ताज़ा ख़बर

सोनिया गांधी पर ‘नस्लवादी’ टिप्पणी से नाराज़ कांग्रेसियों ने फूंका गिरिराज का पुतला, बर्ख़ास्तगी की मांग

नई दिल्ली/बेंगलुरु। कांग्रेस कार्यकर्ता पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ ‘‘अशोभनीय’’ टिप्पणियां करने पर केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह की बर्खास्तगी की मांग करते हुए आज राष्ट्रीय राजधानी और बेंगलुरु में सड़कों पर उतरे और विरोध प्रदर्शन किया। दिल्ली में जहां युवक कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक रिहायशी परिसर के निकट विरोध प्रदर्शन किया जहां गिरिराज सिंह रहते हैं, दिल्ली महिला कांग्रेस ने 11, अशोका रोड स्थित भाजपा के केन्द्रीय मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। पुलिस ने विट्ठल भाई पटेल हाउस परिसर के बाहर जमा हुए प्रदर्शनकारियों से बैनर छीन लिए। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री का पुतला दहन करने का कांग्रेस कार्यकर्ताओं की योजना विफल कर दी। पुलिस प्रदर्शनकारियों को एक पुलिस बस में भर कर ले गई। सिंह भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में हिस्सा लेने के लिए वस्तुत: कल ही बेंगलुरु रवाना हो गए थे। प्रदेश महिला कांग्रेस प्रमुख ओनिका मेहरोत्रा के नेतृत्व में प्रदर्शनकारी हाथों में तख्तियां लिए थे। वे केन्द्रीय मंत्रिपरिषद से सिंह को हटाने की मांग करते हुए नारे लगा रही थी। ओनिका ने पत्रकारों से कहा, ‘‘महज बयान वापस लेने पर कैसे अध्याय बंद किया जा सकता है। यह काफी नहीं है।’’ उन्होंने सोनिया के खिलाफ ‘‘नस्लवादी’’ टिप्पणी करने पर केन्द्रीय मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने की भी धमकी दी। पुलिस ने भाजपा मुख्यालय पर बैरिकेड खड़ा कर रखा था। वहां बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। उसके बाद, प्रदर्शनकारी गिरफ्तारी देने के लिए संसद मार्ग पुलिस थाने की तरफ कूच कर गए। उधर, बेंगलुरु में कांग्रेस और एनएसयूआई कार्यकर्ता उस होटल से तकरीबन एक किलोमीटर दूर एक प्रमुख चौराहे पर इकट्ठा हुए, जहां शीर्ष भाजपा नेता पार्टी की दो दिन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के लिए जमा हुए हैं। बैठक कल से शुरू होगी। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सिंह के खिलाफ नारे लगाए और उनका पुतला दहन किया। प्रदेश महिला कांग्रेस प्रमुख मंजुला नायडू ने सिंह की ‘‘नस्लवादी’’ टिप्पणियों की निंदा की और कहा कि उनके लिए सिर्फ माफी मांगना काफी नहीं है और उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए। बाद में, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटा दिया। केन्द्रीय मंत्री ने यह टिप्पणी कर एक बड़ा विवाद खड़ा कर दिया कि अगर सोनिया गांधी गोरी चमड़ी वाली नहीं होतीं तो क्या कांग्रेस पार्टी उनका नेतृत्व स्वीकार करती। सिंह ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा था, ‘‘अगर राजीव गांधी ने किसी नाइजीरियाई महिला से शादी की होती और अगर वह गोरी चमड़ी वाली महिला नहीं होतीं तो क्या कांग्रेस ने उनका (सोनिया का) नेतृत्व स्वीकार किया होता?’’ कांग्रेस ने इसपर तीखी प्रतिक्रिया करते हुए प्रधानमंत्री से सिंह को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त करने और राष्ट्र से माफी मांगने की मांग की है। कई महिला नेताओं ने भी सिंह की आलोचना की है और कहा है कि उनका बयान उनकी नस्लवादी मानसिकता और महिलाओं के प्रति उनकी सोच दिखाता है। प्रदेश महिला कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मंत्री की टिप्पणी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुप्पी उनके ‘मन की बात’ प्रतिबिंबित करती है। ओनिका ने कहा, ‘‘जब उनके मंत्री ऐसे बयान देना जारी रखते हैं तो कहां हैं प्रधानमंत्री मोदी जो खुद को प्रधान सेवक कहते हैं? भाजपा के लोग विवादित बयान देते रहते हैं और महज खेद जता कर बच जाते हैं। इस तरह के बयानों में मोदी सीधे जुड़े हैं और यह उनकी ‘मन की बात’ है जो मंत्री ने कही है।’’ प्रदर्शनकारियों में कई महिला पार्षद और महिला कांग्रेस की पदाधिकारी शामिल थीं। उन्होंने तख्तियां ले रखी थी और ‘नारी का अपमान, देश का अपमान’, ‘सोनिया गांधी जिंदाबाद’ तथा ‘भाजपा हाय हाय’ के नारे लगा रही थीं। उन्होंने सिंह का पुतला दहन करने से पहले उसे चप्पलों से पीटा। प्रदेश महिला कांग्रेस की पदाधिकारी रचना सचदेव ने कहा, ‘‘अगर कोई केन्द्रीय मंत्री सोनिया जी जैसी किसी कद्दावर नेता के खिलाफ इस तरह का बयान दे सकता है तो वह आम महिलाओं के बारे में क्या सोचते होंगे? हम इस तरह की मानसिकता नहीं बरदाश्त करने जा रहे हैं। अगर सिंह को बर्खास्त नहीं किया गया तो देश के दूसरे हिस्सों में प्रदर्शन किए जाएंगे।’’
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: सोनिया गांधी पर ‘नस्लवादी’ टिप्पणी से नाराज़ कांग्रेसियों ने फूंका गिरिराज का पुतला, बर्ख़ास्तगी की मांग Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल