ताज़ा ख़बर

यूपी में शीला दीक्षित पर दांव, कांग्रेस ने बनाया सीएम पद का उम्मीदवार

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार बना दिया गया है। वैसे तो काफी दिनों से इस बात की चर्चा थी, लेकिन आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जर्नादन द्विवेदी और गुलाम नबी आजाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी औपचारिक घोषणा की। संजय सिंह को यूपी में प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाया गया और आरपीएन सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया है। कांग्रेस ने यूपी के चुनावों के लिए एक संयोजन समिति भी बनाई है, जिसके अध्यक्ष प्रमोद तिवारी होंगे। इसके सदस्यों में मोहसिना किदवाई, सलमान ख़ुर्शीद, राजीव शुक्ला, श्रीप्रकाश जायसवाल, रीता बहुगुणा, सलीम शेरवानी और प्रदीप जैन आदित्य, पीएल पुणिया, निर्मल खत्री, प्रदीप माथुर शामिल हैं। खबरों के मुताबिक, प्रियंका भी जोर-शोर से प्रचार करेंगी। कुछ हफ्ते पहले तक 78-वर्षीय शीला दीक्षित इस सोच से मुब्तिला लग रही थीं कि उत्तर प्रदेश जाना हारी हुई बाज़ी खेलने जैसा होगा और उन्होंने इस पेशकश को ठुकरा भी दिया था। लेकिन पिछले सप्ताह NDTV को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि वह वही करेंगी, जैसा पार्टी का अनुरोध होगा। इसके अलावा उन्होंने खुद का ज़िक्र 'उत्तर प्रदेश की बहू' के रूप में भी किया, और कहा कि जिन लोगों का दावा है कि वह बाहरी उम्मीदवार हैं, वह सच्चाई से वाकिफ नहीं हैं। शीला दीक्षित तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं और राजीव गांधी की सरकार में भी उन्होंने संसदीय राज्य मंत्री और पीएमओ में राज्य मंत्री का ज़िम्मा संभाला। हाल ही में पार्टी के लिए चुनावी रणनीति बनाने के काम पर लगाए गए प्रशांत किशोर, जिन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2014 में हासिल जीत और पिछले साल बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की शानदार जीत का श्रेय दिया जाता है, की टीम के सूत्रों के अनुसार, वह राज्य में मुख्यमंत्री पद के लिए कोई ब्राह्मण चेहरा चाहते हैं, जिसमें शीला दीक्षित फिट बैठती हैं। इसके अलावा प्रशांत किशोर के मुताबिक दिल्ली की मुख्यमंत्री के रूप में उनका तजुर्बा उत्तर प्रदेश के लोगों को भी लाभान्वित कर सकता है, जो अपने राज्य के पिछड़पन से दुःखी हैं।  
कांग्रेस ने बीजेपी के ब्राह्मण वोट बैंक में लगाई सेंध! 
देश के सबसे बड़े राज्य उत्तरप्रदेश में वरिष्ठर नेता और दिल्लीन की पूर्व सीएम शीला दीक्षित को मुख्यकमंत्री पद का उम्मीरदवार घोषित कर कांग्रेस ने बड़ा दांव खेला हैं। अपने इस कदम के पीछे पार्टी की मंशा 78 वर्षीय शीला के सियासी अनुभव का फायदा उठाने के साथ-साथ राज्यद के ब्राह्मण वोटों को भी अपने पक्ष में करने की जुगत बैठाई है। ब्राह्मणों को अब तक परंपरागत रूप से बीजेपी का वोटबैंक माना जाता हैं। शीला को सीएम प्रत्या शी के रूप में पेश कर कांग्रेस ने सियासत की एक बेहद अनुभवी नेता के साथ राज्या की ही किसी शख्सियत को अपने चेहरे के रूप पेश किया है। शीला का यूपी से गहरा संबंध रहा है। शीला का विवाह स्वायधीनता सेनानी तथा केंद्रीय मंत्रिमंडल के सदस्यि रह चुके उमा शंकर दीक्षित के परिवार में हुआ था। यही नहीं, उनके पति स्व. विनोद दीक्षित भारतीय प्रशासनिक सेवा के सदस्य रहे थे। इस लिहाज से शीला यूपी की बहू हुईं। 31 मार्च 1938 को जन्मीव शीला की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के कान्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से ली। बाद में स्नातक और कला स्नातकोत्तर की शिक्षा मिरांडा हाउस कॉलेज से हासिल की। शीला वर्ष 1998 से 2013 तक तीन कार्यकाल में दिल्लीभ के मुख्यामंत्री का पद संभाल चुकी हैं। दिल्ली में मेट्रो और फ्लाईओवर को लंबा जाल उन्हीं के कार्यकाल की देन माना जाता हैं। दिल्लीी में सीएम पद संभालने के पहले वे केंद्र सरकार में भी मंत्री के तौर पर सेवाएं दे चुकी हैं। 1984 से 1989 तक में वे यूपी के कन्नौंज से सांसद भी रह चुकी हैं। सीएम के रूप में दिल्ली के विकास का श्रेय मिलने के साथ-साथ शीला और उनकी तत्काौलीन सरकार पर विभिन्ना घोटालों के आरोप भी लगते रहे हैं। कॉमनवेल्थ्, टैंकर और मीटर घोटाले में उन पर गंभीर आरोप लगे हैं। आम आदमी पार्टी के दिल्लील में उभरकर आने के साथ ही देश की राजधानी में शीला दीक्षित की 'आभा' धीरे-धीरे कम होती गई। यहां तक कि 2013 के विधानसभा चुनाव में उन्हें आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल से हार का सामना करना पड़ा। मनमोहन सिंह के नेतृत्व3 वाली सरकार ने उन्हेंद केरल का राज्योपाल नियुक्ते कर दिया लेकिन केंद्र में एनडीए सरकार के आने के बाद उन्हें यह पद गंवाना पड़ा। बहरहाल, यूपी के लिए पार्टी का सीएम चेहरा बनने के बाद शीला दीक्षित फिर कांग्रेस राजनीति का केंद्रबिंदु बन गई हैं लेकिन देश के सबसे बड़े राज्यल में लगभग निर्जीव पड़े संगठन और कार्यकर्ताओं में जान फूंकना उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगा। क्याी शीला ऐसा कर पाएंगी...।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: यूपी में शीला दीक्षित पर दांव, कांग्रेस ने बनाया सीएम पद का उम्मीदवार Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल