ताज़ा ख़बर

निलंबन पर बोले कीर्ति, कहा - डीडीसीए का मुद्दा पार्टी का मामला क्यों समझा जा रहा है?

नई दिल्ली। अहमदाबाद में बीजेपी से निलंबित सांसद कीर्ति आजाद ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि 'डीडीसीए का मुद्दा पार्टी का मामला कैसे है? मैं तो पार्टी से बाहर भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई लड़ रहा था। मैंने कोई भी पार्टी विरोधी गतिविधि नहीं की है। मैं पीएम से इस मामले में दखल को कहूंगा, वही बताएं कि मेरी गलती क्या है।' आम आदमी पार्टी से मिले होने के सवालों पर आजाद बोले - 'मैं तो सालों से यह लड़ाई लड़ रहा हूं। उस समय तो आप पार्टी अस्तित्व में भी नहीं थी, सो मैं उनसे कैसे मिला हो सकता हूं।' वहीं शत्रुघ्न सिन्हा के समर्थन देने के सवाल पर कीर्ति ने कहा कि समर्थन देने वालों का शुक्रिया। कीर्ति ने यह भी बताया कि वह निलंबन पर नोटिस का जवाब शाम तक देंगे और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते रहेंगे। इससे पहले भी पार्टी से अपने निलंबन के बारे में कीर्ति आजाद ने एनडीटीवी इंडिया से बात करते हुए कहा - 'मैं उम्मीद करता हूं कि पीएम मोदी मुझे बुलाएंगे और मेरे साथ न्याय होगा।' उल्लेखनीय है कि कीर्ति आजाद ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जेटली का नाम लिए बगैर आरोप लगाया था कि डीडीसीए में फर्जी कंपनियों को करोड़ों का भुगतान किया गया। आजाद पिछले काफी समय से क्रिकेट इकाइयों, खासकर डीडीसीए में कथित रूप से फैले भ्रष्टाचार को लेकर काफी मुखर रहे DDCA में भ्रष्टा चार के खुलासे का दावा करते हुए कीर्ति आजाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रें स में कहा कि DDCA ने कई फर्जी कंपनियों से करार कर करोड़ों रुपये दिए। DDCA में किराये पर लिए गए सामान पर बड़ी फिजूलखर्ची की गई। यहां तक की DDCA ने प्रिंटरों और कंप्यूपटरों तक को भारी कीमत पर किराए पर लिया। डीडीसीए मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के संसदीय दल से कहा कि अरुण जेटली उसी तरह बेदाग निकलकर आएंगे, जैसे लालकृष्ण आडवाणी हवाला मामले में आए थे। बीजेपी अध्यक्ष वेंकैया नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हवाले से कहा कि सरकार को बदनाम करने के लिए कांग्रेस फर्जी आरोप लगा रही है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: निलंबन पर बोले कीर्ति, कहा - डीडीसीए का मुद्दा पार्टी का मामला क्यों समझा जा रहा है? Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल