ताज़ा ख़बर

हिंसक हुआ 'पीके' का विरोध, सिनेमाघरों में तोड़फोड़

नई दिल्ली। आमिर खान की फिल्म 'पीके' के विरोध ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया है। अहमदाबाद और भोपाल में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने हिंसक प्रदर्शन किया। अहमदाबाद में आश्रम रोड पर सिटी गोल्ड, सिनेमैक्स और शिव सहित अनेक सिनेमाघरों में तोड़फोड़ की गई।भोपाल में भी एक सिनेमाघर में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने घुसने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें। रोक दिया। यूपी और छत्तीगसगढ़ सहित कई राज्योंओ के अलग-अलग शहरों में भी 'पीके' के खिलाफ प्रदर्शन किए गए। सोमवार को भोपाल में ज्योढति सिनेमा के बाहर प्रदर्शन करते बजरंग दल के कार्यकर्ता। बजरंग दल सहित कई हिंदू संगठनों ने आरोप लगाया है कि 'पीके' हिंदू धर्म के बारे में गलत बातें प्रचारित करती है। संगठनों के अनुसार, 'पीके' में भगवान शिव का अपमान किया गया है। फिल्म के एक दृश्य में भगवान शिव पर दूध चढ़ाए जाने का मजाक बनाया गया है और कहा गया है कि इस तरह दूध की बर्बादी होती है। ये दूध गरीब और जरूरतमंदों के बीच बांटा जाना चाहिए। विश्व हिंदू परिषद के नेता बीएल तिवारी ने कहा कि आमिर जैसे लोगों को इसी देश में कमाई करनी है और हिंदुओं की बुराई भी करनी है। आमिर खान की फिल्म 'पीके' से कोई दृश्य नहीं हटाया जाएगा। सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष लीला सैमसन ने फिल्म पर पाबंदी की हिंदू संगठनों की मांग के बीच यह साफ कर दिया है। सैमसन ने कहा, "फिल्म को रिलीज किया जा चुका है। हरेक फिल्म किसी न किसी की धार्मिक भावनाओं को आहत कर सकती है। हम दृश्य हटाकर किसी की रचनात्मकता को खत्म नहीं कर सकते।" विवादित सीन हटाने की मांग करने वालों में गोरखपुर से भाजपा सांसद महंत आदित्यनाथ भी शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा, "मैंने फिल्म देखी नहीं है, लेकिन अगर इसमें हिंदू धर्म के विरोध में कुछ दिखाया गया है, तो इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती और ऐसे सीन तत्काल हटा लेने चाहिए।" रविवार को बाबा रामदेव ने भी ऐसी ही मांग की थी। रामदेव ने कहा, "फिल्म व फिल्म से जुड़े लोगों का बहिष्कार किया जाना चाहिए। ईसाई या मुस्लिम धर्म के बारे में कुछ कहना या दिखाना हो तो लोग सौ बार सोचते हैं। लेकिन हिंदू धर्म के बारे में बिना कुछ सोचे-समझे जो मन में आता है, वो कह या दिखा देते हैं। यह शर्मनाक है।" वहीं, कई मुस्लिम संगठनों ने भी फिल्म पर प्रतिबंध की मांग का समर्थन किया। रविवार को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने आगरा के सिनेमाघर के सामने विरोध प्रदर्शन किया और यहां लगे फिल्म के पोस्टर फाड़ दिए। इससे पहले द्वारकापीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा था कि अगर हिंदू धर्म के विरोध में दिखलाए जाने वाले सीन वापस नहीं लिए गए, तो वह आमिर खान का सामाजिक बहिष्कार करवाएंगे। उन्होंने लोगों से 'पीके' नहीं देखने की अपील भी की थी।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: हिंसक हुआ 'पीके' का विरोध, सिनेमाघरों में तोड़फोड़ Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल