ताज़ा ख़बर

यूपी के बारे में झूठे आंकड़े पेश कर रहे हैं प्रधानमंत्री मोदीः राजेन्द्र चौधरी

सपा के मुख्य प्रवक्ता ने भाजपा के नेताओं पर लगाए कई आरोप 
लखनऊ। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हर भाषण अपुष्ट आंकड़े पर आधारित होता है। उत्तर प्रदेश के बारे में उनकी जानकारियां अधकचरी और गलत सूत्रों पर आधारित होती है। अपने चुनाव भाषणों में उन्होंने सभी लोकतांत्रिक मर्यादाएं ताक पर रख दी है। वे नफरत की राजनीति करते हैं और अफवाह बाजी के सहारे जनता को बरगलाकर चुनावों को प्रभावित करना चाहते है। लेकिन उ0प्र0 की जागरूक जनता उन्हें सबक सिखाएगी और उ0प्र0 में फिर से अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी। मोदी कानून व्यवस्था का सवाल उठाते हैं यूपी में अपराध की बात करने वाले मोदी जी अपने अधीनस्थ दिल्ली का रिकार्ड देख लें। दिल्ली पुलिस ने माना है कि वहां हर घंटे एक महिला अपराध की घटना होती है। हर घंटे चोरी की 18 घटनाएं दर्ज हुई है। राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो (एन.सी.आर.बी.) के अनुसार मोदी सरकार बनने के बाद 2015 में देश में किसान आत्महत्याओं में 42 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। इसमें टाप पर बीजेपी शासित राज्य है। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, आदि भाजपा शासित राज्य है। अपराध के मामलों में इनके रिकार्ड सबसे ऊपर है। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री जी ने कानून व्यवस्था की स्थिति चाक चैबंद करने के लिए 100 नं. डायल सर्विस शुरू की। इसके जरिए पूरे प्रदेश के हाई-वे की निगरानी भी हो रही है। महिलाओं से छेड़छाड़ की शिकायतों पर 1090 सेवा कारगर है। मोदी जी बार-बार रेप की घटनाओं का जिक्र करते है। समाजवादी पार्टी इस संवेदनशील मसले पर सियासत नहीं करना चाहती हैं लेकिन प्रधानमंत्री जी अच्छा हो अपने भाजपा शासित राज्यों का आईना देख लें। मध्य प्रदेश में रेप के 4 हजार 391 मामले दर्ज किए गए। महाराष्ट्र में रेप के 4 हजार 444 मामले दर्ज हुए, राजस्थान में रेप के 3 हजार 644 मामले दर्ज हुए, मुंबई क्राइम के मामले में देश में दूसरे नंबर पर है। सन् 2015 में बच्चांे के साथ अपराध के कुल 13, 921 मामले दर्ज हुए जबकि 2014 में (जब भाजपा सरकार नहीं थी) यह आंकड़ा 8,115 था। सन् 2014 में बीजेपी सरकार आने के बाद मानव तस्करी में 42 फीसदी का इजाफा हुआ है। विभिन्न समुदायों के बीच तनाव बढ़ने की संख्या में 26 फीसदी का इजाफा हुआ है। रोडवेज की घटनाओं में 10 फीसदी की वृद्धि हुई है। महाराष्ट्र में 500-600 बच्चों की कुपोषण से मौंते हुई है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की समाजवादी सरकार में भ्रष्टाचार का कोई मामला सामने नहीं आया। जबकि मध्य प्रदेश का व्यापम घोटाला सुर्खियों में है। इसमें अब तक 40 से ज्यादा लोगो की हत्याएं हो चुकी हैं। भाजपा मंत्री लक्ष्मीकांत बाजपेयी को जेल जाना पड़ा। आर.एस.एस. के कई नेता भी घेरे में है। सुप्रीमकोर्ट ने 634 मेडिकल छात्रो का प्रवेश रद्द कर दिया है। नरेंद्र मोदी और अमित शाह कांग्रेस के साथ गठबंधन पर बहुत नाराज हैं। हकीकत यह है कि उत्तर प्रदेश में तो सांप्रदायिकता के खिलाफ समाजवादी और कांग्रेस एकजुट हुए हैं। यह वैचारिक और सैद्धांतिक गठबंधन है। भाजपा ने तो महाराष्ट्र में शिव सेना से गठबंधन कर रखा हैं जो रोज हर मोर्चे पर मोदी जी को असफल बताती है। कश्मीर में आतंकवादियों की समर्थक पीडीपी के साथ गठजोड़ है। पंजाब में अकालियों के साथ उनका गठबंधन है। बसपा अध्यक्ष को यह खुशफहमी है कि सपा को उसके लोग ही चुनाव हराएंगे। वह इसी में जीत की उम्मीदें पाले है। बसपा राज में कानून व्यवस्था की स्थिति अच्छी होती तो जनता उन्हें क्यों सन् 2012 में सत्ता से बाहर कर देती। आज भी लोग भूले नहीं हैं कि बसपा के अंधेर राज में बहू बेटियों की इज्जत थानों में भी सुरक्षित नहीं थी। उसके कई मंत्री-विधायक लूट, हत्या, अपहरण और बलात्कार के आरोपों में जेल जा चुके हैं। उनके जमाने में पत्थर घोटाला, हेल्थ घोटाला और जन्मदिन के चंदे की जबरन वसूली में इंजीनियर की हत्या तक के मामले हो चुके है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिजली संकट का आरोप भी तथ्य से परे है। मंडलों को 22 घंटे, जिलों को 20 घंटे तहसीलों में 16 घंटे और गांवों में 14 घंटे बिजली आपूर्ति हो रही है। वाराणसी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है, वहां मुख्यमंत्री के आदेश से 24 घंटे बिजली आपूर्ति हो रही है। मौजूदा सरकार के कार्यकाल में 9,000 मेगावाट की वृद्धि हुई है। धार्मिक स्थल बिजली कटौती से मुक्त है। बिजली की योजनाओं पर केंद्र से कोई मदद नहीं मिली। लखनऊ में मेट्रो को लेकर मोदी जी सुनी सुनाई बातें कर रहे हैं। उनके गुजरात माडल में तो कहीं मेट्रों है नहीं। लखनऊ में तो मेट्रो परिचालन ट्रायल की स्थिति में है। इसमें सच यह भी है कि केंद्र सरकार से जो अनुमति मदद मिलनी चाहिए वह भी नहीं मिल रही है। किसानों के नाम पर भाजपा घड़ियाली आंसू बहाती है। किसानों का कर्ज उ0प्र0 सरकार ने माफ किया। भाजपा उन्हें कर्ज देने की बात करती है। किसानों की आपदा राहत के लिए उ0 प्र0 में किसान फंड पहले से बना है। भाजपा किसानों को बहका रही है। भाजपा-बसपा एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। इनका काम उत्तर प्रदेश को बदनाम करना है। उत्तर प्रदेश की जनता इनकी हरकतों से वाकिफ है। वह विधानसभा चुनावों में इन दोनों ही दलों को सबक सिखाएगी।
राजीव रंजन तिवारी, संपर्कः 8922002003
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: यूपी के बारे में झूठे आंकड़े पेश कर रहे हैं प्रधानमंत्री मोदीः राजेन्द्र चौधरी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल