ताज़ा ख़बर

जाट आरक्षण आंदोलन हुआ हिंसक, मंत्री के घर पर हमला, कारों को फूंका

चंडीगढ़। आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे जाटों का आंदोलन हिंसक होने के कारण एक व्यक्ति की मौत और 21 के घायल होने के बाद हरियाणा के आठ जिलों में तैनाती के लिए सेना को बुला लिया गया। भीड़ ने राज्य के वित्त मंत्री के मकान तथा कई सरकारी एवं निजी संपत्तियों में आग लगा दी। प्रदर्शनकारियों ने कुछ पुलिसकर्मियों को बंधक बना लिया तथा रोहतक, झज्जर एवं हांसी सहित कई जगहों पर तोड़फोड़ कर पुलिस एवं निजी वाहनों, सरकारी कार्यालयों तथा हिसार जिले के हांसी में दो टोल प्लाजा को निशाना बनाया। दोनों टाल प्लाजा दिल्ली-हिसार-फजलिका राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित हैं। पिछले कुछ दिनों से चल रहा यह आंदोलन सर्वदलीय बैठक के बाद मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर द्वारा इसे वापस लिए जाने की अपील किए जाने के थोड़ी ही देर बाद और तेज होकर हिंसक बन गया। प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री की अपील को खारिज कर दिया। खट्टर ने आश्वासन दिया कि समुदाय को आरक्षण देने के लिए एक समाधान पर काम किया जाएगा। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक यशपाल सिंघल ने चंडीगढ़ में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि रोहतक में हिंसक भीड़ में से किसी ने गोली चलायी और एक बीएसएफ जवान को घायल कर दिया। बीएसएफ कर्मियों द्वारा आत्मरक्षा में चलाई गयी गोली से एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गयी। राज्य के पुलिस प्रमुख ने बताया कि स्थिति के नियंत्रण से बाहर होने पर आठ बुरी तरह से प्रभावित जिलों... रोहतक, झज्जर, जींद, भिवाड़ी, हिसार, कैथल, पानीपत एवं सोनीपत में तैनाती के लिए सेना को बुलाया गया है। पुलिस ने बताया कि केन्द्र से केन्द्रीय अर्ध सैन्य बलों की करीब 20 कम्पनियां (करीब 2000 कर्मी) मांगी गयी हैं। शुक्रवार को पहली बार प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-अम्बाला राष्ट्रीय राजमार्ग पर रेल एवं सड़क मार्ग तथा मुख्य रेलवे मार्गों को भी बाधित कर दिया। जाट आंदोलन के मद्देनजर कालका-चंडीगढ़-दिल्ली शताब्दी सहित कई स्थानीय, अल्प दूरी एवं लम्बी दूरी की ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। डीजीपी ने कहा कि पुलिस अधिकारियों को रोहतक सहित कुछ जगहों पर बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों ने बंधक बना लिया और वे अपनी ड्यूटी निभाने में असमर्थ हैं। हरियाणा पुलिस के महानिदेशक ने कहा कि स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए सेना को बुलाया गया है। अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली हिसार राष्ट्रीय राजमार्ग पर रोहतक बाईपास के पास एकत्र हुए प्रदर्शनकारी हिंसक हो गये और उन्होंने वहां खड़े पुलिस वाहनों पर कथित रूप से हमला बोल दिया। इन वाहनों की खिड़कियों के शीशे टूट गये। हिंसक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए वहां तैनात सुरक्षा कर्मियों को बल का प्रयोग करना पड़ा और गोलियां चलानी पड़ी। भीड़ ने समीप में स्थित हरियाणा के वित्त मंत्री अभिमन्यु के निजी आवास पर भी हमला बोल दिया। पुलिस ने कहा कि भीड़ ने मकान के बाहर खड़ी एक कार में भी आग लगा दी और मकान में आगजनी का प्रयास किया। पुलिस ने बताया कि स्थिति को हाथ से बाहर निकलते देख सुरक्षा बलों ने गोलियां चलायीं जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गयी और करीब 21 अन्य घायल हो गये। परास्नातक चिकित्सा विज्ञान एवं अस्पताल संस्थान के अधिकारियों ने बताया, ‘‘एक अज्ञात व्यक्ति की मौत (संदिग्ध रूप से) गोलियों से लगी चोट के कारण हो गई।’’ अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि 21 घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिनमें एक की स्थिति नाजुक है। अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने सर्किट हाउस एवं पुलिस महानिरीक्षक, रोहतक के कार्यालयों पर हमला बोल दिया और इन भवनों पर पथराव किया। आईजीपी कार्यालय के बाहर खड़ी एक कार को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। एक बीमार व्यक्ति को स्थानीय अस्पताल लेकर जा रहे एक व्यक्ति के स्कूटर को भी प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया। राज्य के अन्य स्थानों पर विभिन्न राष्ट्रीय राजमागों एवं राज्य राजमार्गों पर यात्रा का प्रयास कर रहे विभिन्न लोगों के वाहनों के टायरों की हवा निकाल दी गयी। हरियाणा के जिन विभिन्न जिलों में जाट आंदोलन का प्रभाव देखने को मिला उनमें रोहतक, झज्जर, भिवानी, हिसार, फतेहाबाद, करनाल, जींद, यमुनानगर, सिरसा एवं गुड़गांव शामिल हैं। इन स्थानों पर सड़क परिवहन बाधित रहा। हरियाणा रोडवेज ने प्रभावित जिलों में स्थानीय एवं अंतरराज्यीय बस सेवाओं को निलंबित कर दिया। रोहतक एवं झज्जर सहित विभिन्न जिलों की मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। हरियाणा पुलिस के अलावा केन्द्रीय अर्ध सैन्य बलों के कर्मियों को प्रभावित जिलों विशेष कर सबसे अधिक प्रभावित रोहतक में तैनात किया गया है। वरिष्ठ पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने चंडीगढ़ के राज्य मुख्यालय में बैठक कर राज्य के विभिन्न हिस्सों में हिंसा के कारण उत्पन्न स्थिति की समीक्षा की। जींद से प्राप्त समाचार के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने जींद जिले में सड़कों और राष्ट्रीय राजमार्गों को लगातार तीसरे दिन बाधित रखा। सभी प्रमुख सड़कों के अलावा जींद जिले से गुजरने वाले एनएच 65 और एनएच 71 को छह जगहों तथा पांच राज्य राजमार्गों को 12 जगहों पर बाधित किया। इस बीच राज्य में चल रहे जाट आंदोलन के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने 21 फरवरी को रोहतक में होने वाले संत गुरु रविदास की 639वीं जंयती पर राज्य स्तरीय समारोह को रद्द करने का निर्णय किया है। हरियाणा के परिवहन मंत्री किशनलाल पंवार ने चंडीगढ़ में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह निर्णय आरक्षण को लेकर चल रहे मौजूदा आंदोलन के कारण रोहतक में सड़कों को सभी ओर से बाधित किये जाने के चलते किया गया है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: जाट आरक्षण आंदोलन हुआ हिंसक, मंत्री के घर पर हमला, कारों को फूंका Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल