ताज़ा ख़बर

हर ‘डूबने’ वाले कलाकार को मिलता है साहिल का ‘सहारा’!

रुपहले परदे का चर्चित सितारा साहिल खान किसी पहचान का मोहताज नहीं, बेहद मिलनसार और तालमेल बिठाकर काम करने में माहिर साहिल खान को हर नवोदित कलाकार मानता है अपना उस्ताद 
लखनऊ। गोरखपुर का रहने वाला चमकता सितारा साहिल खान को अभिनेता कहें या निर्देशक, यह भ्रम कभी नहीं मिटता। मतलब तो आप समझ ही गए होंगे कि साहिल खान न सिर्फ एक परिपक्व निर्देशक हैं बल्कि एक मंझे हुए अभिनेता भी। बेहद कम उम्र में पूर्वांचल की माटी गोरखपुर से निकलकर फिल्मी दुनिया मुम्बई तक अपना नाम रोशन कर चुके साहिल खान कहते हैं कि उनकी मंजिल ‘जबतक सांस तबतक काम’ है। यानी कुछ विशेष करके सिर्फ नाम कमा लेना ही साहिल खान की मंजिल नहीं है। वो चाहते हैं कि वे तबतक अपनी कला का प्रदर्शन करते रहें जबतक सांस है। मीडिया और प्रचार-प्रसार से दूर रहकर सिर्फ काम में भरोसा रखने वाले साहिल खान कहते हैं कि उनके दर्शक और चाहने वालों की लगातार बढ़ती तदाद उनकी सबसे बड़ी पूंजी है। अचानक हुई एक मुलाकात में अभिनेता और निर्देशक साहिल खान ने www.newsforall.in से खास बातचीत में कहा कि किसी भी क्षेत्र में सफलता हासिल करने के लिए संघर्ष तो करना ही पड़ता है। उन्होंने भी बहुत संघर्ष किया है। पर, उनकी इच्छा है कि उनके संपर्क में आने वाले किसी भी नवोदित कलाकार को संघर्ष न करना पड़े और आसानी से वह अपनी कला का प्रदर्शन कर नाम कमा सके। बेहद शालीन और मृदुभाषी स्वाभाव वाले साहिल खान का कहना है कि पूर्वांचल यानी पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी बिहार में कला और कलाकारों की कमी नहीं है। बस जरूरत उन्हें निखारने और मौका देने की है। वो चाहते हैं कि किसी कलाकार को अपनी कला का प्रदर्शन कर पहचान बनाने में दिक्कत हो रही है तो वह उसकी खुले दिल से मदद करें। साहिल का कहना है कि कला एक साधना है और अथाह समुद्र की भांति है। चाहें कितना भी पारंगत हो जाओ, पर कला की गहराई को नापना आसान नहीं। उन्होंने कहा कि फिल्म निर्माता सौरभ पाण्डेय जैसे लोगों के साथ काम करके उन्हें पहचान मिली। बताया कि भोजपुरी फिल्म ‘प्यार में डर कइसन’, ‘जमाई बाबू’ और ‘इंसाफ’ जैसी चर्चित फिल्मों ने उन्हें पहचान दिलाई। पहले उन्होंने एक हजार से ज्यादा एलबम के लिए काम किए। तब जाकर उन्हें फिल्मों में काम मिलना शुरू हुआ और लोग एक अभिनेता के रूप में जानने लगे। अभिनेता/निर्देशक साहिल खान ने बताया कि इस वर्ष यानी 2017 में उन्होंने तीन फिल्मों को साइन किया है, जिनमें ‘जिस देश में गंगा रहता है’, ‘डर-2’ और ‘तुम को न भूल पायंगे’ का नाम शामिल है। अपने काफी व्यस्त समय के बावजूद उत्तर भारत की चर्चित न्यूज पोर्टल www.newsforall.in से खास बातचीत के लिए उन्होंने अपना कीमती वक्त दिया। इसके लिए www.newsforall.in परिवार उन्हें धन्यवाद देता है।      (By RRT- 8922002003)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: हर ‘डूबने’ वाले कलाकार को मिलता है साहिल का ‘सहारा’! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल