ताज़ा ख़बर

सपा से आए नेता को टिकट मिलने से नाराज आगरा में बीजेपी के खिलाफ आरएसएस नेता ने किया नामांकन

आगरा। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में आगरा की फतेहाबाद सीट पर राष्ट्री य स्वायंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी आमने-सामने होंगे। बुधवार को आरएसएस नेता ब्रज किशोर लावनिया ने नामांकन दाखिल किया है। लावनिया ने ऐसा पार्टी नेतृत्वर के कैडर कार्यकर्ताओं को नजरअंदाज करने और एक बाहरी को टिकट देने के विरोध में चुनाव लड़ने का फैसला किया है। बीजेपी ने उन्हेंर टिकट देने से मना कर दिया था और सपा के पूर्व जिलाध्यकक्ष जितेंद्र वर्मा को प्रत्याशी बनाया है। लावनिया बतौर निर्दलीय उम्मीादवार चुनाव में ताल ठोकेंगे। वे संघ और उसकी सहयोगी संगठनों से 1988 से जुड़े रहे हैं। उन्होंाने पिछले 10 साल तक विश्वव हिंदू परिषद (विहिप) के जिला सचिव के तौर पर काम किया है। इससे पहले, वह 8 साल तक बजरंग दल के जिला संयोजक रहे थे। बजरंग दल की जिम्मेैदारी संभालने से पहले वह सात साल तक आरएसएस के ‘शाखा कार्यवाह’ और ‘मंडल कार्यवाह’ भी रह चुके हैं। पिछले साल, विहिप नेता अरुण महौर की मौत पर शोक-सभा के दौरान भड़काऊ बयान देने के लिए लावनिया पर मुकदमा दर्ज किया गया था। महौर को कथित तौर पर दूसरे समुदाय के लोगों ने आगरा में मौत के घाट उतार दिया था। इस संबंध में मार्च 2016 में लोह मंडी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी। लावनिया ने टिकट वितरण से स्था नीय कार्यकर्ताओं को नाखुश बताते हुए कहा, ”मैं निर्दलीय उम्मीयदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहा हूं, बीजेपी के खिलाफ नहीं बल्कि बीजेपी नेतृत्व् के फैसले के खिलाफ, जिसने कार्यकर्ताओं को नजरअंदाज किया और एक बाहरी को टिकट दे दिया।” लावनिया ने कहा कि उन्हों ने 2012 विधानसभा चुनावों में भी टिकट मांगा था। मगर अयोध्या् के बाबरी विध्वंउस की वर्षगांठ पर शौर्य दिवस मनाने के लिए 2011 में उन्हेंर दो महीने के लिए जेल भेजा गया था। जिसके चलते उनकी अप्लिकेशन वरिष्ठस भाजपा नेताओं तक नहीं पहुंच सकी। लावनिया ने कहा कि वह हिंदुत्वअ एजेंडा पर चुनाव लड़ेंगे। उन्हों ने दावा किया, ”मैं लोगों से वादा करूंगा कि अगर मुझे चुना गया तो मैं फतेहाबाद में राम राज्यु कायम कर दूंगा।” लावनिया का नारा भी राम राज्ये पर आधारित है। उनका नारा है- ”नहीं जात पात के नाम पर, वोट राम राज्यभ के नाम पर।” एक बीजेपी नेता ने कहा, ”लावनिया का चुनाव लड़ना बीजेपी उम्मीनदवारों के वोटों को प्रभावित कर सकता है क्यों कि वह क्षेत्र में लंबे समय तक आरएसएस के व्य क्ति के रूप में रहे हैं, और उन्हेंो उनकी हिंदुत्व वादी छवि के लिए जाना जाता है। ब्रज में, आरएसएस गतिविधियों के चलते भाजपा को अच्छेै-खासे वोट मिलते हैं। बीजेपी के ब्रज अध्याक्ष बीएल वर्मा ने कहा कि जितेंद्र ने करीब सात महीने पहले बीजेपी ज्वा इन की थी। उन्होंबने दावा किया कि उन्हेंक लावनिया के नामांकन के बारे में कोई जानकारी नहीं है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: सपा से आए नेता को टिकट मिलने से नाराज आगरा में बीजेपी के खिलाफ आरएसएस नेता ने किया नामांकन Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल