ताज़ा ख़बर

कांग्रेस का 'लोकतंत्र बचाओ' मार्च, पार्टी नेताओं ने किया मोदी सरकार पर जोरदार हमला

नई दिल्ली। संसद न सही सड़क से ही शुक्रवार को कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ विरोध का ऐसा बिगुल फूंका है, जिसमें मुद्दों के साथ भावनाओं का भी घोल है. 2014 में लोकसभा चुनाव में हार के बाद लगभग स्थिर सी हो गई कांग्रेस, लंबे अरसे बाद सड़क के रास्ते संसद को घेरने की तैयारी की है. यही कारण है कि पार्टी आलाकमान से लेकर वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता हर किसी में 'लोकतंत्र बचाओ' मार्च एक ऊर्जा का संचार करता भी दिख रहा है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जंतर-मंतर पर अपने संबोधन में पार्टी में नई ऊर्जा का संचार करने के लिहाज से ही सही, साफ शब्दों में कहा कि एक सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए कांग्रेस कभी भी किसी भी कुर्बानी से पीछे नहीं हटेगी. कांग्रेस शासित राज्यों में सरकार बचाने की कवायद हो या संसद में देशहित के मुद्दे, कांग्रेस मोदी सरकार के आगे थोड़ी कमजोर दिखी है. लेकिन जिस तरह शुक्रवार को जंतर-मंतर पर सोनिया और राहुल के साथ 83 साल के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी माइक थामा, यह कार्यकर्ताओं के लिए सीधे संकेत हैं कि पार्टी अब शांत बैठने की मुद्रा में नहीं है. लोकतंत्र बचाओ मार्च इस मायने में भी खास है कि लंबे समय बाद सड़क पर पार्टी ने बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं को एकजुट किया. शीर्षस्थ नेताओं से उनका सीधा संपर्क हुआ और कहीं न कहीं यह संकेत भी मिले कि मुद्दों पर शीर्ष नेतृत्व से नीचे तक हर कोई कदम से कदम मिलाकर चलेंगे. संसद में बजट सत्र की कार्यवाही चल रही है. ऐसे में सदन के भीतर के साथ ही बाहर से केंद्र पर दबाव बनाने की कोशिश काम कर सकती है. लोकतंत्र बचाओ मार्च की अगुवाई राहुल गांधी ने की, वहीं जंतर-मंतर पर कांग्रेस के पोस्टरों में रॉबर्ट वाड्रा भी दिखे. जबकि अब तक पार्टी वाड्रा को सियास कसरत से दूर ही रखती आ रही है. ऐसे में नए कयास लगने शुरू हो गए है और युवा कंधों पर जिम्मेदारी की सुगबुगाहट आने लगी है. दूसरी ओर, जंतर-मंतर पर कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं का जमावड़ा शुरू हो गया है. पैदल मार्च की अगुवाई खुद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी करने वाले हैं. दिलचस्प बात यह है कि जंतर-मंतर पर कांग्रेस के पोस्टरों में सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को भी राहुल गांधी के साथ जगह दी गई है. जाहिर तौर इससे नए सियासी कयास लगने शुरू हो गए हैं, वहीं यह भी समझा जा रहा है कि लैंड डील मामले में कांग्रेस ने वाड्रा को क्लीनचिट दे दी है. कांग्रेस नेता कमलनाथ का कहना है कि देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है और बीजेपी अगस्ता मामले के बहाने मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशि‍श की जा रही है, वहीं सचिन पायलट ने कहा कि बीजेपी कांग्रेस शासित राज्यों में सरकार को कमजोर करने की कोशि‍श कर रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस को सीबीाई और ईडी द्वारा भी निशाना बनाया जा रहा है. शुक्रवार को लोकसभा में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर अगस्ता वेस्टलैंड सौदे में कथि‍त घोटाले पर बयान देंगे. जबकि उससे पहले इस मामले पर बीजेपी नेता अनुराग ठाकुर, किरीट सोमैया, निशीकांत ठाकुर, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधि‍या और टीएमसी के सौगत रॉय के ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर बहस होगी. बताया यह भी जा रहा है कि सुरक्षाकर्मी कांग्रेस की रैली को पार्लियामेंट स्ट्रीट पर ही रोक लेंगे. संसद सत्र जारी रहने के कारण संसद भवन के आसपास के इलाके में धारा 144 लागू है. अगस्ता रिश्वत मामले पर दाखिल जनहित याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भी होनी है. याचिका में मांग की गई है कि इटली की कोर्ट के फैसले को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अहमद पटेल जैसे नेताओं पर एफआईआर दर्ज हो. कांग्रेस पार्टी रैली के दौरान उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने के कथि‍त प्रयासों को लेकर भी बीजेपी पर हमला बोलने की तैयारी में है. सोनिया गांधी और राहुल गांधी के अलावा इस रैली को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी संबोधित करेंगे. उम्मीद की जा रही है कि राहुल गांधी शुक्रवार को लोकसभा में अगस्ता वेस्टलैंड मामले पर होने वाली बहस में भी शिरकत करेंगे. इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता जयराम रमेश ने गुरुवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया कि उन्होंने कांग्रेस नेतृत्व को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में फंसाने के लिए यह साजिश रची है. जयराम रमेश ने कहा, 'प्रधानमंत्री ने जिस तरह ट्वीट करके अपने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के इस मामले में राज्यसभा में दिए उत्तर की सराहना की, वह न सिर्फ उनकी मानसिकता को दिखाता है बल्कि उनकी रणनीति का भी खुलासा करता है.' रक्षा मंत्री पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि दरअसल पर्रिकर का उत्तर संसदीय इतिहास का अब तक का सबसे खराब उदाहरण है, क्योंकि उन्होंने विपक्ष द्वारा उठाए सवालों के जवाब देने की बजाए आरोपों का कैटालॉग ही पढ़ दिया. जयराम रमेश ने पर्रिकर पर आरोप लगाते हुए आगे कहा, 'उन्होंने रक्षामंत्री पद की मर्यादा का ध्यान नहीं रखा और एक राजनीतिक बयान दिया.' जयराम ने कहा कि रैली का आयोजन सरकार द्वारा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, हैदराबाद और इलाहाबाद विश्वविद्यालय समेत केंद्रीय विश्वविद्यालयों के खिलाफ बोले गए हमले के विरोध में भी किया गया है. पार्टी नेता रणदीप सुरजेवाला ने पिछले सप्ताह कहा था कि पार्टी संसद का घेराव करेगी लेकिन रमेश ने सिर्फ इतना कहा कि रैली के बाद पार्टी संसद तक मार्च निकालेगी.
सोनिया-राहुल और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह गिरफ्तारी के बाद रिहा 
जंतर-मंतर पर कांग्रेस की लोकतंत्र बचाओ रैली के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में गिरफ्तारी दी। थोड़ी देर में वे रिहा हो गए। जंतर-मंतर से संसद तक मार्च के दौरान उन्होंने विरोध प्रदर्शन के दौरान प्रतिबंधात्मक आदेश का उल्लंघन किया था। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश में सूखा पड़ा हुआ है। हर रोज 50 किसान आत्महत्या कर रहे हैं, लेकिन पीएम मोदी कुछ नहीं कर रहे हैं। पीएम ने कहा था कि हम युवाओं को रोजगार देंगे, लेकिन मेक इंडिया के भव्य शो के बाद भी लोगों को रोजगार नहीं मिला। 2015 में केवल 1.30 लाख लोगों को रोजगार मिला। मोदी सरकार का जो भी विरोध करता है, उन पर झूठे आरोप लगाए जाते हैं। राहुल ने कहा कि यह लोकतंत्र का देश है। हम लोकतंत्र के लिए लड़ेंगे। गरीबों के लिए लड़ेंगे। इस देश में केवल दो ही लोगों की चलती है, पीएम मोदी और संघ प्रमुख मोहन भागवत की। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रैली में कहा कि मैं पीएम मोदी से और सरकार से यह कहना चाहता हूं कि कांग्रेस भारत की आत्मा है। कांग्रेस पर 1885 से अब तक कई लोगों ने हमले किए और कई लोगों ने इसे कमजोर करने की कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: कांग्रेस का 'लोकतंत्र बचाओ' मार्च, पार्टी नेताओं ने किया मोदी सरकार पर जोरदार हमला Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल