ताज़ा ख़बर

बिहार की सियासत में मची हलचल, नीतीश होंगे जनता परिवार के सीएम उम्मीदवार

नई दिल्ली। बिहार की सियासी खींचतान के बीच सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने लालू प्रसाद की मौजूदगी में नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया। मुलायम ने बताया कि लालू ने ही नीतीश के नाम की सिफारिश की। इस मौके पर लालू बोले, हमारी प्राथमिकता बीजेपी की दहशत को रोकना है। हम सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ एकजुट हैं। हम लगातार नीतीश सरकार का समर्थन कर रहे हैं। हमारी एकजुटता पर कई सवाल उठे, लेकिन हमने सबको गलत साबित किया है। मेरे और नीतीश के बीच कोई मतभेद नहीं हैं, हां, कभी होते थे, पर ये चलता रहता है। बीजेपी को रोकने के लिए जहर भी पीने को तैयार हूं। लालू ने कहा, मेरे परिवार के किसी बच्चे की राजनीति में रुचि नहीं है। हमने फैसले का अधिकार मुलायम सिंह यादव को दिया था। सारे देश कि निगाह बिहार पर है। इसके साथ ही लालू ने दोनों दलों के कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे संभल कर बोलें। हम सभी को एक होकर बीजेपी को बाहर करना है। सीटों के बंटवारे पर उन्होंने कहा कि दिल मिले तो सीटों पर भी बंटवारा भी हो जाएगा। वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि जनता दल (युनाइटेड) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) में सीटों के बंटवारे को लेकर किसी प्रकार का मतभेद नहीं है। उन्होंने स्पष्ट किया कि कांग्रेस भी राजद व जद (यू) गठबंधन में शामिल रहेगी। पटना में पत्रकारों से चर्चा के दौरान राजद के साथ विवाद की खबरों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, "राजद के साथ सीटों को लेकर कोई मतभेद नहीं है। कांग्रेस पार्टी भी हमारे साथ है। पिछले वर्ष हुए उपचुनाव में भी हम एक साथ थे।" मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का पद कोई मुद्दा नहीं है। उन्होंने कहा कि एकता के लिए सहमति बनी है न कि बिखराव के लिए। नीतीश ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर एक समिति बनेगी। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से दिल्ली में हुई मुलाकात के विषय में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा, इसके पहले भी मैं राहुल गांधी से मिल चुका हूं। आगामी विधानसभा चुनाव में हम साथ-साथ हैं। वर्तमान समय में भी कांग्रेस जद (यू) सरकार को समर्थन दे रही है। इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात के बाद कहा था कि मुलाकात अच्छी रही। नीतीश ने कहा कि कांग्रेस हमारे साथ है। परिवार जैसी है। उन्होंने कहा कि गठबंधन के मुद्दे पर आरजेडी से कोई विवाद नहीं है। हम तो विलय के पक्ष में हैं। सीट बंटवारे पर दोनों दल मिलकर तय करेंगे। साथ ही कांग्रेस से गठबंधन पर भी लालू की पूरी सहमति है। आपसी एकता के लिए हम सबमें पूरी तरह से सहमति है। मेरी पार्टी में भी संदेह जैसी कोई स्थिति नहीं है। उन्होंने कहा कि आरजेडी और जेडीयू की कल की बैठक में सीट बंटवारे पर बातचीत हुई। सीट बंटवारे पर फैसला लेने के लिए 3-3 सदस्यों की कमेटी बनाई गई है, लेकिन सीएम पद को लेकर नीतीश ने चुप्पी साधे रखी। उल्लेखनीय है कि अपनी पार्टियों के नेताओं की कई हफ्ते तक चली बयानबाजियों के बाद रविवार को नीतीश कुमार और लालू प्रसाद की नई दिल्ली में मुलायम सिंह यादव के आवास पर बैठक हुई। इसमें गठबंधन की अड़चनों को दूर करने के लिए बातचीत हुई, ताकि राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस राज्य में बीजेपी के सत्ता पर काबिज होने के प्रयासों को विफल किया जा सके। बैठक में जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव भी मौजूद थे। समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने नीतीश और लालू के बीच दो घंटे तक चली बैठक के बाद कहा कि यह तय किया गया है कि आरजेडी और जेडीयू बिहार चुनाव गठबंधन में लड़ेंगे। (साभार)
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: बिहार की सियासत में मची हलचल, नीतीश होंगे जनता परिवार के सीएम उम्मीदवार Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल