ताज़ा ख़बर

भारत-पाक की एनएसए स्तेर की बैठक हो रही है, गृह मंत्रालय को भी नहीं थी जानकारी

नई दिल्ली । भारत और पाकिस्तान के राष्ट्री य सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) की बैठक बैंकॉक में हुई 'गुपचुप' बैठक को लेकर कई सवाल उठे हैं। मजे की बात यह है कि यह सवाल केवल विपक्ष ही नहीं, देश की सुरक्षा के लिए जिम्मेैदार मंत्रालय यानी गृह मंत्रालय में भी उठ रहे हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत हो चुकी है, इसका इल्म किसी को नहीं था। यहां तक कि गृह मंत्रालय उसे भी बातचीत के बारे में कुछ पता नहीं था। एनडीटीवी इंडिया को मिली जानकारी के मुताबिक गृह मंत्रालय की आंतरिक सुरक्षा विंग को भी बैठक जानकारी नहीं थी। सुरक्षा विंग को जानकारी नहीं होना इस मामले में हैरान करने वाली है क्योंाकि यही विंग वो सब डॉजियर तैयार करता है जो इस तरह की मीटिंग्स में बांटे जाते हैं। चूंकि अब विदेश मंत्री सुषमा स्वीराज इस्लामाबाद जा रही है, वहां बातचीत का क्या रुख रहेगा इस बारे में भी मंत्रालय को कुछ नहीं बताया गया है। भाजपा सांसद आरके सिंह ने इस बारे में सधी प्रतिक्रिया दी। उन्होंवने कहा, 'बातचीत शुरू हुई, दोनों देशों के लिए यह अच्छी बात है।' उधर, विपक्ष सरकार भी सरकार के 'कभी हां, कभी न' वाले रुख को लेकर नाराज़गी दिखा रहा है। कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा, 'बातचीत करो लेकिन रुख साफ करो।' उधर, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के मुताबिक, दोनो देशों ने एक-दूसरे के एजेंडे को महत्वफ दिया। एनएसए की बातचीत में भारत की ओर से आतंकवाद और पाकिस्तान की ओर से कश्मीर का मुद्दा उठाया गया। गौरतलब है कि पाकिस्तान के नए सुरक्षा सलाहकार नासिर जंजुआ, वहां के सेना प्रमुख राहिल शरीफ़ के नजदीकी माने जाते हैं। चूंकि पाकिस्तान में विदेश नीति पर उसकी सेना का असर होता है, इसीलिए भारत के लिए यह फ़ायदे के सौदा था। गृह मंत्रालय की ओर से इन सभी बारे में कोई जानकारी साझा नहीं की गई है। ये पहली बार नहीं है इस से पहले नगा समझौता मामले में भी गृह मंत्रालय की नॉर्थ ईस्ट डिवीजन को बिलकुल अलग रखा गया था। सभी फ़ैसले प्रधानमंत्री कार्यालय में ही ले लिए गए थे।
यशवंत सिन्हा ने उठाए सवाल 
भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच हुई बातचीत को लेकर सियासत गरमा गई है अब बीजेपी के अंदर से सवाल उठने शुरु हो गए हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा ने इस बातचीत पर गहरा आश्चर्य जताया है. सिन्हा ने कहा है कि ऐसा क्या बदल गया है जो पाकिस्तान के साथ हम हर मुद्दे पर बातचीत को तैयार हो गए हैं। उन्होंने कहा कि बैंकाक में हुई बातचीत में आतंकवाद के साथ जम्मू-कश्मीर का भी मामला उठा. पाकिस्तान जिस बात पर अड़ा था उस पर अड़ा रहा लेकिन हम पीछे हट गये. उन्होंने कहा कि वह सरकार की नीति में आए इतने बड़े बदलाव से आश्चर्यचकित हैं और जानना चाहते हैं कि ऐसा क्या बदल गया है। इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा कि एनएसए स्तर की वार्ता को सरकार कैसे देखती है हमें नहीं पता. इस समय हमारे और पकिस्तान के मामले में इतनी अनिश्चता है कि कुछ भी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। कुछ दिन पहले पाकिस्तान के साथ वार्ता को लेकर सरकार और बीजेपी के प्रवक्ता पता नहीं क्या-क्या कह रहे थे और अब मैडम सुषमा पाकिस्तान जा रही है, ना पाकिस्तान को समझ आ रहा है ना हमें, मुझे लगता है ये खुद भी कंफ्यूज है. सबसे बड़ी मुश्किल तो इन्होंने खुद हुर्रियत लीडर की बात करके खड़ी की. पहले इसका निर्णय लें फिर और पाकिस्तान के साथ बात करें। सोमवार को भी केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल पर आतंकवादी हमला हुआ है और यह बात किसी से छिपी नहीं है कि आतंकवादी हमलों के पीछे पाकिस्तान का हाथ होता है. इससे पहले विपक्षी दलों ने भी इस बातचीत को लेकर सरकार पर निशाना साधा और सरकार से यह स्पष्ट करने को कहा कि इसके पीछे क्या कारण है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: भारत-पाक की एनएसए स्तेर की बैठक हो रही है, गृह मंत्रालय को भी नहीं थी जानकारी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल