ताज़ा ख़बर

नोट कर लीजिए, 2019 में राहुल गांधी बनेंगे देश के प्रधानमंत्रीः डा.संजय सिंह

आजाद मनोज कुमार शर्मा 
(www.azadmanoj.com) 
दिल्ली के एक होटल में अपने जीवन की घटने वाली कुछ महत्वपूर्ण घटनाओं में आज एक और खास घटना होने वाली थी। मैंने फैसला किया की स्व. इंदिरा गांधी जी के जमाने से कांग्रेस की राजनीति में अमेठी नरेश राजा संजय सिंह, जिन्होंने आपातकाल में इंदिरा जी के साथ खड़े हो कर नारा दिया था-“लाठी डंडे खायेंगे इंदिराजी को वापिस लायेंगे “। गांधी परिवार के सबसे युवा पैरोकार बन कर आगे आये थे तब महाराजा। ये बात शायद समय के साथ कहीं इतिहास के पन्नों में दफ़न हो गयी थी। लेकिन आज उन्हीं राजा संजय सिंह जी का साक्षात्कार करने के लिए में आतुर था। कुछ सवाल और संशय उत्तर प्रदेश की राजनीति को लेकर इसलिए भी स्वभाविक थे की उत्तर प्रदेश की भूमिका अब देश की नहीं केवल प्रदेश की राजनीति तक सिमट गयी थी। घड़ी की सुइयों ने जैसे ही 11 बज़े मोबाइल की रिंग बजने लगी उधर से कहा गया कि सांसद डा.संजय सिंह जी ने आपको बारह बजे बुलाया हैं। मैं उसी समय निकल पड़ा उनके आवास की तरफ। गेट पर सुरक्षाकर्मियों को परिचय देता, उससे पहले ही राजा साहब के पीए स्वागत हेतु द्वार के सामने ही मिल गए। फिर कुछ ही देर में में राजा संजय सिंह के सामने था। एक सहज, सरल, शायराना मूड के मालिक राजा संजय सिंह अपने व्यक्तित्व की खुशबू समेटे हुए। और फिर शुरू हुए मेरे सवाल--  
सवाल- उत्तर प्रदेश में पिछले 27 वर्षों से कांग्रेस की सरकार नहीं हैं, इसका क्या कारण मानते हैं? कांग्रेस संगठन या उसके काम करने का तरीका? 
जवाब- कांग्रेस एक मॉस पार्टी है, कोई क्षेत्रीय नहीं। कांग्रेस इतने वर्षों से प्रदेश और केंद्र की सत्ता में रही है। जब मॉस किसी भी पार्टी के साथ चलता हैं तब वो सत्ता में रहती हैं। जब मॉस दूर होता हैं तो पार्टी भी सत्ता से दूर हो जाती है। देखिये, जो भी योजना कांग्रेस ने दी वो आज भी वहीं की वहीं हैं। बस उनके नाम या तो मोदी बदले या प्रदेश के नेता उनको नाम से बदल-बदल कर प्रायोजित किया जाता रहा हैं। आज तक कोई भी पार्टी नए तरीके से ना काम कर पाई न ही अपनी कोई अलग से नयी योजना लागू कर पायी और न कही कोई क्रियान्वन हुआ। 
सवाल- वर्तमान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने किये गए विकास को नारे के रूप में ला कर अगले विधानसभा चुनावों में जाना चाहते है? इसमें कोई सच्चाई हैं या मोदीजी की तरह एकबार फिर से सपा द्वारा भ्रमजाल बुनने की तैयारी हैं? 
जवाब- उत्तर प्रदेश का बच्चा-बच्चा जानता हैं। पिछले साढ़े चार साल से मुख्यमंत्री के भतीजे और चाचाओ ने प्रदेश को किस तरह लूटा है। गुंडा राज पूरी तरह हावी रहा हैं। आज मुख्तार अंसारी जैसे गुंडा तत्व को साथ ले कर प्रदेश की राजनीति में जोड़-तोड़ कर देखा जा रहा हैं। विकास का विज्ञापन उन काले कारनामो को सफ़ेद करने का तरीका भर हैं। जनता इसको नकार चुकी हैं पूरी तरह।  
सवाल- भाजपा और संघी विचारधारा खुल के देश के सामने आ चुकी है, अब ऐसे में भाजपा नेतृत्व सर्जिकल स्ट्राइक और हिन्दू कट्टरवाद के मुद्दे पर चुनाव में आना चाहता हैं। इस चुनौती से कैसे निपटेंगे?
जवाब- भाजपा अपने कट्टरवाद के लिए जानी जाती हैं, लेकिन ये दोगली राजनीति है। एक तरफ ये मुस्लिम पंचायतों की बात करते हैं। दूसरी तरफ इनके नेता अपने भड़काऊ भाषणों से समाज को और देश को बांटने की बात और काम करते हैं। इसका जबाब जनता इनको देगी। वो इनके विचार जान और समझ चुकी हैं। भाजपा खुद परेशान हैं की किस मुद्दे के साथ प्रदेश के चुनाव में जाए। पिछले चुनाव में इन्होने राम जी को और राम मंदिर को मुद्दा बनाया था। विकास की बात तो गायब हैं, भाजपा सिर्फ ध्रूवीकरण की राजनीति करती है, विचारधारा की नहीं।
सवाल- राजा सहाब, एक जमाना था, तब यूपी के यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष हुआ करते थे, कांग्रेस सत्ता से गयी थी तब आपने एक नया नारा दिया था “लाठी डंडे खायेंगे, इंदिरा वापिस लायेंगे“ जहाँ तक मुझे याद हैं आप 67 बार जेल गए थे। कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरे देश का यूथ आपके साथ था। एक ही आवाज़ पर क्या जनता के बीच ये वही संजय सिंह हैं और उसी ऊर्जा के साथ खड़े हैं?
जवाब- हां, ये वही संजय सिंह हैं, वही "संजय" हैं। अपने अनुभव और उस समय की यूथ कांग्रेस आज कांग्रेस बन चुकी हैं और आपने किसान यात्रा के दौरान इस अंगडाई को महसूस भी किया होगा कि कांग्रेस खड़ी हो गयी है। उसी अनुभव के आधार पर पूर्ण विश्वास के साथ कहता हूँ की 2017 में आने वाला समय उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार का होगा, आप एक मज़बूत किसानो की कांग्रेस सरकार देखेंगे।  
सवाल- मोदीजी ने 15 लाख दिलाने का वायदा किया, अखिलेश स्मार्ट फोन दे रहे हैं, मायावती नगद भला करने का वायदा कर रही हैं, आप किसान यात्रा निकाल रहे हैं, क्या किसानों के लिए कोई ख़ास योजना हैं? क्या उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का चुनाव अभियान किसानो के आस-पास केन्द्रित रहेगा? 
 जवाब- ये प्रदेश एक कृषि प्रधान प्रदेश है। एक बात और जोड़ना चाहूँगा कि भारतीय सेना में अधिकतर इन किसानो के ही बेटे हैं। कांग्रेस के समय कृषि विभाग बहुत महत्वपूर्ण हुआ करता था। जिसका मुख्य कारण प्रदेश में 70 फीसदी किसान आबादी का होना था। लेकिन सपा और बसपा सरकारों में ये सिर्फ कुछ सरकारी कागजों में रह गया। इसका काम बदल कर रियल स्टेट कर दिया गया हैं। किसानों की जमीन कौड़ियो के दाम में इन सब पार्टियों ने बागे धन्ना सेठो को बांटी और आगे आप खुद समझदार हैं जनता भी अब जानती हैं। भाजपा केंद्र में आते ही भूमि अधिग्रहण बिल के साथ किसानो की जमीन हथियाना चाहती थी। मगर हमारे नेता राहुल गांधीजी ने रात दिन मेहनत कर और कांग्रेस पार्टी के विरोध के कारण उस बिल को पास होने से रोका। हमारी पिछली सरकारों ने किसानो का दो बार ऋण माफ़ करके दिखाया। 2017 में हमारी सरकार आने पर हम फिर से इसको माफ़ कर दिखाएँगे। क्योंकि हमें किसानों का दर्द पता है और ये मैं समझता हूँ। जिस प्रदेश का अन्नदाता दूखी होगा वह प्रदेश कभी सुखी नहीं हो सकता। ये बात पूरे देश पर भी लागू होती है। क्योंकि किसान देश की रीढ़ की हड्डी हैं ये अगर कमजोर हुई देश को लकवा मार जायेगा। 
सवाल- आपका नाता अमेठी से हैं, आप वहाँ के महाराज हैं और राहुल गांधीजी अमेठी से ही सांसद हैं। साथ ही आपके पड़ोस में रायबरेली से सोनिया गाँधी जी हैं। अमेठी और राहुल गांधीजी की भविष्य में और राष्ट्रीय राजनीति में उनकी क्या भूमिका देखते हैं?  
जवाब- रायबरेली और अमेठी की जनता को सोनिया गांधीजी और राहुलजी पर अटूट विश्वास है। उन्होंने हमेशा उनको जिताया हैं। वह हमारे नेता और हम सबके बीच विशेष अनुरागी संवेदनशील रिश्ता हैं, (कहते हुए राजा संजय सिंह थोड़े भावुक से हो गए थे ) जो अटूट है। मोदीजी को उल्टा उत्तर प्रदेश की जनता और बनारस की जनता पर और अपने उत्तर प्रदेश के भाजपा के नेताओं पर यकीन नहीं था, इसीलिए वो गुजरात से भी चुनाव लडे थे। “आप हजूर खुद समझदार हैं“ (राजा साहब मुस्कुराते हुए मेरी आँखों में झाँक रहे थे और मैं थोड़ा सा सकुचा गया था उनका आत्मविश्वास देख कर), सब समझते हैं आप। लिख कर रख लीजिये, आज का दिन तारीख और समय नोट कर लीजिए, 2019 में राहुल गाँधी देश के प्रधानमंत्री होंगे। ये मेरा आपसे वायदा हैं। ब्लोगर महोदय, ये संजय सिंह का वायदा है। कहते हुए “राजसी खनक मुझे महसूस हुई और इरादा भी जैसे कोई सूबे का सरदार अपने राजा से सूबा जीतने का वायदा कर रहा हो। साक्षात्कार के सवालों का सिलसिला रुक गया था। कुछ ज़रूरी काल राहुल गांधीजी और राजबब्बर जी के आ रहे थे और फिर मैंने भी निकलना ही मुनासिब समझा। फिर कभी मुलाक़ात और अगला निमंत्रण पा कर में निकल लिया था।                  
By Rajeev Ranjan Tiwari
  (http://www.azadmanoj.com/2016/10/blog-post_76.html)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

1 comments:

  1. शानदार संपादित रूप धन्यवाद आभार

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: नोट कर लीजिए, 2019 में राहुल गांधी बनेंगे देश के प्रधानमंत्रीः डा.संजय सिंह Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल