ताज़ा ख़बर

'प्रधानमंत्री सोचते हैं कि भारत के मजदूर बेईमान होते हैं'

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोचते हैं कि 'मजदूर बेईमान होते हैं' और मजदूर संगठनों को कमजोर करके उनसे और कठोर परिश्रम कराया जाएगा। उन्होंने यहां इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस के 31वें पूर्ण सत्र के दौरान कहा, "प्रधानमंत्री सोचते हैं कि भारत के मजदूर बेईमान, कमजोर हैं और डंडे के बल पर उनसे काम लिया जा सकता है। वे सोचते हैं कि मजदूरों को अनुशासित करने की जरूरत है, ताकि उन्हें काम करने को मजबूर किया जा सके। राहुल गांधी ने राजस्थान, गुजरात व हरियाणा में बनाए जा रहे श्रम कानूनों की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी चाहते हैं कि मजदूर उनके सामने घुटने टेकें।" उन्होंने कहा, "अगर आप राजस्थान, गुजरात व अब हरियाणा में बनाए जा रहे श्रम कानूनों को देखें, तो पाएंगे कि मोदी जी ने मजदूरों पर बड़ा हमला शुरू कर दिया है।" राहुल ने कहा, "उनका सोचना है कि 'भर्ती करो और निकालो' तथा श्रम संगठनों को कमजोर कर वे मजदूरों से काम लेंगे। सरकार को तटस्थ होना चाहिए, लेकिन सरकार ने मजदूरों को अकेला छोड़ दिया है।"
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: 'प्रधानमंत्री सोचते हैं कि भारत के मजदूर बेईमान होते हैं' Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल