ताज़ा ख़बर

आतंकवाद से मुकाबला जी-20 की बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए : मोदी

तुर्की। तुर्की की पर्यटन नगरी में शनिवार शुरू हुए जी-20 शिखर सम्मेलन में पेरिस हमलों का मुद्दा केंद्र बिन्दु बना रहा, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद से लड़ने के लिए एकीजुट वैश्विक प्रयासों का आह्वान किया, तो वहीं विश्व नेताओं ने एकस्वर में आईएसआईएस के नेटवर्क को 'निस्त-ओ-नाबूत' करने की बात कही। तुर्की में चल रहे दुनिया की शीर्ष 20 अर्थव्यवस्थओं के नेताओं के जी-20 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी बैठक आतंकवाद के खौफनाक साये में हो रही है, इसका मुकाबला करना जी-20 की निश्चित तौर पर बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए। जलवायु परिवर्तन से मुकाबले के लिए 7 सूत्री एजेंडा का प्रस्ताव किया, विदेश से धन भेजने की लागत कम किए जाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा, हमें 'कार्बन क्रेडिट' से 'ग्रीन क्रेडिट' की ओर रखने की जरूरत है, हमें न केवल ईंधन की खपत घटानी होगी, बल्कि अपनी जीवनशैली में भी बदलाव लाना होगा। वहीं इस सम्मेलन से इतर ब्रिक्स देशों के राष्ट्राध्यक्षों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि पेरिस में आतंक की भयावह घटना की हम एकस्वर से कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। आतंकवाद से मुकाबले के लिए संयुक्त वैश्विक कोशिश की जरूरत है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब भारत फरवरी 2016 से ब्रिक्स की अध्यक्षता का दायित्व लेगा, तब इसका ध्येय जवाबदेह, समावेशी और समग्र समाधान निकालने पर होगा। इस दो दिवसीय शिखर बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पेरिस हमले के संदर्भ में कहा, 'तोड़ मरोड़ कर व्याख्या की गई विचारधाराओं के आधार पर निर्दोष लोगों की हत्या करना न केवल फ्रांस पर हमला है, न केवल तुर्की पर हमला है, बल्कि यह सभ्य समाज पर हमला है।' उन्होंने जिहादी आईएसआईएस के नेटवर्क को 'निस्त ओ नाबूत' करने के प्रयासों को दोगुना करने का संकल्प लिया, साथ ही पेरिस हमलावरों को पकड़ने में फ्रांस की मदद करने का भी भरोसा दिया। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून ने कहा है कि वह जल्द ही संयुक्त राष्ट्र महासभा को आतंकवाद तथा उग्रवाद से निपटने के लिए एक व्यापक योजना सौंपेंगे। जी20 शिखर सम्मेलन में जहां मुख्य रूप से समावेशी आर्थिक विकास और जलवायु परिवर्तन के विषयों पर चर्चा अपेक्षित है, वहीं अब सोमवार को दो दिवसीय सम्मेलन के समापन में एक प्रस्ताव पारित किया जा सकता है, जिसमें आतंकवाद के लिए मददगार हालात पर ध्यान देकर अधिक व्यापक रुख अपनाने और इसकी आर्थिक सहायता की कड़ी को समाप्त करने के संबंध में बेहतर समन्वय और सूचनाओं के आदान-प्रदान की बात कही जाएगी। अधिकारियों ने कहा कि आतंकवाद पर यह विशेष प्रस्ताव शिखर सम्मेलन की मुख्य घोषणा से अलग हो सकता है। घोषणा में 'फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स' को तेजी से लागू करने की बात हो सकती है जिसमें लोगों द्वारा इस्लामिक स्टेट जैसे संगठनों को धन भेजने से रोकना शामिल है। आतंकवाद में प्रौद्योगिकी, संचार का इस्तेमाल होने और इंटरनेट समेत अनेक माध्यमों से आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने वाले संसाधनों के उपयोग से आतंकवादियों को दूर करने की भी योजना है। पेरिस में शुक्रवार की रात को हुए आतंकवादी हमले में कम से कम 129 लोग मारे गए और सैकड़ों अन्य घायल हुए। इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली है। वहीं स्थानीय मीडिया की खबरों के अनुसार देशभर में छापेमारी में दर्जनों आईएसआईएस आतंकवादियों व उनसे सहानुभूति रखने वाले लोगों को हिरासत में लिया गया है। पेरिस में शुक्रवार रात हुए आतंकवादी हमले के बाद सम्मेलन स्थल पर सुरक्षा बंदोबस्त और कड़े कर दिए गए हैं। इस काम में 12,000 सुरक्षाकर्मी, ड्रोन पकड़ने वाले उपकरण, लाइसेंस प्लेट रिकार्डिंग वाले 350 मोबाइल कैमरे तथा चेहरे की पहचान वाली प्रणालियां लगायी गई हैं।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: आतंकवाद से मुकाबला जी-20 की बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए : मोदी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल