ताज़ा ख़बर

डूबने से हुई थी बच्चों की मौत, शक में डायरेक्टर को मार डाला!

नालंदा। नालंदा के स्कूल में जिन दो बच्चों की मौत के बाद गुस्साई भीड़ ने स्कूल के डायरेक्टर को पीट-पीटकर मार डाला था, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक उन दो बच्चों की मौत पानी में डूबने से हुई थी। लोगों का आरोप था कि डायरेक्टर ने बच्चों को पीट-पीटकर मार डाला और संदिग्ध मौत दिखाने के लिए पानी में शव डाल दिए। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में साफ हुआ है कि बच्चों की मौत डूबने से ही हुई थी। बिहार के नालंदा के जगदीशपुर में एक स्कूल हॉस्टल में रहने वाले दो बच्चों की लाश पास के तालाब में मिली। इसके बाद गांववाले इस कदर गुस्साए कि उन्होंने स्कूल में जमकर तोड़फोड़ की। स्कूल बसों में आग लगा दी। लेकिन इतने भर से उनका गु्‌स्सा नहीं थमा। लोगों ने स्कूल के डायरेक्टर को बहुत बुरी तरह से पीटकर उसकी जान ले ली। गुस्साए लोगों ने लाठी, डंडा, पत्थर, लात-घूंसा सबसे पीट-पीट कर डायरेक्टर को अधमरा कर दिया। डायरेक्टर की एक आंख निकाले जाने की भी खबर है। पुलिस ने किसी तरह डायरेक्टर को वहां से ले जाकर अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गई। घटना नालंदा में डीपीएस स्कूल की है। डीपीएस के दो छात्रों की मौत से आक्रोशित ग्रामीणों ने स्कूल भवन और स्कूल के दो वाहनों मे आग लगा दी, साथ ही स्कूल के डायरेक्टर की बेरहमी से पिटाई कर हत्या कर दी। नाराज ग्रामीणों ने स्कूल बिल्डिंग और स्कूल के दो वाहनों मे आग लगा दिया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस को देखते ही ग्रामीण भड़क गए। गांववालों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया। जिसमें थानाध्यक्ष समेत कई पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। दरअसल, इस आवासीय विद्यालय के दो छात्रों का शव जब ग्रामीणों ने पानी से बाहर निकाला तो एक बच्चे की आंख और काम में गहरे जख्म के निशान मिले। जिसके बाद ग्रामीण भड़क गए और बवाल शुरू कर दिया। लोगों का आरोप है कि विद्यालय के डायरेक्टर ने दोनों छात्रों की बेरहमी से पिटाई की। जिससे दोनों की मौत हो गई और घटना को दुर्घटना में बदलने के लिए छात्रों के शवों को पानी में फेंक दिया गया। मीरपुर गाँव के महेश प्रसाद ने बताया कि सुबह करीब सात-आठ बजे देवेन्द्र प्रसाद सिन्हा पब्लिक स्कूल के दो छात्रों के हॉस्टल से गायब होने की ख़बर मिली। खोजबीन पर स्कूल के बगल की नहर से दोनों के शव बरामद किये गये। दोनों के मुंह और कान से खून निकल रहा था। भीड़ ने इल्ज़ाम स्कूल के निदेशक पर लगाया. आक्रोशित लोगों ने स्कूल के निदेशक को बेरहमी से पीटा। भीड़ ने स्कूल में आग लगाने के साथ-साथ दो गाड़ियों को भी जला डाला। वहीं नालंदा के पुलिस अधीक्षक डॉ सिद्धार्थ के अनुसार दोनों मृत बच्चे सागर (लउआर) और रवि रंजन (पंचवारा गाँव) के थे। दोनों इसी स्कूल के छात्र थे. यह स्कूल किसी बोर्ड से जुड़ा नहीं है। स्कूल के चार बच्चे आज सुबह शौच के लिए गये थे लेकिन इनमे से दो वापस नहीं लौटे। पुलिस को जब घटना की सूचना मिली तो वहां पहुंची. पक्की सड़क न होने की वजह से थोड़ा समय लगा। लेकिन करीब हज़ार- डेढ़ हज़ार की संख्या में जमा भीड़ बेकाबू थी। स्कूल के निदेशक देवेन्द्र प्रसाद सिन्हा को बेहतर इलाज के लिये सदर अस्पताल से पटना भेजा गया लेकिन पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: डूबने से हुई थी बच्चों की मौत, शक में डायरेक्टर को मार डाला! Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल