ताज़ा ख़बर

क्या बोलेंगे राहुल गांधी, जिससे आ जाएगा ‘भूकम्प’?

ईमानदार हिंदुस्तानियों को भारी नुक़सान: डा.मनमोहन  सिंह
नई दिल्ली। नोटबंदी पर संसद में आज फिर हंगामे के बीच राज्यसभा और लोकसभा के कामकाज में रुकावट आई है. संसद के बाहर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया से कहा है, ''सरकार बहस से भाग रही है, अगर मुझे बोलने देंगे तो आप देखेंगे भूकंप आ जाएगा.'' उन्होंने कहा कि नोटबंदी हिंदुस्तान के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है. नोटबंदी पर संसद के शीतकालीन सत्र में केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश कर रही विपक्षी पार्टियां प्रधानमंत्री के बयान की मांग कर रही हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा , ''प्रधानमंत्री पूरे देश में भाषण दे रहे हैं मगर लोकसभा में आने से डरते हैं. इतनी घबराहट क्यों?'' राहुल गांधी ने कहा, ''एक महीने से हम विमुद्रीकरण पर बहस की कोशिश कर रहे हैं, हम चाहते हैं दूध का दूध पानी का पानी हो जाए.'' इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा ,'' राहुल गांधी बहस से क्यों भाग रहे हैं? उनकी पार्टी किस दयनीय हालत में पहुंच गई है.'' नोटबंदी पर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश का गरीब पूरी तरह सरकार के साथ है. इससे पहले बीते माह महाराष्ट्र की एक सभा में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि कांग्रेस की विचारधारा ने देश को आज़ादी दिलाई और देश को पैरों पर खड़ा किया. उन्होंने कहा कि वो जिनसे लड़ रहे हैं वो हिंदुस्तान को झुकाना चाहते हैं. वो हिंदुस्तान के हर व्यक्ति सेकहना चाहते हैं कि सब झुक जाएं क्योंकि वो राज करना चाहते हैं. लेकिन वो हिंदुस्तान की शक्ति को अभी समझ नहीं पाए हैं. इस देश को कभी नहीं झुकाया जा सकता है. लोगों को संबोधित करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि वो महात्मा गांधी की विचारधारा के लिए लड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि नोटबंदी के नाम पर आम लोगों के जेब से पैसा निकाला जा रहा है और बाद में इस पैसे को उन 10-15 उद्योगपतियों को दे दिया जाएगा जिनके लिए मोदी जी सरकार चला रहे हैं. इससे पहले राहुल गांधी ने कहा था कि देश की जनता लाइन में खड़ी होकर रो रही है. और दूसरी ओर प्रधानमंत्री मोदी जी हंस रहे हैं.  
ईमानदार हिंदुस्तानियों को भारी नुक़सान: मनमोहन 
पूर्व प्रधानमंत्री और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह ने नोटबंदी के फ़ैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की है और कहा है कि उन्होंने एक अरब से अधिक भारतीयों का विश्वास तोड़ा है. अंग्रेज़ी दैनिक 'द हिंदू' में शुक्रवार को प्रकाशित मनमोहन सिंह के लेख की सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है. लेख में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा है कि नोटबंदी से सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी और नई नौकरियों में कमी आएगी, जनता को आने वाले महीनों में कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा. इस फैसले की वजह से ईमानदार हिंदुस्तानियों को 'भारी नुकसान' होगा, और बेईमान और काला धन जमा करने वाले 'हल्की-सी चोट के बाद' बच निकलेंगे. हालांकि उन्होंने कर चोरी रोकने और आतंकवादियों द्वारा नकली नोटों के इस्तेमाल को खत्म करने की प्रधानमंत्री मोदी की मंशा की तारीफ़ भी की और कहा कि इसके लिए खुले दिल से उन्हें समर्थन दिया जाना चाहिए. इससे पहले 24 नवंबर को मनमोहन सिंह ने संसद में बोलते हुए नोटबंदी के फैसले को 'संगठित लूट' बताया था. पत्रकार सुहासिनी हैदर ने मनमोहन के लेख का जिक्र करते हुए ट्वीट किया, "ये ग़लतफ़हमी है कि सारी नक़दी काला धन है और सारा काला धन नक़दी के रूप में है." लेखक चेतन भगत ने ट्वीट किया, "भारत में कोई भी अर्थशास्त्री के रूप में मनमोहन सिंह की योग्यता पर शक नहीं करेगा. नोटबंदी पर बहुत अच्छा लेख." ट्विटर हैंडल @yprajesh से लिखा गया है, "मनमोहन कहते हैं जीडीपी में 2 प्रतिशत घटेगी, जबकि वित्त राज्यमंत्री अर्जुन मेघवाल कहते हैं कि जीडीपी 2 प्रतिशत बढ़ेगी. अब ये आप पर है कि किसकी बात मानें." राजगोपाल सिंह ने ट्वीट किया, "क्या मनमोहन सिंह ये नहीं बताना चाहिए कि वो 2 प्रतिशत के आंकड़े पर कैसे पहुँचे." (http://www.bbc.com/hindi/social-38260144)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: क्या बोलेंगे राहुल गांधी, जिससे आ जाएगा ‘भूकम्प’? Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल