ताज़ा ख़बर

गंगा-यमुना मिलन की तरह है है कांग्रेस-सपा गठबंधनः राहुल गांधी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी अध्यक्ष और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी रविवार को लखनऊ में संयुक्त रूप से गठबंधन का थीम सॉन्ग ‘यूपी को ये साथ पसंद है’ लॉन्च किया। इसके बाद दोनों नेता एकसाथ रोड शो भी करेंगे। इस रोड शो को ‘विकास से विजय की ओर’ नाम दिया गया है। थीम सॉन्ग चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने तैयार किया है। लखनऊ में हजरतगंज के जीपीओ पार्क स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित करने के बाद दोनों नेताओं का रथ लालबाग में नावेल्टी चौराहा तक पहुंचा। फिर कैसरबाग, (नजीराबाद होते हुए) अमीनाबाद की राह पुराने लखनऊ तक गया। फिर नक्खास से चौक चौराहे होते हुए रथ पर सवार दोनों नेता घंटाघर पहुंचे, जहां रोड शो का समापन होगा। इस यात्रा की कामयाबी के लिए समाजवादी पार्टी और कांग्रेस नेताओं ने पूरी तैयारी की थी। रोड शो में कांग्रेस-सपा का नया प्रचार गीत ‘यूपी को ये साथ पसंद है’ भी बजा। गाने से जुड़े पोस्टर जारी हुए। दो मिनट के गाने में राहुल-अखिलेश को युवा नेता बताने के साथ उनके काम गिनाए गए हैं। कांग्रेस की ओर से ‘यूपी के अपने लड़के बनाम बाहरी मोदी’ भी तैयार किया गया है। यह स्लोगन बिहार में महागठबंधन के दौरान प्रचलित नारे- ‘बिहारी बनाम बाहरी’ के नारे की तर्ज पर है। इससे पहले अखिलेश यादव ने शुक्रवार को पार्टी मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं से गठबंधन के प्रत्याशियों के लिए जी-जान से जुटने की अपील की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रत्याशियों को अपनी पार्टी का प्रत्याशी मानते हुए चुनाव लड़ाओगे, तभी अगली बार बहुमत की सरकार बना सकते हो। आर्थिक नीति से लेकर सामाजिक मुद्दों पर एक-दूसरे का विरोध करने वाली कांग्रेस और सपा ने सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए इस बार चुनावी गठबंधन किया है। हालांकि सीट बंटवारे के बाद भी कई उम्मीदवारों के नामों पर दोनों दलों में संशय बरकरार है। गठबंधन के बाद आज पहली बार अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मुलाकात हुई। दोनों नेताओं ने एक दूसरे को गले लगाया और एक साथ मंच साझा किया। मंच पर दोनों पार्टियों के कई दिग्गज भी मौजूद हैं। राहुल गांधी और अखिलेश यादव ने संयुक्त रूप से प्रेस वार्ता को संबोधित किया। पहले राहुल गांधी ने संबोधन करना शुरू किया और कहा, मैं और अखिलेश एक दूसरे को जानते हैं, हम मिलकर काम करेंगे और यूपी का विकास करेंगे। राहुल गांधी ने कहा, मैंने कहा था अखिलेश अच्छा लड़का है, पर उसे काम नहीं करने दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विकास की राजनीति को विरोधी रोकना चाहते हैं इसलिए हमने हाथ मिलाया है ताकि हम मिलकर लड़ाई लड़ सकें। हम नफरत की राजनीति को रोकना चाहते हैं। हम चुनाव प्रचार कैसे करेंगे, हमारी प्लानिंग क्या होगी, ये अभी नहीं बताएंगे। सोनिया गांधी और मुलायम सिंह यादव चुनाव प्रचार करेंगे या नहीं, इसका खुलासा अभी नहीं करेंगे। प्रियंका गांधी ने हमेशा मेरा साथ दिया है, अब तक दिया है और आगे भी देंगी। वे चुनाव प्रचार करेंगी या नहीं, ये उनकी इच्छा है। उनपर कोई जोर नहीं है। राहुल गांधी ने कहा, ये गठबंधन मौकापरस्त नहीं है, ये तो दिलों का गठबंधन है। हम संघ और बीजेपी को समझाना चाहते हैं कि हम यूपी को टूटने नहीं देंगे। बीजेपी तो बस एक हिन्दुस्तानी को दूसरे हिन्दुस्तानी से लड़ाती है। उनके विचारों से देश को खतरा है। अखिलेश अखिलेश यादव ने कहा, हमारे निजी रिश्ते पहले से ही थे और अब राजनीति में भी हम जुड़ गए हैं। हम दो पहिएं हैं, हमारी उम्र में भी ज्यादा फर्क नहीं है। गठबंधन पर अखिलेश ने कहा, हम इस गठबंधन के जरिए हम पिपल एलाइंस बनकर उभर आएंगे। अखिलेश ने दोनों पार्टियों के मिलन को गंगा यमुना का मिलन कहा। ये एक ऐतिहासिक गठबंधन है, सपा और कांग्रेस मिलकर विरोधियों को करारा जवाब देंगे। हाथ के साथ साइकिल हो और साइकिल के साथ हाथ हो, तो सोचिए रफ्तार क्या होगी। अमेठी और रायबरेली की सीट पर अखिलेश ने कहा, आने वाला वक्त बताएगा, सब अभी बता देंगे तो मसला खत्म ही हो जाएगा।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: गंगा-यमुना मिलन की तरह है है कांग्रेस-सपा गठबंधनः राहुल गांधी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल