ताज़ा ख़बर

क्या अब शुरू होने वाला है मंदिर आंदोलन का दूसरा चरण?

नई दिल्ली। रविवार को अयोध्या में अचानक हुए शिला पूजन के बाद ये सवाल उठ खड़ा हुआ है कि क्या अब मंदिर आंदोलन का दूसरा चरण शुरू होने वाला है। अयोध्या के साधु-संतों की मानें तो शिला पूजन इसी दिशा में उठाया गया कदम है। ध्यान देने वाली बात है कि 2007 के बाद से अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए पत्थर आने बंद हो गए थे। इतने साल बाद अब अचानक आई तेजी पर सभी की नजर है। अयोध्या में रविवार शाम को हुआ ये मंत्रोच्चार रामजन्म भूमि स्थल से थोड़ी ही दूर है। एक तरफ बड़ी सी शिला और उसके सामने राम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपालदास। नृत्य गोपालदास राम मंदिर आंदोलन के कुछ एक बड़े चेहरों में से एक हैं। शिला पूजन के दौरान उनके चेहरे का भाव बहुत कुछ कह रहा है। नृत्य गोपालदास समेत अयोध्या के तमाम संतों का ये कहना है कि 1989 में जब पिछली बार शिला पूजन हुआ था। तो विवादित ढांचा रास्ते से हट गया था। अब दूसरी बार शिला पूजन हो रहा है तो राम मंदिर के निर्माण का काम भी शुरू हो जाएगा। आपको बता दें कि इसी साल जून में विश्व हिंदू परिषद ने कहा था कि राम मंदिर के लिए पत्थर लाने का काम फिर शुरू किया जाएगा। अब 6 महीने बाद अचानक रामसेवक पुरम में राम मंदिर निर्माण के लिए नए पत्थरों को लाने का काम भी शुरू हो गया है। रविवार को ऐसी बड़ी-बड़ी शिलाओं को क्रेन के सहारे सहेजा गया। साधु-संतों के मुताबिक 2007 से अयोध्या में पत्थर आना बंद हो गया था। इतने सालों बाद अब दो ट्रक पत्थर भरकर अयोध्या लाए गए हैं। विश्व हिंदू परिषद के मुताबिक राम मंदिर बनाने के लिए कुल 2.25 लाख क्यूबिक फुट पत्थर की जरूरत है और इसमें से सवा लाख क्यूबिक फुट पत्थर यहां अयोध्या में तैयार पड़ा है। बाकी का पत्थर देशभर से यहां लाकर साल भर में तैयार किया जाएगा। 90 के दशक में देश भर से 2 लाख 75 हजार शिलाएं जमा की गईं थीं। खुले में पड़े रहने के कारण शिलाएं वो चमक खो चुकी हैं। अयोध्या के संतों के मुताबिक पैसे की तंगी और वीएचपी के पूर्व अध्यक्ष अशोक सिंघल की बीमारी की वजह से निर्माण का काम रुका हुआ था। अब सारी अड़चनों को दूर करने के बाद मंदिर निर्माण शुरू करने की कोशिश की जा रही है। राज्यसभा में एनडीए सरकार का बहुमत ना होने की वजह से संतों को संसद और सरकार से भी उम्मीद कम ही है। अब शिला पूजन की दोबारा हुई कोशिश देखने के बाद बाबरी केस के सबसे पुराने याचिकाकर्ता हाशिम अंसारी ने पीएम से दखल देने की मांग की है। कारसेवक पुरम में शिलाएं पहुंचने की खबर ने प्रशासन में भी हड़कंप मचा दिया है। अफसरों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया गया है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: क्या अब शुरू होने वाला है मंदिर आंदोलन का दूसरा चरण? Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल