ताज़ा ख़बर

धर्म को केवल सुने नहीं, जीवन में धारण करें: राजेन्द्र मुनि

बंगलुरू। धर्म को मात्र सुनने से नहीं, बल्कि जीवन में धारण करने से ही जीवन का कल्याण हो सकता है। मैं तो तुम्हें ऐसा जौहरी बनाना चाहता हूं कि हजार कांच के टुकड़ों में से भी हीरे की परख कर लो। सांसारिक जीवन में अच्छे-बुरे का बोध हो जाए। यह विचार श्रमण संघीय उपप्रवर्तक डा.राजेन्द्र मुनि ने शुक्रवार को कर्नाटक प्रान्त की राजधानी बंगलुरू शहर के चिकपेट जैन स्थानक में धर्मसभा को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि आज मानव खाना खाता तो है और सही भी खाता है, लेकिन व्यवस्थित नहीं खाता है। इसका मतलब यही है कि मात्र करने और सही करने से मंजिलें नहीं मिलतीं, सफलता के लिए हमें सिस्टम के अनुसार ही कार्य करना होगा। उपस्थित जनमेदनी को संबोधित करते हुए उपाध्याय रमेश मुनि ने कहा कि जीवन में धर्म की शुरुआत इस शोध से होती है कि हमें क्या करना जरूरी है और क्या करना गैर जरूरी। जिस दिन यह बात समझ में जाएगी तो तुम धर्म के पथ पर चल पड़ोगे। इससे पूर्व धर्मसभा का शुभारंभ नवकार महामंत्र स्तुति से हुआ। ओसवाल स्थापना दिवस मनाया देश की आजादी व वर्तमान समय में भी ओसवाल समाज का महत्वपूर्ण योगदान है। वर्तमान समय में भी ओसवाल समाज शिक्षा, चिकित्सा इत्यादि मानव सेवा के कार्यों में अग्रसर है। इस समय 1444 ओसवाल गौत्र पूरे भारत में विद्यमान हैं। लगभग 2540 वर्ष पूर्व ओसिया नगरी (राजस्थान) में महाराजा उपलदेव एवं मंत्री उहड़देव सहित लाखों लोगों को आचार्य रत्नप्रभ सूरी ने धर्ममय उपदेश देकर ओसवाल वंश की उत्पत्ति की। उपरोक्त विचार डा. पुष्पेन्द्र मुनि ने शुक्रवार को चिकपेट जैन स्थानक में 2571 वें ओसवाल स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित धर्मसभा में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि ओसवाल जाति का गौरव उन महान् पुरुषों से भी है जिन्होंने प्रशासन, राजनीति, धर्मनीति, अर्थनीति, विज्ञान, शिक्षा, संस्कृति, कला और अध्यात्म इत्यादि क्षेत्रों में अपना उल्लेखनीय योगदान दिया और अपनी अभूतपूर्व प्रतिभा, त्याग और सेवा के बल पर ओसवाल जाति के इतिहास को दैदिप्यमान किया। उन्होंने कहा कि विश्व में अमरनाम दानवीर भामाशाह स्थानकवासी ओसवाल थे जिन्होंने अपनी सर्वस्व संचित व अर्जित लक्ष्मी संकटकाल में महाराणा प्रताप को समर्पित कर दी।
  • Blogger Comments
  • Facebook Comments

0 comments:

Post a Comment

आपकी प्रतिक्रियाएँ क्रांति की पहल हैं, इसलिए अपनी प्रतिक्रियाएँ ज़रूर व्यक्त करें।

Item Reviewed: धर्म को केवल सुने नहीं, जीवन में धारण करें: राजेन्द्र मुनि Rating: 5 Reviewed By: न्यूज़ फ़ॉर ऑल