ताज़ा ख़बर

व्यापमं कांड: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बर्खास्त करने की कांग्रेस की मांग, उठाए दस सवाल

नई दिल्ली/भोपाल। व्यापमं घोटाले को लेकर कांग्रेस ने आज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला तेज करते हुए कहा कि निष्पक्ष जांच के लिए उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए और मुख्यमंत्री इस मामले से जुड़ी 45 मौतों को लेकर अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते। विपक्षी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनको स्पष्टीकरण देना चाहिए और नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, शिवराज सिंह चौहान को बर्खास्त किया जाना चाहिए और व्यापमं घोटाले में निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने इस बात पर जोर दिया कि मध्य प्रदेश सरकार को अगली असामान्य मौत से पहले सीबीआई जांच का आदेश देना चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, व्यापमं का सबक:1 अदालत की निगरानी स्वतंत्र जांच की गारंटी नहीं देती। कार्यपालिका की जिम्मेदारी बनती है। मप्र सरकार को अगली असामान्य मौत से पहले सीबीआई जांच का आदेश देना चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता पीसी चाको ने यहां कहा, मुख्यमंत्री को नहीं बख्शा जा सकता। उन्हें जिम्मेदारी लेनी चाहिए। उन्होंने कहा, देश में जो हो रहा है उस पर प्रधानमंत्री को स्पष्टीकरण देना चाहिए और इसकी नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि राजग सरकार ने एक साल पहले लोगों से भ्रष्टाचार मुक्त और साफ-सुथरी सरकार का वादा किया था। उन्होंने कहा, अब वही सरकार और उसका नेतृत्व कर रही पार्टी पूरी तरह से घोटालों और भ्रष्टाचार के साये में हैं। चाको ने कहा कि प्रधानमंत्री भारत के लिए और यहां की समस्याओं को देखने के लिए बहुत कम समय निकाल पाते हैं, परंतु आज जो गंभीर हालात पैदा हुए हैं उसको देखते हुए उनको जिम्मेदारी लेनी चाहिए। व्यापमं घोटाले में सीबीआई जांच की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि चौहान के निकट और परिवार के लोगों पर गंभीर आरोप लगे हैं। चाको ने कहा, मुख्यमंत्री अगर सोचते हैं कि वह साफ-सुथरे हैं तो उनको इस मामले की सीबीआई जांच के लिए कहना चाहिए। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि व्यापमं द्वारा भर्ती एक महिला प्रशिक्षु उप निरीक्षक की मौत भी इसी घोटाले से जुड़ी हुई है। महिला की मौत सागर जिले की एक झील में हुई है। सिंह ने ट्वीट किया, व्यापमं द्वारा भर्ती की गई प्रशिक्षु पुलिसकर्मी ने सागर पुलिस अकादमी में खुदकुशी की। 46वी यां 47वीं (मौत)। कांग्रेस नेता ने मांग की कि पत्रकारों के खिलाफ अपनी टिप्पणी को लेकर भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय माफी मांगें। उन्होंने कहा कि उनकी टिप्पणी निंदनीय है। इसमें अहंकार की बू आती है। उन्हें माफी मांगनी चाहिए। युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राजीव सातव ने ट्वीट किया, इतना बड़ा घोटाला, कितनी जानें चली गई। फिर भी मप्र की भाजपा सरकार सीबीआई जांच के खिलाफ है। वे किसे बचा रहे हैं। उच्चतम न्यायालय मध्य प्रदेश के सनसनीखेज दाखिला और भर्ती घोटाले में राज्यपाल रामनरेश यादव की कथित संलिप्तता को लेकर उन्हें पद से हटाने संबंधी याचिका पर आज सुनवाई करने को राजी हो गया। प्रधान न्यायाधीश एच एल दत्तू और न्यायाधीश अरुण कुमार और अमित्व राय की पीठ ने कहा कि वह नौ जुलाई को मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल से संबंधित व्यापमं घोटाले तथा इस मुददे पर अन्य याचिकाओं के बारे में एक याचिका पर सुनवाई करेगा। वकीलों के एक समूह द्वारा दाखिल की गयी याचिका में यादव को हटाने और इस मामले में उनका बयान दर्ज किए जाने की मांग की गयी है। इससे पूर्व शीर्ष अदालत ने इस मामले की जांच को पूरा करने के लिए विशेष जांच दल को और चार महीने का समय दिया था जिसका गठन उच्च न्यायालय के एक आदेश के तहत किया गया था। करोड़ों रुपये के व्यापमं घोटाले में कई हाई प्रोफाइल पेशेवर, राजनेता और नौकरशाह आरोपी हैं। इस घोटाले में मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल कथित तौर पर संलिप्त है, जो अध्यापकों, मेडिकल अधिकारियों, कांस्टेबलों और वन रक्षकों जैसे विभिन्न पदों के लिए परीक्षाओं का आयोजन करता है। व्यापमं (मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल) द्वारा संचालित परीक्षा के माध्यम से पुलिस बल में भर्ती हुई एक 25 वर्षीय महिला प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर आज यहां एक झील में मृत पायी गयी। पुलिस ने इसके आत्महत्या का मामला होने का संदेह जताया है। प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर अनामिका सिकरवार का शव यहां सागर जिला मुख्यालय में पुलिस प्रशिक्षण अकादमी के समीप स्थित झील में पाया गया। शहर पुलिस अधीक्षक गौतम सोलंकी ने यह जानकारी दी। अनामिका शादीशुदा थी और मुरैना जिले की रहने वाली थी। वह व्यापम द्वारा संचालित परीक्षा में सब इंस्पेक्टर चुनी गयी थी। हालांकि सोलंकी ने बताया कि उसके चयन का व्यापम घोटाले से कोई लेना देना नहीं है और वह संदिग्ध लाभार्थी नहीं थी। उन्होंने बताया कि वह अपने कमरे से गायब पायी गयीं और बाद में उसका शव झील में मिला। यह आत्महत्या का मामला प्रतीत होता है। पुलिस उसे तुरंत जिला अस्पताल ले गयी जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने अकादमी में उसके कमरे को सील कर दिया है और अभी तक कोई आत्महत्या संबंधी नोट नहीं मिला है। सोलंकी ने बताया कि जांच के बाद ही मौत के असली कारण का पता चलेगा। उन्होंने बताया कि मामले में शुरुआती जांच जारी है। उधर, ट्रेनी सब इंस्पेक्टर अनामिका सिकरवार की मौत के मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से जब सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सागर मामले का व्यापमं से कोई संबंध नहीं है। हर मामले को व्यापमं से जोड़ा जाना ठीक नहीं है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: व्यापमं कांड: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बर्खास्त करने की कांग्रेस की मांग, उठाए दस सवाल Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल