चेयरमैन श्री मसूद अफजल (लखनऊ) ने समाजवादी पार्टी को समर्थन देते हुए इसकी जीत के लिए काम करने भरोसा दिलाया है।
सपा प्रत्याशी अनुराग यादव ने चलाया जोरदार जनसंपर्क अभियान 
समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी अनुराग यादव ने जनसम्पर्क को और अधिक धार देते हुए कहा कि अखिलेश सरकार ने 2012 में किए गये वादों को 5 वर्ष के कार्यकाल से पहले ही पूरा कर दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने अपने वायदों के अलावा अन्य बड़ी-बड़ी योजनाएं लागू की। जैसे-आगरा एक्सप्रेस-वे मेट्रो, इण्टरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम, आई.टी. सिटी आदि । सपा प्रत्याशी ने कहा कि वातावरण एवं स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने के लिए अखिलेश सरकार ने साईकिल ट्रैक बनाया और इस योजना को प्रदेश के सभी बड़े-बड़े शहरों में भी बढ़ाया जायेगा। राज्य सरकार द्वारा प्रारम्भ की जा चुकी सभी अवस्थापना योजनाओं को शीघ्र दो वर्षों में पूरा कर लिया जायेगा। लखनऊ की भांति कानपुर, वाराणसी, आगरा, मेरइ तथा गाजियाबाद आदि शहरों में भी मेट्रो सेवा शुरू की जायेगी। शहरों तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 24 घंटे बिजली उपलबध कराई जायेगी। अखिलेश सरकार ने ‘वैलयू फार मनी‘ की योजनान्तर्गत गरीबों तथा निम्न मध्यम वर्गो के लिए आवास की व्यवस्ािा उपलबध करायेगी। सरोजनीनगर की प्यारेपुर राम लीला मैदान की नुक्कड़ सभा को सम्बोधित करते हुए सपा प्रत्याशी ने कहा कि अखिलेश सरकार गरीबों, किसानों, अल्पसंख्यकों तथा अन्य सभी वर्गों का समस्त इलाज मुफ्त में करायेगी। प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री राम आसरे विश्वकर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार 17 अति पिछड़ी जातियों (बिंद, निषाद, कश्यप, कहार, केवट आदि) को अनुसूचित जातियों का लाभ देना चाहती थी किन्तु केन्द्र सरकार ने अति पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जाति का लाभ लेने से रोक दिया। उन्होंने कार्यकर्ताओं में उत्साह भरते हुए कहा कि 2017 की असली लड़ाई तो बूथ स्तर की है। हमें इस बूथ स्तर की लड़ाई को सफल करके श्री अखिलेश यादव को पुनः मुख्यमंत्री बनाकर माननीय नेता जी के सम्मान को बरकरार रखना है और योजनाओं का व्यापक विकास कराना है। सपा प्रत्याशी ने सरोजनीनगर विधानसभा के कांशीराम कालोनी, परसादी खेड़ा, कलिया खेड़ा, सदरौना मोड़, सदरौना, प्यारेपुर, चकौली, अन्धपुर, चन्द्रावल, साउथ सिटी, सी-बलाक चैराहा, पिपरौली गांव, ई.डब्लू.एस. कालोनी, शीतल खेड़ा, रजनीखण्ड, रूचि खण्ड, फिरंगी खेड़ा, जी-एलडीए कालोनी, आदि दर्जनों गांवों में घर-घर भ्रमण किया। उनके साथ में राम प्रकाश यादव जिलाध्यक्ष, डा. अशोक गुप्ता, विक्रम कश्यप, कुलदीप रावत, शिवपाल सिंह प्रधान, शेलेन्द्र सिंह, संतोष पाल, कृष्णा रावत, कुलदीप दीक्षित, सुनीता कश्यप, अभिषेक पाण्डेय, तारा चन्द्र रावत, चन्द्रशेखर यादव, सतीश यादव, सत्य प्रकाश यादव, विनोद यादव, सरस्वती निगम, सुभाष यादव, अखिलेश सक्सेना, किरन पाण्डेय आदि ने घर-घर जनसम्पर्क कर सपा प्रत्याशी को भारी वोटो से विजयी बनाने की अपील की।
 राजीव रंजन तिवारी, फोन- 8922002003
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: मुसलमानों का सीएम अखिलेश यादव के प्रति आस्था, मांगें पूरी होने पर जताया आभार Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल