ताज़ा ख़बर

कांग्रेस की माफी की मांग पर बोलीं स्मृति ईरानी, मैं भी करती हूं दुर्गा की पूजा

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकासमंत्री स्मृति ईरानी के एक और बयान पर विवाद हो गया है। लोकसभा में बुधवार को स्मृति ईरानी ने जेएनयू में महिषासुर वध के विरोध में आयोजित होने वाले कार्यक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि दलित और पिछड़े वर्ग के छात्र मां दुर्गा का अश्लील चित्रण करते हैं। इस मुद्दे पर आज राज्यसभा में हंगामा हुआ। विपक्ष इस मुद्दे पर स्मृति ईरानी से माफी की मांग कर रहा है। दरअसल, स्मृति ईरानी ने एक पर्चा पढ़कर सुनाया था कि आयोजन करने वाले छात्र इस विषय पर क्या राय रखते हैं। स्मृति के इस बयान पर कांग्रेस सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा ने कहा कि जिसने दुर्गा मां के बारे में ऐसा कहा उसे आप गिरफ्तार कीजिए। सरकार आपकी है, लेकिन सदन में यह अपमानजनक बातें आपने क्यों पढ़ीं। जब तक माफी नहीं होती हम सदन नहीं चलने देंगे। कांग्रेस ने साथ ही यह मांग भी कि इसे सदन की कार्यवाही से निकाला जाए। इस पर स्मृति ईरानी का कहना है कि वह तथ्य को सामने रख रही थीं। यह सरकार का नहीं, जेएनयू का दस्तावेज है। मैं भी दुर्गा की पूजा करती हूं, मैंने दुख के साथ यह पर्चा पढ़ा। सफाई मांगी गई इसलिए यह पढ़कर सुनाया गया।
राज्यसभा में बिलों के भविष्य को लेकर अनिश्चितता बढ़ी 
जेएनयू विवाद और हैदराबाद के छात्र रोहित वेमुला के खुदकुशी मामले में सरकार और विपक्ष के बीच शुक्रवार को हुई तीखी तकरार के बाद राज्यसभा में बजट सत्र के दौरान विधेयकों के भविष्य को लेकर अनिश्चितता बढ़ गई है। यह विवाद तब बढ़ा जब केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने वह 'पर्चा' पढ़ना शुरू किया जो कथित तौर पर जेएनयू परिसर में वितरित किया गया था, इसमें कथित तौर पर मां दुर्गा के बारे में आपत्तिजनक बातें कही गई थीं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इससे जेएनयू छात्रों के एक वर्ग की ओछी मानसिकता का पता चलता है। राज्यसभा में इस बहस के दौरान उस समय व्यकवधान पैदा हुआ जब समूचे विपक्ष ने एकजुट होकर मंत्री से बयान को वापस लेने और माफी मांगने की मांग कही। हंगामे के चलते सदन को स्थगित करना पड़ा। गौरतलब है कि राज्यसभा में सरकार अल्पहमत में है। राज्यसभा में कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने कहा, 'पहले भी लोगों ने ईशानिंदा वाले बयान जारी किए है, लेकिन कभी भी सदन के पटल पर ऐसे बयानों को कोट नहीं किया गया या दोहराया नहीं गया।' माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा, 'इसे जानबूझकर कोट किया गया। बीजेपी पूरी बहस का ध्रुवीकरण करना चाहती है। आखिर इस पूरे मामले में मां दुर्गा को लाने की जरूरत क्या थी। स्मृति को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए।' दूसरी ओर सरकार इस बात पर अडिग है कि स्मृति ने कुछ गलत नहीं किया। एक मंत्री ने कहा, 'स्मृति ने ईशनिंदा जैसी कोई बात नहीं की। वे महज यह तर्क रखना चाहती थीं कि इससे पहले भी जेएनयू से आपत्तिजनक सामग्री आती रही है।' हालांकि शुक्रवार का दिन प्राइवेट मेंबर्स के बिल के लिए तय है, लेकिन विपक्ष जेएनयू विवाद पर बहस को जारी रखने के पूरे मूड में है। संसद सत्र शुरू होने से पहले सरकार और विपक्ष के बीच किसी भी बिल को पेश करने से प्रमुख मुद्दों पर बहस कराए जाने को लेकर जो सहमति बनी थी वह अब 'बिखरकर' रह गई है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: कांग्रेस की माफी की मांग पर बोलीं स्मृति ईरानी, मैं भी करती हूं दुर्गा की पूजा Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल