ताज़ा ख़बर

काला धन पर महाकवरेज, हर जानकारी सिर्फ यहां, पढ़ें विस्तार से कांग्रेस ने उठाए फैसले पर सवाल

  • फैसले को लेकर खुश नहीं ओवैसी

  • अफसर और माफिया भी मुश्किल में

  • चुनाव में कालाधन खपाने की थी तैयारी

  • चुनाव पर पड़ेगा तगड़ा असर 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट को तत्काल प्रभाव सं बंद करने का ऐलान किया था। सरकार के इस फैसले पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर फैसले का विरोध किया। राहुल ने कहा कि पीएम मोदी ने दिखा दिया वे देश के आम लोगों की फिक्र करते हैं। 500 और 1000 के नोट बंद होने से छोटे किसानों, छोटे दुकानदारों और घरेलू महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। अगले ट्वीट में राहुल ने तंज करते हुए कहा कि बहुत बढ़िया किया श्रीमान मोदी। असली दोषी विदेश में छिपाए गए या रियल एस्टेट में लगाए गए अपने काले धन को दबाकर बैठे हैं। राहुल गांधी ने 2000 रुपये के नए नोट पर भी सवाल उठाया। राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री के लिए एक सवाल 1000 रूपए के नोटों को 2000 रूपए के नोटों से बदल देने पर काले धन की जमाखोरी बेहद मुश्किल कैसे होने वाली है। राहुल गांधी के अलावा पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी सरकार के फैसले की पर सवाल उठाए। चिदंबरम ने कहा कि 1978 में इसी तरह का एक प्रयास जनता पार्टी की सरकार ने किया था जो कि फेल हो गया था। तब बड़े नोट बंद किए गए थे लेकिन तब 500 रुपये वाकई बड़ी रकम हुआ करती थी। आज पांच सौ रुपये की वो कीमत नहीं है और गरीब लोग भी ये रुपये रखते हैं, जिन्हें सरकार के फैसले से परेशानी हो रही है। चिदंबरम ने कहा कि पुराने नोट बंद होने से आर्थिक गतिविधियों में रुकावट आएगी। नोटों को बदलने का काम तेजी से किया जाए। नए नोटों को केर भी चिदंबरम खुश नजर नहीं आए। उन्होंने कहा कि हमें समझ में नहीं आ रहा है कि जब 500 और 1000 के नोट बंद किए गए हैं तो 2000 रुपये का नोट क्यों जारी किया जा रहा। 2000 रुपये का नया नोट जारी करना तो एक पहेली जैसा है। इससे ब्लैकमनी कैसे रुकेगी? 
फैसले को लेकर खुश नहीं ओवैसी 
पांच सौ और 1000 रुपए के नोटों का प्रचलन बंद करने को ‘जल्दबाजी’ में उठाया गया कदम करार देते हुए एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आज कहा कि इसने अफरा-तफरी की स्थिति पैदा की है और गरीबों और मध्यम वर्ग को गहरी परेशानी में डाल दिया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि वह तत्काल अपना फैसला वापस लें। हैदराबाद लोकसभा सदस्य ने कहा कि भारत के सिर्फ दो फीसदी लोग नगदी रहित अर्थव्यवस्था में लेन-देन करते हैं जबकि शेष 98 फीसदी लेन-देन नकदी के जरिए होता है। उन्होंने गौर किया कि लोग यथा दिहाड़ी मजदूर, चालक, नलकार और नौकरानियां नकदी के जरिए अपनी आजीविका अर्जित करती हैं। ओवैसी ने यहां कहा, ‘‘यह जल्दबाजी में किया गया है और अब ये सभी मध्यमवर्ग, गरीब लोग, श्रमिक, खेतिहर मजदूर, चालक गंभीर परेशानी में हैं। यह अफरा-तफरी की स्थिति है।’ उन्होंने कहा, ‘‘यह भारी अफरा-तफरी, उथल-पुथल पैदा करने जा रहा है। इसने बाजार में पहले ही उथल-पुथल पैदा की है।’ उन्होंने कहा कि जो लोग नकदी में अपना वेतन हासिल करते हैं, उन्हें अब नहीं पता है कि वे इसका क्या करें।  
अफसर और माफिया भी मुश्किल में 
मोदी सरकार के 500 तथा 1000 रुपये के नोट बंद करने के एलान का यूपी के चुनाव पर व्यापक असर पड़ना तय है। चुनाव के लिहाज से यह बहुत बड़ा फैसला है। धनबल के जरिये टिकट हासिल करने तथा चुनाव जीतने की मंशा पाले लोगों को तगड़ा झटका लगा है। इस फैसले से चुनाव के लिए एकत्र किए गए भारी मात्रा में कालेधन के बाहर आने की भी उम्मीद है। सत्ता में रहते हुए बीते साढ़े चार साल में चुनाव के लिए फंड इकट्ठा करने वाले नेताओं के मंसूबों पर तो पानी फिर गया है, लेकिन चुनाव आयोग के लिए यह राहत भरा कदम होगा। इस बार यूपी चुनाव में उसे कालाधन पकड़ने को ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी। जानकारों की मानें तो मुंबई के बाद उत्तर भारत में लखनऊ काले धन के कारोबार का बड़ा केंद्र है। चुनाव में टिकट हासिल करने से लेकर चुनाव जीतने तक, बड़े पैमाने पर कालेधन का इस्तेमाल किया जाता है। चुनाव में कालेधन की रोकथाम के लिए गठित फाइनेंशियल इंटलीजेंस यूनिट (एफआईयू) ने पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान चौंकाने वाला खुलासा किया था। एफआईयू ने आशंका जताई थी कि नेताओं ने टिकट लेने, शक्ति प्रदर्शन करने और आला नेताओं को खुश करने में अरबों रुपये खर्च किए। एफआईयू के मुताबिक 2014 के लोकसभा चुनाव में चुनाव में सिर्फ यूपी में ही करीब 500 करोड़ रुपये के कालेधन का इस्तेमाल हुआ था। इससे पहले 2012 के विधानसभा चुनाव में भी यह आंकड़ा 300 करोड़ रुपये के आसपास बताया जाता है। बता दें कि चुनाव आयोग के निर्देश पर फाइनेंशियल इंटेलीजेंस यूनिट का गठन किया गया है जिसमें आयकर व प्रवर्तन निदेशालय के अफसरों के साथ-साथ वित्तीय मामलों से जुड़े आला अधिकारी हैं।  
चुनाव में कालाधन खपाने की थी तैयारी 
बड़ी-बड़ी रैलियों, वाहनों के लंबे काफिले और वोटरों को लुभाने के लिए नए-नए हथकंडे अपनाने वाले नेताओं के लिए मोदी सरकार का फैसला नींद उड़ाने वाला है। नेशनल इलेक्शन वॉच व एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (एडीआर) से जुड़े लोगों की मानें तो इस बार भी विधानसभा चुनाव में बड़े पैमाने पर कालाधन खपाने की तैयारी की गई है। बड़ी संख्या में ठेकेदार, खनन, शिक्षा माफिया तथा चिटफंड कंपनियां चलाने वाले कालेधन के बल पर चुनाव जीतने की मंशा पाले हुए हैं। इनका सारा गणित गड़बड़ा गया है और अब इनके सामने दबाए गए कालेधन को बाहर निकालने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह गया है। लोकसभा चुनाव से पहले एफआईयू ने सितंबर 2013 से फ रवरी 2014 के दौरान यूपी के बैंक खातों से लेन देन की सघन जांच की थी। सूत्रों के मुताबिक जिन खातों की जांच की गई उनमें से अधिकतर विभिन्न दलों से जुड़े नेताओं के थे। इस जांच में कई हैरान कर देने वाली जानकारी मिली। पता चला कि सितंबर 2013 से फ रवरी 2014 तक यूपी में बड़ी संख्या में वाहन और संपत्ति की खरीद फरोख्त हुई। यूपी में बैंकों से रोजाना लगभग 20 अरब रुपये निकले और लगभग 18 अरब रुपये जमा होते हैं। लेकिन सितंबर 2013 से 28 फरवरी 2014 तक रोजाना औसतन 32 अरब रुपये निकाले और 23 अरब रुपये जमा किए गए। इसके बाद बैंकों का कारोबार अचानक स्थिर हो गया। जब जांच हुई तो पता चला कि देश में 84 लाख से ज्यादा लोगों के एक से अधिक खाते हैं। सूत्रों की मानें तो जांच में 29 दलों से जुड़े करीब 2200 नेताओं के खातों से किए गए लेन-देन संदेह पैदा कर रहे थे। वजह यह थी कि इन खास खातों में सितंबर 13 से फरवरी 14 के बीच हुए लेन देन की जानकारी आयकर रिटर्न में नहीं दी गई थी। कई मामलों में तो खातों की ही जानकारी आयकर रिटर्न से गायब थी। 2012 के विधानसभा चुनाव के दौरान नकद धनराशि की जब्ती में यूपी अव्वल था। चुनाव के दौरान आयोग की टीमों ने प्रदेश में 43 करोड़ रुपये से ज्यादा नकद जब्त किए। चुनाव के दौरान पकड़ी गई ज्यादातर धनराशि का कोई लेखा-जोखा नहीं था। इसी चुनाव के दौरान में एक बड़े शराब कारोबारी के यहां भी कालेधन की आशंका में छापा मारा गया था। यह शराब कारोबारी उस समय की सरकार का करीबी था। माना जा रहा था कि शराब कारोबारी चुनाव के लिए सत्तारूढ़ दल को फंड मुहैया करा रहा था। सियासी दल चेक के बजाय नकद चंदा लेने में आगे हैं। एडीआर की रिपोर्ट केअनुसार 2004, 2009 तथा 2014 के लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों ने 1039.06 करोड़ रुपये नकद चंदा जुटाया जबकि चेक के जरिये 1299.53 करोड़ रुपये चंदा लिया गया। 
चुनाव पर पड़ेगा तगड़ा असर 
इसी तरह 2004 से 2015 के बीच विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टियों ने 2107.8 करोड़ रुपये नकद तथा चेक से 1244.86 करोड़ रुपये चंदा एकत्र किया। एडीआर की रिपोर्ट बताती है कि 2004, 2009 तथा 2014 के लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों ने अपने कुल खर्च का 10 फीसदी यानी 257.61 करोड़ रुपये नकद खर्च किया जबकि 2004 से 2015 के बीच विधानसभा चुनावों कुल खर्च का 12 फीसदी यानी 336.03 करोड़ रुपये नकद खर्च किया। एडीआर-यूपी इलेक्शन वॉच के संयोजक संजय सिंह का कहना है कि 500 और 1000 रुपये के नोटों के बंद होने का चुनाव में व्यापक असर पड़ेगा। केंद्र सरकार का यह कदम निश्चित तौर पर देशहित में है। इससे हमारे अभियान को गति मिलेगी। चुनाव में ठेकेदार, बिल्डर, माफिया उतरने की तैयारी में थे जिनपर अब रोक लग सकेगी। लोक प्रहरी संस्था से जुड़े व पूर्व डीजीपी आईसी द्विवेदी कहते हैं कि बड़े नोट बंद करने का फैसला बहुत अच्छा है। इसका यूपी चुनाव में बहुत व्यापक असर दिखाई देगा। अंधाधुंध खर्च होने वाली ब्लैक मनी भी आगामी चुनाव में अब खर्च नहीं हो सकेगी। चुनाव सुधार की दिशा में यह बहुत बड़ा कदम है। अभी तक कालेधन की ही बदौलत बिल्डर, क्रिमिनल, ठेकेदार, खनन माफिया चुनाव में खड़े हो जाते थे। इनकी वजह से चुनाव काफी महंगा हो जाता था। इस फैसले के बाद अब धनपशु चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। यह फैसला आम जनता के हित में है। इससे समाज के पढ़े-लिखे व शरीफ लोग भी चुनाव लड़ने की हिम्मत जुटा पाएंगे। लोक प्रहरी संस्था के महासचिव एसएन शुक्ला का मानना है कि यह फैसला आगामी चुनाव में बड़ा असर डालेगा। इससे चुनाव में काले धन के इस्तेमाल पर रोक लगेगी। बड़े नोट को बंद करने की मांग काफी पहले से चली आ रही थी। केंद्र ने इस मांग को मानकर एक बोल्ड कदम उठाया है। इसका असर आने वाले दिनों में दिखाई देगा। मनी पॉवर के दम पर चुनाव लड़ने वालों को इस फैसले से गहरा धक्का लगा है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: काला धन पर महाकवरेज, हर जानकारी सिर्फ यहां, पढ़ें विस्तार से कांग्रेस ने उठाए फैसले पर सवाल Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल