ताज़ा ख़बर

बाहुबली शहाबुद्दीन की जेल के भीतर की सेल्फी वायरल, पुलिस की छापेमारी में बरामद हुआ मोबाइल फोन और सिम कार्ड

पटना। जेल में बंद राजद नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन ने अपना बदला हुआ स्वरूप दिखाते हुए एक कथित सेल्फी ली है, जिसको लेकर विवाद खड़ा हो गया है। उनकी यह कथित सेल्फी सोशल मीडिया में वायरल हो गई है। विवाद की पृष्ठभूमि में सीवान के जिला प्रशासन ने जेल के भीतर छापेमारी की। मुफस्सिल थाना के प्रभारी अधिकारी विनय प्रताप सिंह ने सीवान जेल के भीतर छापेमारी की पुष्टि की और कहा कि तीन मोबाइल फोन, चार सिम कार्ड और दो मोबाइल बैटरियां बरामद की गईं। बहरहाल, उन्होंने यह नहीं बताया कि क्या शहाबुद्दीन की कोठरी से कुछ मिला है। सीवान जेल के अधिकारियों ने इससे इंकार किया कि यह सेल्फी शहाबुद्दीन ने ली है और कहा कि उनसे मिलने के लिए आने वाले कुछ ‘शुभ चिंतकों’ ने यह तस्वीर ली होगी और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया होगा। उच्चतम न्यायालय द्वारा जमानत रद्द किए जाने के बाद शहाबुद्दीन सीवान की जेल में बंद हैं। इससे पहले पटना उच्च न्यायालय ने दो भाइयों की तेजाब गिराकर हत्या के मामले के मुख्य गवाह की हत्या के संदर्भ में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को जमानत दे दी थी। चार बार सांसद रहे शहाबुद्दीन पर हत्या और अपहरण सहित 36 मामले चल रहे हैं। उधर, राजद प्रवक्ता अशोक सिन्हा ने कहा कि वह इस सूचना की पुष्टि नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि बिहार की महागठबंधन सरकार कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं करेगी। बता दें, शहाबुद्दीन के नाम बिहार के बहुचर्चित पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले में भी आया था। हालही में खबरें आई थीं कि राजदेव रंजन की पत्नी आशा रंजन को जान से मारने की धमकी मिली है। 26 दिसंबर की रात उन्हें किसी ने फोनकर जान से मारने की धमकी दी है। धमकी मिलने के बाद आशा रंजन काफी डर गई थी जिसके बाद उन्होंने प्राथमिकी दर्ज कराई। आशा रंजन ने बताया कि 26 दिसंबर की रात उन्हें मोबाइल पर अज्ञात शख्स का फोन आया उसने शख्स ने उनसे पूछा कि तुम शहाबुद्दीन को जानती हो। आशा रंजन के हां कहने पर उस शख्स ने उन्हें धमकाते हुए कहा कि यह सारा नाटक बंद करो। उस शख्स ने उन्हें सुप्रीम कोर्ट वाला केस जल्द से जल्द वापस लेने को कहते हुए कहा कि उस केस को वापस ले लो वरना इतने टुकड़े किए जाएंगे की कोई पहचान नहीं पाएगा।  
राजनीति और अपराध के गठजोड़ का चेहरा बन चुके हैं मोहम्मद शहाबुद्दीन 
बिहार के बाहुबली नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन की जमानत शुक्रवार(30 सितंबर) को सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दी। अब मोहम्मद शहाबुद्दीन को दोबारा से जेल जाना होगा। शहाबुद्दीन को 10 सितंबर को जमानत पर जेल से रिहा कर दिया गया था। वह 11 साल बाद जेल से बाहर आया था।वह राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के करीबी है। शुरुआत से ही वह लालू के साथ रहा। शहाबुद्दीन ने 1990 में लालू यादव की सरपरस्तीह में राजनीति में कदम रखा। 1986 से ही शहाबुद्दीन अपराध की दुनिया में शामिल हो चुका था, वह तब सिर्फ 19 साल का था। लालू प्रसाद यादव के साथ मिलकर शहाबुद्दीन ने मुस्लिम-यादव वोटरों पर पकड़ बनाई जिसकी बदौलत 1991 के लोकसभा चुनावों में जनता दल को बड़ी जीत हासिल हुई। जॉर्ज फर्नांडीज और शरद यादव जैसे नेताओं के विरोध के बावजूद शहाबुद्दीन लालू के लिए एक महत्वपूर्ण मुस्लिम नेता बन चुका था। शहाबुद्दीन ने पहले आरजेडी की युवा इकाई की सदस्यहता ली और लगातार दो विधानसभा चुनाव जीते। महत्वाशकांक्षी शहाबुद्दीन ने 1996 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। शहाबुद्दीन ने 2004 का चुनाव जीतने तक जनता दल और आरजेडी का चार बार प्रतिनिधित्वा किया। 2007 में हत्याा के एक मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद शहाबुद्दीन को चुनाव लड़ने से प्रति‍बंधित कर दिया गया। शहाबुद्दीन ने सीवान के हुसैनगंज इलाके से बतौर बाहुबली शुरुआत की। राजनैतिक महत्वारकांक्षाओं ने कुलांचे मारी तो शहाबुद्दीन ने मुस्लिम युवकों को खाड़ी देशों में भेजकर अच्छाे नाम बना लिया। सीवान में आज भी विदेशों से सबसे ज्याुदा पैसे भेजे जाते हैं। शहाबुद्दीन ने अपने इलाके में वाम पार्टियों के प्रभुत्व को तोड़ने के लिए खौफ का इस्तेामाल किया। छोटे शुक्लां महत्व पूर्ण वामपंथी नेता थे। शहाबुद्दीन ने फरवरी 1999 में शुक्लाु को निशाना बनाया और उनका अपहरण कर हत्याे करवा दी। शुक्ला मर्डर केस में शहाबुद्दीन को दोषी पाया गया और 2007 में उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई। सीवान आरजेडी के एक नेता के मुताबिक, “शहाबुद्दीन ने दुकानदारों को धमकाया और उनसे वसूली शुरू की। उसके गुर्गे जमीनों, दुकानों और घरों पर कब्जाध करने लगे। उन्हें भूमि विवाद सुलझाने पर हिस्साक भी मिलता था। शहाबुद्दीन अदालत लगाता और शादियों के झगड़े और डॉक्टनर की फीस जैसे मामले सुलझाता था। एक समय ऐसा भी आया जब उसका दबदबा कबूल करने के लिए दुकानदारों को शहाबुद्दीन की तस्वीयर दुकान में लगानी पड़ी।” कुख्याेत तेजाब कांड भी शहाबुद्दीन के गुर्गों की वजह से हुआ। वे चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू और उसके एक किराएदार के बीच झगड़ा सुलझाने के बदले 2 लाख रुपए मांग रहे थे। किराएदार चंदा बाबू के हॉस्पिटल रोड वाले घर की दुकान खाली नहीं कर रहा था। चंदा के बेटे गिरीश और सतीश ने विरोध की कोशिश लेकिन शहाबुद्दीन के आदमी आए और चंदा बाबू के तीनों बेटों, राजीव, गिरीश और सतीश का अपहरण कर लिया। राजीव भागने में कामयाब रहा, बाकी दोनों भाइयों को तेजाब से नहला दिया गया, फिर गोली मारी गई। राजीव तेजाब कांड का चश्मंदीद गवाह था। अदालत के सामने अपना बयान रिकॉर्ड करने के दो दिन पहले ही जून 2014 में उसकी गोली मारकर हत्याम कर दी गई। शहाबुद्दीन को तेजाब कांड में सजा हो चुकी है और राजीव रोशन केस में भी उसे साजिशकर्ता बनाया गया है। शहाबुद्दीन ने 2001 में सत्ताक के नशे में सारी हदें पार कर दीं। एक समर्थक मनोज कुमार को हिरासत में लेने पहुंचे पुलिस अधिकारी संजीव कुमार को शहाबुद्दीन ने तमाचा मार दिया। यह जिले की पुलिस को सीधी चुनौती थी जिसके बाद पुलिस ने आस-पास के जिलों और उत्तीर प्रदेश से फोर्स बुलाई और सीवान में शहाबुद्दीन के प्रतापपुर स्थित घर पर छापा मारा। दोनों तरफ से गोलीबारी हुई जिसमें दो पुलिसकर्मियों समेत आठ लोग मारे गए। घर में मिली तीन एके-47 सीज कर दी गईं लेकिन शहाबुद्दीन भाग निकलने में कामयाब रहा। नवंबर 2005 में, चुनाव खत्मज होने और नीतीश कुमार के मुख्यिमंत्री बनने के कुछ ही दिन बाद शहाबुद्दीन को गिरफ़्तार कर लिया गया। नीतीश कानून व्य वस्थाल को पटरी पर लाने का वादा करके सत्तान में आए थे। वह एक साफ संदेश देना चाहते थे। उन्होंनने सीवान जेल में ही विशेष अदालत गठित कराई और शहाबुद्दीन का ट्रायल शुरू करा दिया। उस पर हत्याो, वसूली और आर्म्सि एक्ट के 18 मुकदमे दर्ज थे। सीवान पर उसका प्रभाव कम होने लगा था, उसे जेल में अपने समर्थकों से मिलने की इजाजत नहीं थी। 2007 में दोषी करार दिए जाने के बाद अदालत ने शहाबुद्दीन के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी जिससे उसका राजनीतिक रसूख भी कम होने लगा। शहाबुद्दीन ने अपनी बीवी हीना शहाब को 2009 के लोकसभा चुनावों में सीवान से उम्मी दवार बनाकर अपनी राजनीतिक जमीन बनाए रखने की कोशिश की। हीना के सामने निर्दलीय उम्मीसदवार ओम प्रकाश यादव और जेडीयू के ब्रिशेन पटेल थे। हीना चुनाव हार गईं और शहाबुद्दीन की उम्मीरद भी खत्मू हो गई। वह राजनीतिक रूप से कमजोर पड़ता जा रहा था, साथ ही साथ बिहार राजनीति में नीतिश की अगुवाई में एनडीए ने राजद को भी कमजोर कर दिया था। 2014 के लोकसभा चुनावों में वही कहानी दोहराई गई और हीना फिर चुनाव हार गईं। लेकिन नीतीश कुमार के लालू से हाथ मिलाते ही राजनैतिक समीकरण बदलने शुरू हो गए। नीतीश और लालू छपरा उपचुनाव में एक राजनैतिक रैली को सम्बोैधित कर रहे थे। यह पहला मौका था जब हीना शहाब ने नीतीश कुमार के साथ मंच साझा किया था। हीना को नीतीश के कान में कुछ कहते देखा गया था जिन्होंाने कोई भाव नहीं दिखाए लेकिन संदेश पहुंच चुका था। शहाबुद्दीन के लिए दरवाजे फिर खुलने लगे थे। जेल में उससे मिलने वालों की संख्याल बढ़ गई थी। उसकी बैठकें जल्दफ ही दरबार में बदल गईं जहां वो लोगों की तकलीफें सुनता था। 2015 के चुनावों में सीवान के टिकट जारी करने में शहाबुद्दीन का अहम किरदार था। हाल ही में जब बिहार के सामाजिक न्याटय मंत्री अब्दुुल गफूर जेल में शहाबुद्दीन से मिलने गए, तो सीएम नीतीश कुमार ने मंत्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, अलबत्तां जेल सुपरीटेंडेंट को जरूर सस्पें ड कर दिया गया। सीवान जेल सुप्रिटेंडेंट विधु भारद्वाज ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “हम सुबह 8 से दोपहर 12 बजे तक लोगों को शहाबुद्दीन से मिलने देते थे, उन्हेंय 15 से ज्या दा लोगों से मिलने की इजाजत नहीं थी। जब मैंने मिलने वालों की संख्याी पर लगाम लगाने की कोशिश की, बहुतों ने शहाबुद्दीन से मिलने के लिए जबरदस्ती‍ की। हां, यह एक तरह से अदालत लगाने जैसा है जिसे हम बर्दाश्तद नहीं कर सकते।’
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: बाहुबली शहाबुद्दीन की जेल के भीतर की सेल्फी वायरल, पुलिस की छापेमारी में बरामद हुआ मोबाइल फोन और सिम कार्ड Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल