ताज़ा ख़बर

चाहे ओलिंपिक हो या विंबलडन, मैं हमेशा देश के लिए खेलती हूं : सानिया मिर्जा

बेंगलुरू। भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने गुरुवार को कहा कि चाहे ओलंपिक हो या विंबलडन वह हमेशा देश के लिए खेलती हैं। हां ओलिंपिक में कुछ ज्यादा ही देशप्रेम जुड़ा होता है, क्योंकि हर कोई तिरंगे के तले खेलता है। ओलिंपिक में अपने जोड़ीदार के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस पर फैसला करना अभी जल्दबाजी होगी कि रियो ओलिंपिक खेलों में मिश्रित युगल में उनका जोड़ीदार कौन होगा। हालांकि उन्होंने कहा कि इस खेल महाकुंभ में सर्वश्रेष्ठ संभावित टीम उतारी जानी चाहिए। सानिया ने कहा, ‘‘मैं हमेशा देश के लिए खेलती हूं। लोग गलत सोचते हैं कि हम देश के लिए नहीं खेलते, क्योंकि हम टीम के रूप में नहीं खेलते हैं। हम हमेशा भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं और यह मायने नहीं रखता कि वह विंबलडन है या ओलिंपिक। ओलिंपिक में कुछ ज्यादा देशप्रेम जुड़ा होता है, क्योंकि हर कोई भारतीय ध्वज तले खेलता है।’’ रियो ओलिंपिक खेलों में मिश्रित युगल में अपने जोड़ीदार के नाम पर उन्होंने एक कार्यक्रम से इतर पत्रकारों से कहा, ‘‘कौन जानता है कि तब कौन फिट रहेगा और कौन फिट नहीं रहेगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सर्वश्रेष्ठ टीम उतारी जानी चाहिए। अभी मुझे नहीं लगता कि यह इस पर फैसला करने का सही समय है। ’’ गौरतलब है कि लंदन ओलिंपिक 2012 से पहले भारतीय युगल टीम के चयन को लेकर विवाद पैदा हो गया था। रियो खेलों के लिए अपनी तैयारियों के बारे सानिया ने कहा कि वह अभी इन खेलों से पहले होने वाले टूर्नामेंट पर ध्यान दे रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने अभी रविवार को फाइनल खेला था और इसलिए मैं केवल उन खेलों को लेकर ही तैयारी नहीं कर रही हूं क्योंकि मैं लगातार छह सप्ताह से खेल रही हूं। पिछले तीन दिनों में मैं तीन अलग-अलग देशों में रही और आज रात मैं फिर दुबई के लिये रवाना हो जाऊंगी और मंगलवार को हम दोहा में खेलेंगे, इसलिए मेरे पास अभी कुछ दिन हैं।’’ सानिया ने कहा कि अन्य खेलों की तरह टेनिस खिलाड़ी चार महीने बाद होने वाले टूर्नामेंट पर अभी से ध्यान नहीं दे सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमें इतनी सहूलियत हासिल नहीं है जैसे कि अन्य खेलों में है कि चार महीने बाद होने वाली प्रतियोगिता पर ध्यान केंद्रित किया जा सके। लेकिन जब वहां जाएंगे तो पदक जीतने के लिये अपनी तरफ से पूरा प्रयास करेंगे, लेकिन अभी यह हमारी प्राथमिकता नहीं है।’’ मार्टिना हिंगिस के साथ युगल में शानदार सफलता के पीछे के राज के बारे में सानिया ने कहा कि वे दबाव में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करती हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अमूमन युगल में एक खिलाड़ी बेहतर खेलता है और दूसरा नहीं। हमारे मामले में मुझे लगता है कि हम दोनों ही दबाव में बहुत अच्छा प्रदर्शन करती हैं और इसलिए हमें हराना मुश्किल हो जाता है। यह हमारी सबसे बड़ी ताकत है।’’ सानिया ने हालांकि कहा कि उन दोनों की अभी कुछ कमजोरियां हैं और वे उन पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि वह और हिंगिस काफी समय साथ में बिताती है। उन्होंने कहा, ‘‘आज संभवत: वह मेरी सबसे करीबी है। वह मुझे अच्छी तरह से समझती है और जानती है कि परिस्थितियों के हिसाब से मेरी प्रतिक्रिया कैसी रहती है। ऐसा उसके प्रति मेरे मामले में भी है। इसलिए मुझे खुशी है कि मैं उसे इतनी अच्छी तरह से जानती हूं। ’’
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: चाहे ओलिंपिक हो या विंबलडन, मैं हमेशा देश के लिए खेलती हूं : सानिया मिर्जा Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल