ताज़ा ख़बर

बिहार में 25 वर्षों से राज करने वालों को हिसाब देना चाहिएः पीएम मोदी

भागलपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के भागलपुर में रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 'जिन लोगों ने 25 साल से बिहार में राज किया, उन लोगों को अपने कामकाज का हिसाब देना चाहिए। ये लोग अपने काम का, कारनामों का हिसाब देने को तैयार नहीं है और मुझसे हिसाब मांग रहे हैं।' इस तरह पीएम ने नीतीश कुमार पर बिहार की जनता से वादाखिलाफी का आरोप लगाया। पीएम ने कहा, 'लोग वोट मांगने आएं तो जनता को सवाल भी करने चाहिए और बिहार के नौजवान को उनसे काम का हिसाब चाहिए। पीएम ने कहा, मैं भी 2019 में बिहार में दोबारा आकर अपने कामकाज का हिसाब दूंगा।' पीएम ने दो दिन पहले पटना के गांधी मैदान में हुई महागठबंधन रैली (जेडीयू-राजद-कांग्रेस गठबंधन) को तिलांजलि सभा का नाम दिया और कहा, 'इन लोगों ने राम मनोहर लोहिया, जयप्रकाश नारायण, कर्पूरी ठाकुर को तिलांजली दे दी। राममनोहर लोहिया और उनके सब शिष्यह देश को बचाने के लिए कांग्रेस के खिलाफ लड़ते रहे, लेकिन उन्हीं के चेले सत्तार स्वाोर्थ के लिए परसों गांधी मैदान में कांग्रेस के साथ बैठे थे। सत्ता। के लालच में उनके चेलों ने जेपी को तिलांजलि दे दी। अब चुनाव में इनके खिलाफ वोट डालकर बिहार के लोग इन्हेंे तिलांजलि देंगे।' उन्होंने कहा कि 'महागठबंधन रैली में बिहार के विकास पर कोई मुद्दे पेश करने की बजाय सब मुझ पर सवाल दाग रहे थे। ये लोग बिहार को दिए गए सवा लाख करोड़ के पैकेज पर बाल की खाल उधेड़ते रहे। लेकिन जातिवाद का ज़हर फैलाने वालों को भी मजबूरन पैकेज लाना पड़ा।' पीएम ने कहा, '14 वें फायनेंस कमीशन ने कहा है कि 3 लाख 76 हजार करोड़ रुपये केंद्र सरकार से 5 साल में मिलेगा। यह एक लाख 65 हज़ार करोड़ के पैकेज से अलग है। अपना कुछ नहीं दिल्ली से आने वाले पैसे हैं। जरा इन लोगों से पूछना चाहिए कि एक लाख छह हजार करोड़ रुपया कहां जाएगा? क्या यह पैसा चारे के लिए लगाया जाएगा? सत्तार के नशे में चूर लोग समझ लें कि वह बिहार के लोगों को कभी मूर्ख नहीं बना सकते। गरीबों की परवाह न करने वाली सरकार को जनता हटाए।' पीएम ने इससे पहले कहा, 'भागलपुर रैली में आई भीड़ ने बिहार में गत वर्षों की कई रैलियों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। अब पॉलिटिकल पंडित हवा का रूख पहचान लेंगे। बिहार की जनता विकास के लिए वोट डालने का निर्णय कर चुकी और अब इस विजय यात्रा को कोई नहीं रोक सकता। चाहे कितने ही दल या नेता एक हो जाए और कितने झूठ, भ्रम और धोखे दें, लेकिन अब बिहार के लोग विकासशील और प्रगतिशील बिहार बनाने, किसानों का कल्याखण, माता-बहनों की रक्षा करने वाला बिहार बनाने के लिए वोट डालने वाले हैं।' प्रधानमंत्री ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 'नेपाल में भूकंप आने पर मैंने बिहार में इसके असर जानने और कोसी नदी से सटे गांवों को बाढ़ से बचाने के लिए मैंने सजगता से काम किया।' उन्होेने राज्यढ सरकार का निशाना साधते हुए कहा कि 'केंद्र उसे जो रुपये देता है, वह उसका उपयोग तक नहीं कर पाते, तो बिहार का विकास कैसे होगा।' पीएम ने कहा कि 'बिहार आगे निकल गया तो हिंदुस्ता्न भी आगे निकल जाएगा।' बीजेपी के अलावा रैली में एनडीए के दूसरे नेता भी शामिल थे। रैली के मुद्देनजर शहर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहे। पीएम के आगमन को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: बिहार में 25 वर्षों से राज करने वालों को हिसाब देना चाहिएः पीएम मोदी Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल