ताज़ा ख़बर

पासवान को दलितों से प्रेम नहीं, उन्हें सिर्फ परिवार की चिंता, मुझे नीचा न दिखाएः जीतनराम मांझी

पटना। बिहार में राष्ट्रीय लोकत्रांतिक गठबंधन (एनडीए) में आजकल सब कुछ ठीक नहीं चल रहा हैं। इसका एक ताजा उदाहरण तब दिखा जब पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने तीखे शब्दोंब में केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान पर हमला बोला। मांझी ने अपने चुनाव क्षेत्र मखदुमपुर में पत्रकारों के सवालों के जवाब में पहली बार पासवान पर सीधा हमला बोला। दरअसल, मांझी हर मौके पर पासवान द्वारा उन्हें नीचा दिखाए जाने पर न केवल परेशान थे बल्कि उन्होंने मन बना लिया कि अब पासवान से सार्वजनिक रूप से दो-दो हाथ कर हिसाब बराबर करेंगे। पिछले दिनों एक चैनल के कार्यक्रम में भाग लेते हुए रामविलास पासवान ने कहा था कि मांझी राज्य स्तोर नेता हैं जबकि अपने बारे में उन्होंने कहा कि वो राष्ट्रीय स्तार के दलित नेता हैं। यही नहीं पासवान ने मांझी पर व्यंजग्ये करते हुए कहा कि वो राष्ट्रीय लोकत्रांतिक गठबंधन में नए-नए आए हैं और उन्हें अभी साबित करना बाकी है कि वो अपनी जाति मांझी का वोट ट्रासंफर करा पाते हैं कि नहीं। इसी के जवाब में मांझी ने अपनी भड़ास निकालते हुए कहा कि पासवान को केवल अपने परिवार की चिंता रहती है न कि दलितों की और वो उन्हें चींटी समझने की गलती न करें क्योंकि चींटी भी हाथी को परास्त कर सकती है। मांझी ने पासवान से पूछा कि आखिर उनकी पार्टी में हर पद पर उनके बेटे, भाई या दामाद ही क्यों आसीन हैं। निश्चित रूप से मांझी के इस हमले का पासवान को अंदाजा नहीं था और सोमवार को जब उनकी प्रतिक्रिया पूछी गयी तो उन्होंने सवालों को टाल दिया। लेकिन माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में अगर बीजेपी के नेताओं ने हस्तक्षेप नहीं किया तो इन दोनों दलित नेताओं के बीच वकयुद्ध और तेज हो सकता है। माना जा रहा है कि मांझी, पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान के उन बयानों से भी नाराज चल रहे हैं जिसमें चिराग ने मांझी के पार्टी के कई नेताओं को गठबंधन से टिकट न देने की वकालत की है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: पासवान को दलितों से प्रेम नहीं, उन्हें सिर्फ परिवार की चिंता, मुझे नीचा न दिखाएः जीतनराम मांझी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल