ताज़ा ख़बर

गांवों में छिपी प्रतिभाओं को उचित मंच देना डीडीएफपी का मुख्य लक्ष्यः उपेन्द्र

सीवान। देव दर्शन फिल्म्स प्रोडक्शन (डीडीएफपी) के चेयरमैन व फिल्म निर्माता उपेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि उनकी कंपनी का मुख्य उद्देश्य गांवों-देहातों में छिपी प्रतिभाओं को सामने लाकर उचित मंच देना है ताकि वे भी माया नगरी मुम्बई तक पहुंचकर अपनी कला का जादू बिखेर सकें। न्यूज फॉर ऑल (एनएफए) के साथ एक खास मुलाकात में उपेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि डीडीएफपी का मुख्य केन्द्र बाबा हरिराम की नगरी मैरवा धाम को रखा गया है। मैरवा पश्चिमी बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों का एक अहम शहर है। इसलिए क्षेत्रीय प्रतिभाओं को मैरवा स्थित डीडीएफपी के कार्यालय में पहुंचने में दिक्कत नहीं होगी और हर कोई आसानी से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकेगा। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द डीडीएफपी के बैनर तले ‘बाबा हरिराम राउर महिमा आपार’ नामक भोजपुरी ऑडियो-वीडियो का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए प्रतिभाओं की तलाश का काम आरंभ हो गया है। उन्होंने क्षेत्रीय प्रतिभाओं का आह्वान किया कि वे 26 जनवरी 2015 तक डीडीएफपी कार्यालयों से आवेदन पत्र लेकर जमा करा दें। ताकि कलाकारों का चयन आसानी से किया जा सके। डीडीएफपी के चेयरमैन उपेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि ‘बाबा हरिराम राउर महिमा आपार’ का निर्देशन चर्चित निर्देशक जेपी दूबे द्वारा किया जाएगा। एलबम के निर्माण के लिए शूटिंग स्थल की खोज भी तेजी से चल रही है।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: गांवों में छिपी प्रतिभाओं को उचित मंच देना डीडीएफपी का मुख्य लक्ष्यः उपेन्द्र Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल