ताज़ा ख़बर

सत्संग में भक्ति भाव से ओत-प्रोत हुए श्रद्धालु, समापन व भंडारा 4 अप्रैल को

मैरवा (सीवान)। मैरवा धाम स्थित नौतन मोड़ के निकट महावीर मंदिर के दूसरे वार्षिकोत्सव के अंतर्गत 31 मार्च से चल रहे सत्संग व राम कथा के दौरान वक्ताओं ने लोगों को भक्ति भाव से ओतप्रोत कर दिया। कार्यक्रम में विभिन्न इलाकों से आए चर्चित संत व विद्वान कथावाचकों ने अपनी समधुर वाणी से लोगों को धर्म-कर्म के प्रति जागरूक किया। महावीर मंदिर सेवा समिति के प्रमुख राजनन्दन यादव ने बताया कि कार्यक्रम समापन 4 अप्रैल को भव्य भंडारा व प्रसाद वितरण के साथ किया जाएगा। सत्संग के दौरान क्रांतिकारी वक्ता श्री अखिलेश मणि शांडिल्य ने कहा कि भगवान राम को भी अपने तरीके से विभन्न समस्याओं का सामना करना पड़ा था। उन समस्याओं से आज भी हमारा देश जूझ रहा है। गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं कि त्रेतायुग में भी भ्रष्टाचार चरम पर था। तब व्याप्त भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाने की चुनौती भगवान राम सामने भी थी। वर्तमान दौर की साम्प्रदायिक जुमलेबाजों की तरह तब भी जातियता और साम्प्रादायिकता का समर्थन करने वाले लोग थे। स्वयं परशुराम ने भ्रष्टाचार के केन्द्र रावण पर कभी हमला नहीं बोला, बल्कि एक जाति विशेष के खिलाफ बोलते रहे। शांडिल्य ने कहा कि भगवान राम ने उन अलगाववादी स्वरों को शांत किया और ससमतामूलक समाज की स्थापना के लिए काम किया। कार्यक्रम में साध्वी सुश्री सुधा जी ने बेहद कर्णप्रिय संगीतमय श्रीराम कथा को सुनाकर लोगों को ओतप्रोत कर दिया। सुधा जी ने लोगों से श्रीराम जैसे आचरण करने तथा अन्याय के विरुद्ध शांतिपूर्ण रूप से आवाज उठाने का आह्वान किया। इससे पूर्व कथावाचक श्री रामेश्वर पाण्डेच जी ने बड़े ही रोचक अंदाज में भक्त व श्रद्धालुओं को श्रीराम की जीवन शैली से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि यदि मनुष्य जीवन में सच्चा सुख पाना चाहता है तो उसे श्रीराम चरित को आत्मसात करना होगा। इस सत्संग कार्यक्रम में क्षेत्र के दूरदराज के गावों से भारी संख्या में लगातार श्रद्धालु पहुंच रहे हैं तथा पूरी तन्मयता व ध्यान से कथावाचकों की धार्मिक बातें सुन रहे हैं। सत्संग कार्यक्रम में मंच के संचालन की जिम्मेदारी प्रख्यात भजन गायक बाल्मीकि बाबा निभा रहे हैं। कार्यक्रम को सफल बनाने में महावीर मंदिर सेवा समिति के प्रमुख राजनन्दन यादव के अलावा कृष्णा जी कुशवाहा, डीडीएफपी के चेयरमैन उपेन्द्र पाण्डेय, रवि रंजन, सत्येन्द्र, उपेन्द्र यादव, फुलेना यादव, गेंदालाल यादव, अर्जुन दास, अजय पाठक आदि खास योगदा दिख रहा है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: सत्संग में भक्ति भाव से ओत-प्रोत हुए श्रद्धालु, समापन व भंडारा 4 अप्रैल को Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल