ताज़ा ख़बर

जम्मू कश्मीर में सरकार गठन का रास्ता साफ, महबूबा मुफ्ती होंगी पहली महिला सीएम

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर की पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने महबूबा मुफ्ती को आधिकारिक रूप से मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है। राज्य में बीजेपी के साथ गठबंधन सरकार को लेकर श्रीनगर में हुई पार्टी विधायकों की अहम बैठक में यह फैसला लिया गया। पीडीपी प्रमुख महबूबा को पार्टी ने सर्वसम्मति से विधायक दल का नेता चुना, जिससे उनके राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री बनने का रास्ता लगभग साफ हो गया। महबूबा अगर मुख्यमंत्री बनती हैं तो उन्हें विधानसभा या विधानपरिषद में से किसी एक का सदस्य बनना होगा और लोकसभा सीट से इस्तीफा देना पड़ेगा। महबूबा अभी दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा सदस्य हैं। इस बैठक से कुछ घंटों पहले महबूबा दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में स्थित अपने पुस्तैनी शहर बिजबेहरा में अपने पिता एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की कब्र पर भी गई। पीडीपी के एक नेता ने बताया, 'जम्मू-कश्मीर में बीजेपी के साथ गठबंधन सरकार के संदर्भ में आखिरी फैसला करने से पहले महबूबा दुआ मांगने के लिए बिजबेहरा स्थित पिता की कब्र पर गईं।' वहीं पीडीपी नेता मुज़फ्फरर बेग ने कहा, 'मुफ्ती सईद ने पीडीपी और बीजेपी के बीच गठजोड़ से पहले पीएम के साथ लंबी बातचीत की थी। उनके जाने के बाद मेहबूबा मुफ्ती को बीजेपी के साथ हमारे संबंधों को दोबारा नए सिरे से एक नई दिशा देनी पड़ी। लेकिन गठजोड़ के एजेंडे में बदलाव का सवाल ही नहीं उठता है।' इससे पहले बुधवार दोपहर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ महबूबा मुफ़्ती की मुलाक़ात से दोनों दलों के बीच नई समझ बनी। अभी तक कई मुद्दों पर अड़ियल रुख़ अपनाए महबूबा मुफ़्ती राज्य में बीजेपी के साथ नई सरकार बनाने को राज़ी हो गईं। महबूबा ने इसका संकेत साफ शब्दों में दिया, जब उन्होंने कहा, 'जब आप देश के प्रधानमंत्री से मिलते हैं और अच्छी बात होती है तो आम लोगों के मसले हल होने का रास्ता ज़्यादा साफ़ हो जाता है।' गौरतलब है कि राज्यपाल एनएन वोहरा ने पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सत शर्मा को पत्र लिखकर उनसे शुक्रवार को मिलने को कहा है (ताकि सरकार के गठन के बारे में स्थिति स्पष्ट कर सके)। राज्य में बीजेपी और पीडीपी ने पिछले साल मार्च से इस साल जनवरी तक 10 महीने की गठबंधन सरकार चलाई थी। हालांकि बीते सात जनवरी को मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद से सरकार के गठन को लेकर उहापोह की स्थिति बनी हुई है और वहां राज्यपाल शासन लागू है।  
उमर का सवाल, किस शर्त पर सरकार को तैयार हुई पीडीपी? 
महबूबा मुफ्ती को गुरुवार को सर्वसम्मति से पीडीपी विधायक दल की नेता चुन लिया गया है और उन्हें पीडीपी की ओर से जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री पद के लिए नामित किया गया है। इसी पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने पीडीपी पर जमकर निशाना साधा। जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने कहा कि पीडीपी को जवाब देना चाहिए कि आखिर क्यों उन्होंने सरकार के लिए हमें ढाई महीने तक इंतजार कराया? उमर ने कहा कि ऐसा क्या बदल गया कि पीडीपी केंद्र से कुछ भी नहीं मिलने के बाद भी सरकार बनाने को तैयार हो गई? वहीं पीएमओ में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सरकार गठन पर शुक्रवार को विधायकों की होनी वाली बैठक के बाद फैसला लिया जाएगा। बीजेपी ने कभी अतिरिक्त मांग नहीं की। गठबंधन का जो एजेंडा पहला था, वहीं अभी भी है। महबूबा मुफ्ती के घर पर हो रही बैठक में बीजेपी के साथ गठबंधन सरकार बनाने के मसले पर चर्चा की गई। महबूबा ने खुद को नेता चुनने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को शुक्रिया कहा। शुक्रवार को वह राज्यपाल एनएन वोहरा से मुलाकात करनेवाली हैं। पूर्व मुख्यमंत्री मोहम्मद सईद के निधन के बाद जनवरी महीने से जम्मू कश्मीर में राज्यपाल शासन लगा हुआ है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: जम्मू कश्मीर में सरकार गठन का रास्ता साफ, महबूबा मुफ्ती होंगी पहली महिला सीएम Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल